सोमवार, 31 जनवरी 2022

येड़ा बन कर पेड़ा खाना

बातचीत के दौरान ही माधवजी सोनू को आवाज लगाते और उसके आने पर सबके सामने उसे एक दो रुपये का और एक पांच रुपये का सिक्का दिखला कर कोई एक उठाने को कहते थे ! जिस पर सोनू झट से दोनों सिक्कों में कुछ बड़ा दो रुपये का सिक्का ही उठाता था ! इस बात पर सब हंसने लगते, सोनू की कमअक्ली पर ! पर सोनू पर उनके हंसने या अपने मजाक बनने का कोई असर नहीं होता, वह तो सिक्का उठा, यह जा; वह जा.................!

#हिन्दी_ब्लागिंग 

मुहावरे जिंदगी के तजुर्बों पर ही बनते हैं ! इनमें समाज और लोगों के अनुभवों का सार होता है। ऐसा ही एक मुहावरा है, ''येड़ा बन कर पेड़ा खाना !'' वैसे तो यह एक बंबइया मुहावरा है, जिसका मतलब होता है, खुद को बेवकूफ जतला कर अपना अभिलाषित या वांछित पा लेना ! पर आज कल ऐसे येड़े देश भर में अपने पेड़ों की तलाश में विचरते नजर आ रहे हैं ! बस जरा सा फर्क है कि वे दूसरों को येड़ा बना पेड़ा खुद खा रहे हैं ! इसी मंजर पर एक पुरानी बात याद आ गई ! आशा है गुदगुदाएगी जरूर !

जिस दिन मैंने पांच का सिक्का उठा लिया, उसी दिन यह खेल बंद हो जाएगा और मेरी आमदनी भी 

रायपुर में मेरी रिहाइश के दौरान मेरे एक पडोसी थे, माधव जी ! मिलनसार, हंसमुख, खुश मिजाज ! अच्छा-खासा परिवार ! उनके स्वभाव के कारण उनके मित्रों की भी अच्छी-खासी जमात थी ! घर में किसी न किसी का आना-जाना लगा ही रहता था। उनके सात और पांच साल के दो लड़के थे ! बड़े को प्यार से सोनू तथा छोटे को छोटू कह कर बुलाया जाता था। अपने मजाकिया स्वभाव के कारण माधव जी अक्सर अपने घर आने वालों को सोनू की 'बुद्धिमंदता' का खेल दिखलाते रहते थे ! होता क्या था कि बातचीत के दौरान ही माधवजी सोनू को आवाज लगाते और उसके आने पर  सबके सामने उसे एक दो रुपये का और एक पांच रुपये का सिक्का दिखला कर कोई एक उठाने को कहते थे ! जिस पर सोनू झट से दोनों सिक्कों में कुछ बड़ा दो रुपये का सिक्का ही उठाता था ! इस बात पर सब हंसने लगते, सोनू की कमअक्ली पर ! पर सोनू पर उनके हंसने या अपने मजाक बनने का कोई असर नहीं होता, वह तो सिक्का उठा, यह जा, वह जा।माधवजी भी मजे ले-ले कर बताते कि बचपन से ही सोनू बड़ा सिक्का ही उठाता है, बिना उसकी कीमत जाने ! जबकि छोटू को इसकी समझ है। यह खेल काफी समय से चला आ रहा है, पर सोनू वैसे का वैसा ही है !

पर सोनू की माँ, श्रीमती माधव को यह सब अच्छा नहीं लगता था कि कोई उनके बेटे का मजाक बनाए। पर कई बार कहने, समझाने के बावजूद भी माधवजी अपने इस खेल को बंद नहीं करते थे। एक बार सोनू के मामाजी इनके यहाँ आए। बातों-बातों में बहन ने भाई को इस बारे में भी बताया। मामाजी को भी यह बात खली। उन्होंने अकेले में सोनू को बुलाया और कहा, बेटा तुम बड़े हो गए हो ! स्कूल जाते हो, पढाई में भी ठीक हो, तो तुम्हें क्या यह नहीं पता कि दो रुपये, पांच रुपयों से कम होते हैं ?

पता है, सोनू ने कहा !  

