रविवार, 15 नवंबर 2009

Aisee kyaa bhuul hui ki gaayab mujhko kiyaa?


पता नहीं ऐसी कौन सी खता हो गयी कि ब्लागवानी ने मेरी "पोस्ट" लेने से इंकार कर दिया। रोज नहाता हूं , पूजा-पाठ से भी गुरेज नहीं करता, सभी के लिये दोस्ताना, आदर का भाव रखता हूं फिर कौन सी बिल्ली छींक गयी कि ऐसा-वैसा-जैसा भी समझ में आता है बिना द्वेष भाव रखे लिखे हुए में ऐसे कौन से एलर्जी के जीवाणुं आ गये जो उसे बहिष्कृत कर दिया गया। हां अपनी फोटो जरूर बदलने की जुर्रत की थी। दो दिन से लग रहा था कि कुछ तो गड़बड़ है पर ध्यान नहीं दिया। वैसे भी इस ससुरे कमप्यूटर के बारे में इतनी ही जानकारी है जितनी सूट पहनने की। कपड़ा कैसा है या दर्जी कैसे सिलता है उस बारे में शून्य बटे सन्नाटा ही रहता है। परसों ऐसे ही ब्लागवाणी के नये ब्लागों पर नजर गयी तो वहां "अलग सा" टंगा दिखा। घंटियां बजने लगीं। क्लिक किया तो बकलम खुद को पाया। पर पिछले सारे आंकड़े गायब थे। उसी को फिर ले हुजूर के दरबार में दस्कत दी तो मेहरबानी से पिछली सीट पर जगह तो मिल गायी। पर ऐसा क्यूं हुआ समझ नहीं पा रहा हूं सो आप सब के सामने दुखड़ा ले कर हाजिर हूं।

 
यह सब इतना तुका-बेतुका इस लिये सफेद पर काला किया है कि आप की सहायता मिल सके, गलती समझने  में
 

8 टिप्‍पणियां:

चंद्रमौलेश्वर प्रसाद ने कहा…

रवि जी या पाबला शायद समाधान दें। हम तो भैया गंवार है इस मामले में :)

राज भाटिय़ा ने कहा…

शर्मा जी आप के ही ब्लांग पर कोई दिक्कत होगी, काफ़ी समय से आप का फ़ीड मेरे ब्लांग पर भी नही आ रहा था, आप धयान से सारे विजेट चेक करे मेरे साथ भी यह हो चुका है, लेकिन कोई बात नही यह अपने आप ठीक हो जायेगा, क्योकि आप के ब्लांग को मेने देखा कोई भी बेकार विजेट नही, फ़िर भी बाकी साथियो की राय भी जरुरी है. वेसे नये चित्र मै बडे समार्ट लग रहे है, शायद ब्लांग बाणी ने इसी लिये "अलग सा " टांग दिया हो:)

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

भाटिया जी,
क्या बात है, आपने तो मेरे गुब्बारे में हवा भर दी। (:

Udan Tashtari ने कहा…

चलिये, अब तो आ रहा है...शुभकामनाएँ.

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

समीर जी,
कहीं ना कहीं अभी भी गड़-बड़ है।

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

शर्मा जी इस समस्या का समाधान ब्लागवाणी ही कर सकती है, है तो बड़ी समस्या।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

आपकी शिकायत वाजिब है।
इसका हल प्रेम जी या समीर जी ही
निकाल सकते हैं।

ajay saxena ने कहा…

शुभकामनाएँ

विशिष्ट पोस्ट

हमें अपने बचपन को बचाए रखना है

हमारे विद्वान ऋषि-मुनियों ने अपने ग्रंथों में शिक्षा देते समय  मानवता पर, इंसानियत पर जोर दिया है ! यदि इंसान इंसानियत ना छोड़े, मानव; महामान...