तब तुम सदा लोगों के सामने दो रुपये ही क्यों उठाते हो ? लोग तुम्हारा मजाक बनाते हैं ? मामाजी ने आश्चर्य चकित हो पूछा।

मामाजी ! जिस दिन मैंने पांच का सिक्का उठा लिया, उसी दिन यह खेल बंद हो जाएगा और मेरी आमदनी भी ! सोनू ने निर्लिप्त भाव से जवाब दिया !

मामाजी हतप्रभ से अपने चतुर भांजे का मुख देखते ही रह गए ! ठीक वैसे ही जैसे हम आज अपने आस-पास के चतुरों की चतुराई देखते रह जाते हैं ! पता ही नहीं चलता कौन येड़ा है और कौन पेड़ा खा रहा है !

सोमवार, 24 जनवरी 2022

मोमबत्तियों की संख्या से विचलित ना हो, उनके बढ़ते आलोक का आनंद लेने वाले

पोर्टब्लेयर और दिल्ली, दोनों जगहों के तापमान में बहुत ज्यादा अंतर था। वहां एक टी शर्ट भी भारी लगती थी तो यहां सब कुछ ठंड की चपेट में था ! पर जो है वह तो हइए है ! शुक्र इस बात का रहा कि उम्र-दराज होने के बावजूद किसी भी सदस्य को कोई खास तकलीफ नहीं हुई जबकि पूरा दौरा कुछ थका देने वाला ही था ! पर हरेक सदस्य ने यह सिद्ध कर दिया कि उम्र सिर्फ एक अंक ही है ! तन पर भले ही समय की छेनी अपना असर दिखा रही हो, दिमाग युवा और मन अभी भी बच्चा ही है ! हम वे लोग हैं जो केक पर की मोमबत्तियों की संख्या से विचलित ना हो कर उनके बढ़ते अलोक का आनंद लेते हैं..............!       

#हिन्दी_ब्लागिंग 

जनकपुरी की #RSCB (Retired and Senior Citizen Brotherhood) संस्था द्वारा आयोजित 11 से 16 दिसंबर की पोर्टब्लेयर यात्रा का पांचवां दिन घर वापसी के रूप में शुरू हुआ ! नील द्वीप से अपने उसी क्रूज, Green Ocean, से ही वापसी भी थी ! पोर्टब्लेयर से हैवलॉक होते हुए यह नील टापू तक करीब ढाई घंटे में पहुंचता है पर वापसी में सीधे नील से पोर्टब्लेयर आने में दो घंटे ही लगते हैं ! पर यह समय भी गाने-बजाने में कैसे निकल जाता है, पता ही नहीं चलता ! दोपहर एक बजते-बजते पोर्टब्लेयर के उसी होटल J में, जिसमें दो दिन पहले ठहरे थे, पहुँच फिर चेक इन कर लिया गया ! यह होटल अबरदीन बाजार में स्थित है यहाँ से मरीना बीच की दूरी सिर्फ पांच मिनट,पैदल की है ! भोजनोपरांत कुछ लोग शहर भ्रमण और कुछ लोग खरीदारी के लिए निकल गए तो कुछ ने अपने कमरे में ही समय व्यतीत करने का निश्चय किया !


होटल से 

अपनी मनमोहक खूबसूरती, शांति और जलीय खेलों, जलीय जीव-जन्तुओं को बेहद करीब से देख सकने की सुविधा जैसी रोमांचक खूबियों के कारण अंडमान द्वीप समूह पर्यटकों को सदा आकर्षित करता रहा है ! दिल्ली से करीब ढाई हजार किमी (2485) दूर इसकी राजधानी पोर्ट ब्लेयर अपनी ऐतिहासिक जेल, म्यूजियम, जापानी बंकर, मरीना पार्क जैसी बेहद सुंदर जगहों के लिए विश्व प्रसिद्ध है ! यहां की वन संपदा के दोहन के लिए सन1789 में अंग्रेज सरकार द्वारा लेफ्टिनेंट रेगिनाल्ड ब्लेयर के नेतृत्व में एक सर्वे करवाया गया तथा उसी सर्वेयर के नाम पर ही यहां के मुख्य द्वीप का नाम पोर्ट ब्लेयर रख दिया गया !  

क्लॉक टॉवर 



काले पानी की सजा पाने वालों में विभिन्न प्रदेशों, जातियों, धर्मों के स्त्री-पुरुष दोनों ही होते थे ! ब्रिटिश सरकार के अधिकारी इन कैदियों में से कइयों की सजा समय-समय पर उनका आचरण देख काम या माफ करते रहते थे ! पर सजा मुक्त होने पर भी उन्हें मुख्य भूमि पर ना भेज, वहीं बसा दिया जाता था। उनके आपस में विवाह भी करवा, परिवार बनवा, कुछ टुकड़े जमीनों के भी दे दिए जाते थे ! इस तरह ये द्वीप बसते चले गए ! सरकार की पुलिस में भी हर धर्म जाति के लोग थे, तो उनकी आस्था और धर्म की तुष्टि को पूरा करने के लिए अंग्रेजों ने पोर्टब्लेयर में एक-एक मंदिर, गुरुद्वारा और मस्जिद का निर्माण करवा उनका संचालन पुलिस विभाग को सौंप दिया ! आज भी यह प्रथा चली आ रही है और इन तीनों धर्मस्थलों को पुलिस के नाम से ही जाना जाता है !   

पुलिस मंदिर 

इनके अलावा अबरदीन मार्ग पर हनुमान जी का एक और मंदिर भी है। इसका गुंबद देश के दक्षिणी भागों के मंदिरों जैसा है ! इसकी मुख्य प्रतिमाएं पूर्णतया सोने से मढ़ी हुई हैं, जो बहुत ही सुंदर और सजीव सी हैं ! फिर भी किसी तरह का पहरा या अतिरिक्त सुरक्षा की जरुरत महसूस नहीं की जाती ! शायद द्वीप की रक्षार्थ सागर की उपस्थिति ही पर्याप्त है ! आश्चर्य की बात है कि इन सब दर्शनीय स्थलों का उल्लेख किसी भी यात्रा विवरणिका में उपलब्ध नहीं करवाया जाता ! पर जो भी हो यह जगहें देखने लायक जरूर हैं।

मंदिर की छत पर बना अत्यंत सुंदर चित्र 



वापसी 
शाश्वत नियम है कि हर चीज का अंत होता ही है ! सो इस यादगार यात्रा का समापन भी आ ही पहुंचा ! आते समय बेंगलुरु होते हुए आए थे, लौटते वक्त Go First की कोलकाता होते हुए दिल्ली की फ्लाइट थी ! दोपहर सवा ग्यारह बजे शुरू हुई हवाई यात्रा ने घुमाते-फिराते शाम पांच बजे दिल्ली पहुंचा दिया ! ग्रुप के मित्रों ने आपस में संबंध बनाए रखने के वादे के साथ विदा ली ! दोनों जगहों के तापमान में बहुत ज्यादा अंतर था, वहां एक टी शर्ट भी भारी लगती थी तो यहां सब कुछ ठंड की चपेट में था ! पर जो है वह तो हइए है ! शुक्र इस बात का रहा कि उम्र-दराज होने के बावजूद किसी भी सदस्य को कोई ख़ास तकलीफ नहीं हुई जबकि पूरा दौरा कुछ थका देने वाला ही था ! पर हरेक सदस्य ने यह सिद्ध कर दिया कि उम्र सिर्फ एक अंक है ! तन पर भले ही समय की छेनी अपना असर दिखा रही हो, दिमाग युवा और मन बच्चा ही होना चाहिए ! हम वे लोग हैं जो केक पर की मोमबत्तियों की संख्या से विचलित ना हो कर उनके बढ़ते आलोक का आनंद लेते हैं ! 

गुरुवार, 20 जनवरी 2022

अंडमान का नील द्वीप यानी शहीद टापू

करीब दो सौ मीटर चलने के बाद हमारे बाईं तरफ वह पुल दिखने लगा ! प्रकृति की अद्भुत करामात थी ! एक चट्टान पर आर्क की तरह की दूसरी पत्थर की रचना पुल की आकृति बना रही थी ! पता नहीं कितने सालों से भूकंप और सागर की हवा के थपेड़े सहते, यूँ ही, समय रुपी काल से अपने अस्तित्व को बचाने के लिए संघर्ष किए जा रही है ! अद्भुत था सब कुछ ! गर्मी के साथ-साथ धूप भी बहुत तेज थी, सो कुछ देर ठहर, वापस हो लिए.....! 

#हिन्दी_ब्लागिंग 

हैवलॉक के अद्भुत राधानगर बीच पर से ढलते सूर्य की अलौकिक छवि को अपने दिलो-दिमाग में समेटे हम होटल लौट तो आए थे पर उस ढलती शाम की यादें आँखों में कैद सी हो कर रह गई थीं ! अगले दिन उन्हीं के साथ ही अगले पड़ाव नील टापू, जो इस #RSCB (Retired and Senior Citizen Brotherhood) संस्था द्वारा आयोजित अंडमान यात्रा का अंतिम पड़ाव था, पर भी जाना था। नील द्वीप अपनी विभिन्न सब्जियों, साग-भाजी तथा वनस्पतियों के लिए प्रसिद्ध है ! इसे सब्जियों की खान भी कहा जा सकता है !

सुबह नाश्ते इत्यादि का कार्यक्रम निपटा जब नील द्वीप पहुंचे तो पूरी दोपहर हो चुकी थी ! नील द्वीप का नाम बदल कर अब शहीद टापू कर दिया गया है। पोर्टब्लेयर से कोई 35-40 किमी दूर यह 13.7 Sq. किमी का एक छोटा सा खूबसूरत टापू है ! एक बात जो बहुत सुखद और आश्चर्य भरी लगी कि हैवलॉक के सारे गांवों के नाम श्री कृष्ण जी के नामों पर है तो नील के तटों के नाम रामायण के किरदारों पर आधारित हैं, जैसे सीतापुर, भरतपुर व लक्ष्मणपुर ! नील द्वीप के प्रसिद्ध त्योहारों में से एक सुभाष मेला है, जिसका आयोजन दिसंबर के अंत और जनवरी महीने की शुरुआत में किया जाता है ! यह त्योहार नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती का प्रतीक है। इस अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।




कोरल की सुरक्षा के कारण जेटी से किनारे तक करीब आधा किमी का पुल बना हुआ है ! इस पार आने पर स्थानीय गाइड की सलाह के अनुसार लगेज होटल भिजवा कर सभी जने लक्ष्मणपुर तट की पुल रूपी संरचना देखने के लिए अग्रसर हो लिए ! यह संरचना जिसे स्थानीय लोग हावड़ा पुल  भी कहते हैं, तट से चट्टानों और वृक्षों की ओट के कारण सीधे दिखाई नहीं पड़ती ! इसके लिए किनारे से और आगे सागर की ओर जाना पड़ता है ! दोपहर बाद सागर में ज्वार आ जाने पर फिर जाया नहीं जा सकता इसीलिए पहले यहां आना तय किया गया था ! तट पूरी तरह कोरल के अवशेषों से पटा पड़ा है ! यह मृत कोरल अवशेष बहुत कठोर और नुकीले होते हैं जिससे बहुत संभल कर चलना पड़ रहा था ! आगे जाने पर समुद्र की लहरें आ-आ कर पैरों से टकराने और स्वनिर्मित गढ्ढों को पानी से भरने लगीं ! उनके साथ ही कई छोटे-छोटे जीव और मछलियां भी किनारे पर आ अठखेलियां करते नजर आए ! 





करीब दो सौ मीटर चलने के बाद हमारे बाईं तरफ वह पुल दिखने लगा ! प्रकृति की अद्भुत करामात थी ! एक चट्टान पर आर्क की तरह की दूसरी पत्थर की रचना पुल की आकृति बना रही थी ! कुछ-कुछ ऐसा लगता था जैसे जुरासिक काल का कोई डायनासोर सागर का पानी पी रहा हो ! पता नहीं कितने सालों से भूकंप और सागर की हवा के थपेड़े सहते, यूँ ही समय से अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष किए जा रही है ! अद्भुत था सब कुछ ! गर्मी के साथ-साथ धूप भी बहुत तेज थी, सो कुछ देर ठहर, उदर पूर्ति के लिए वापस हो लिए !



 


भोजनोपरांत कुछ विश्राम के पश्चात काफिला भरतपुर बीच के लिए रवाना हो गया ! यह काफी विस्तृत तट है ! यहाँ भी जल संबंधी खेलों की सारी सुविधाएं हैं ! जैसे स्कूबा डाइविंग, स्पीड बोट राइड, ग्लास बॉटम बोट राइड इत्यादि ! यदि कुछ नहीं करना चाहते हों तो आराम से किनारे बैठ सुन्दर हरे-नीले पानी को अठखेलयाँ करते देखने का अपूर्व सुख लीजिए ! तट पर ही खरीदारी के लिए समुद्र से प्राप्त वस्तुओं से बनी चीजों की दुकाने हैं ! यहां आए पर्यटकों को यह जानकारी अवश्य होनी चाहिए कि अंडमान के तटों पर सागर द्वारा उपलब्ध कोई भी वस्तु द्वीप से बाहर नहीं ले जाई जा सकती, जब तक उसकी रसीद ना हो ! स्थानीय लोगों को ज्यादा से ज्यादा रोजगार उपलब्ध करवाने के लिए सरकार द्वारा ऐसी व्यवस्था की गई है !





आज यात्रा का चौथा दिन था ! कल वापस पोर्टब्लेयर लौटना था ! यात्रा का समापन नजदीक होने के कारण मन कुछ खिन्न सा भी था !

सोमवार, 10 जनवरी 2022

हैवलॉक टापू , अंडमान

सुखद आश्चर्य है कि इस द्वीप पर के पाँचों गाँव, गोविंदनगर, विजयनगर, श्यामनगर, कृष्णनगर और राधानगर श्री कृष्ण और राधा जी के नाम पर हैं। सुबह 7.15 पर क्रूज की सवारी लेनी थी। यह भी एक यादगार लम्हा था ! वातानुकूलित तीन मंजिला इस जहाज में ऊपरी माले पर रेस्त्रां तथा डांस फ्लोर था ! इसके चलने के 15 मिनट बाद सबको घूमने-विचरने की छूट मिल गई ! हमारे ग्रुप के अलावा तकरीबन 99% यात्री युवा नवविवाहित थे ! सो DJ की जो धूम शुरू हुई, पता ही नहीं चला कि कैसे दो घंटे बीत गए ! गहरे नीले पानी को तेजी से चीर कर आगे बढ़ते देखना भी एक रोमांचकारी अनुभव था............!     

#हिन्दी_ब्लागिंग 

अंडमान-निकोबार द्वीप समूह विभिन्न देशों की सत्ताओं के अंतर्गत विभिन्न नाम पाता रहा है। पर 1943 में नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा इन द्वीपों को आजाद घोषित कर इनका नाम स्वराज द्वीप रख दिया गया था ! पर ब्रिटिश हुकूमत ने सत्ता में आते ही फिर इनका नाम बदल, 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में हिस्सा लेने वाले अपने क्रूर सेना नायकों के नाम पर कर दिया, जिसे नेताजी सुभाष चंद्र बोस के यहां तिरंगा फहराने की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने फिर एक बार गुलामी के प्रतीकों का सफाया करते हुए रॉस आईलैंड का नाम बदल कर नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वीप, नील आईलैंड का नाम शहीद द्वीप और हैवलॉक आईलैंड का नाम स्वराज द्वीप कर दिया। अपनी हाल की यात्रा के दौरान पाया कि आम आदमी दासता की बेड़ियों की याद दिलाते अंग्रेजों के नामों के बदलने से खुश है ! पर कुछ अंग्रेज-परस्त लोग इसमें भी राजनीती करने से बाज नहीं आ रहे !

                                    

यहां के अधिकांश निवासी 1971 के बांग्लादेश स्वाधीनता युद्ध के दौरान भारत आए शरणार्थी और उनके वंशज हैं। सुखद आश्चर्य है कि इस द्वीप पर के पाँचों गाँव, गोविंदनगर, विजयनगर, श्यामनगर, कृष्णनगर और राधानगर श्री कृष्ण और राधा जी के नाम पर हैं। शीशे की तरह साफ, निर्मल नीले पानी, सफेद रेत, हरे-भरे-घने मैंग्रोव वृक्षों के जंगल और कॉरल रीफ के लिए मशहूर हैवलॉक आईलैंड पर्यटकों का पसंदीदा टापू है ! राधानगर सागर तट को एशिया का सर्वोत्तम तट घोषित किया गया है। 2020 में अंतर्राष्ट्रीय Blue Flag Certification से नवाजे जाने वाले  हमारे दस सागर तटों में एक यहां का राधानगर समुद्र तट भी है। जो अपने साफ-सुथरे परिवेश, स्वच्छ-निर्मल-हानि रहित स्नान के योग्य जल, अद्भुत, सुरक्षित, स्वस्थकर वातावरण के चलते एशिया का सर्वोत्तम तटों में एक माना जाता है !



     

अंडमान यात्रा के तीसरे दिन यही हमारा गंत्वय था ! इसके लिए सुबह 7.15 पर क्रूज की सवारी लेनी थी। यह शटल सेवा है ! पोर्टब्लेयर से हैवलॉक, फिर वहां से नील टापू ! फिर नील से हैवलॉक और वहाँ से पोर्टब्लेयर ! चूँकि वापसी के लिए फ्लाइट पोर्टब्लेयर से ही लेनी थी, इसलिए सुबह का नाश्ता लेने के बाद दो दिनों के लिए जरुरी सामान ले कर, सभी ने अपना बचा हुआ लगेज होटल के लॉकर में ही जमा करवा चेक आउट कर लिया ! लौटने के बाद दोबारा चेक इन यहीं जो करना था ! 

क्रूज का सफर भी एक यादगार लम्हा था ! वातानुकूलित तीन मंजिला इस जहाज में ऊपरी माले पर रेस्त्रां तथा डांस फ्लोर था ! इसके चलने के 15 मिनट बाद सबको घूमने-विचरने की छूट मिल गई ! हमारे ग्रुप के अलावा तकरीबन 99% यात्री युवा नवविवाहित थे ! सो DJ की जो धूम शुरू हुई, पता ही नहीं चला कि कैसे दो घंटे बीत गए ! गहरे नीले पानी को तेजी से चीर कर आगे बढ़ते देखना भी एक रोमांचकारी अनुभव था !





हैवलॉक में होटल की औपचरिकता में कुछ समय लगना था ! उसे वहां के तरणताल में तरोताजा हो कर बिताया गया ! फिर भोजनोपरांत यहां के एक और मशहूर व रमणीय सागर तट काला पत्थर पहुंचे ! नाम चाहे जैसा भी था पर नजारा अद्भुत था ! चांदी जैसी रेत वाले बीच से सागर का पानी तीन रंगों में दिखलाई पड़ रहा था, नीला-सफेद और हरा ! प्रकृति की अलौकिक लीला ! शांत, मुग्ध कर देने वाला सौंदर्य, साफ-सुथरा वातावरण, जैसे किसी दूसरे लोक में आ पहुंचे हों ! पर समय की सीमा कहीं भी अपना पीछा नहीं छोड़ती ! कार्यक्रम घडी की सूइयों से बंधे होते हैं ! वैसे भी राधानगर के विश्व-प्रसिद्ध सागर तट पर जाना ही था जहां सूर्यास्त का नजारा अपने आप में अजूबा कहलाता है !



स्थल पर आने-जाने के लिए बस का इंतजाम था ! उसने 15-20 मिनट में राधानगर पहुंचा दिया ! करीब दो किमी चौड़ा और पचास-साठ मीटर सामने का खुला-खुला चांदी सी की रेत वाला बीच ! अलबत्ता अब तक की देखी गई सब जगहों से ज्यादा गुलजार ! अब वो बीच ही क्या जो खुद के पानी में उतरने को मजबूर ना कर दे ! तो सारे भाई लोग जा समाए निर्मल-स्वच्छ जल के आगोश में ! पर समय कहां रुकता है ! सूरज अपने सफर के अंत तक जा पहुंचा ! सफेद-पीला रंग, भगवा-लाल होने लगा ! जैसे सागर से मिलने को आतुर सूर्य का तपते सोने जैसा रंग सागर के नीले रंग में घुलने लगा हो ! चारों ओर बासंती आभा छा गई ! तभी अचानक क्षितिज पर हलके बादलों के समूह ने डेरा डाल सूर्य को भले ही छुपा लिया पर नजारा अद्भुत था ! लोग चित्र-लिखित से खड़े कायनात के इस अप्रतिम सौंदर्य का रस-पान कर रहे थे !




अँधेरा छाते-छाते होटल लौटना हो गया ! रिफ्रेश हो फिर महफिल जमी, तंबोला की, श्रीमती निर्मल और श्रीमती सतविंदर जी की अगुआई में ! हल्के-फुल्के लम्हों के बीच रात्रि भोजन के पश्चात निद्रा देवी का पयाम आया, ''आ जाओ अब ! कल फिर निकलना है नील जजीरे की ओर !'' कहना कहां टाला जा सकता था ! यात्रा की थकान से बचने का इन्हीं का तो सबसे बड़ा आसरा था ! 

शुक्रवार, 7 जनवरी 2022

रॉस तथा नॉर्थ बे टापू, अंडमान

ब्रिटिश राज के खंडहर साम्राज्यवादी इतिहास के काले अध्याय के गवाह के तौर पर यहां मौजूद हैं। पर समय, मौसम और वातावरण का असर इन पर साफ नजर आता है ! तेजी से बढ़ रहे जंगल, इन खंडहरों को अपने आगोश में ले रहे हैं ! यहां कोई रहता भी नहीं है, सिर्फ पर्यटकों की आवाजाही होती है। एक तरह से यह वीरान-सुनसान टापू भुतहा जजीरे का रूप लेता जा रहा है ! यहां की ज्यादातर इमारतें किसी भुतहा फिल्म के दृश्यों की तरह लताओं-वृक्षों की गिरफ्त में आ डरावनी शक्ल इख्तियार कर चुकी हैं..............!

#हिन्दी_ब्लागिंग 
सुबह की फ्लाइट और फिर देर शाम तक के सेलुलर जेल के भ्रमण ने पहले दिन यानी ग्यारह दिसंबर को बेहद थका डाला था ! फिर भी दूसरे दिन नई जगह को देखने के चाव में पूर्व निर्धारित समय पर होटल की लॉबी में सभी अपने-आप को तरो-ताजा महसूस कर रहे थे ! आज का गंतव्य था मशहूर रॉस तथा नॉर्थ बे टापू ! 



हमारी RSCB संस्था ठोक-बजा कर ही किसी एजेंसी को जिम्मेदारी सौंपती है ! क्योंकि इनके द्वारा प्रायोजित यात्राओं के सदस्य वरिष्ठ नागरिक ही होते हैं ! हालांकि इनमे हौसले की कोई कमी नहीं होती पर फिर भी विशेष देख-रेख की जरुरत तो होती ही है ! तो दूसरे दिन यानी 12 दिसंबर को फेरी के द्वारा पहले नार्थ बे तट पर ले जाया गया ! पूरा अंडमान-निकोबार ही मूंगों का घर है ! इनको बचाए रखने पर पूरा ध्यान दिया जाता है ! इसीलिए फेरी वगैरह को तट से काफी दूर रोक दिया जाता है और पर्यटकों को फ्लोटिंग जेटी द्वारा तटों पर पहुंचाया जाता है ! 





हमारा स्टीमर भी तट से करीब दो सौ मीटर पहले ऐसी ही जेटी पर लगाया गया ! कुछ पैदल चलने पर गहरी उतराई थी जो करीब चार सौ सीढ़ियों से उतरनी थी ! नीचे उतरने पर एक पुल के ऊपर से गुजर कर लाइट हॉउस के नजदीक तक पहुंचा जाता है ! पूरा टापू घने जंगल और पेड़ों से पटा पड़ा है ! पर इसके तट से अठखेलियां करता सागर का पानी अद्भुत है ! इतना साफ और स्वच्छ की शीशा भी शरमा जाए ! अछूती प्रकृति का अनूठा रूप ! जिसका वर्णन नहीं सिर्फ महसूस किया जा सकता है ! यही कारण है कि इस टापू की तस्वीर को भारत के बीस रूपए (पुराने) के नोट के पिछले हिस्से में स्थान पाने का गौरव प्राप्त हुआ ! पुल के आखिरी सिरे पर उन सैंकड़ों जहाजी सैनिकों की याद में एक मेमोरियल बना हुआ है जिन्होंने देश की रक्षा हेतु अपनी जान न्योछावर कर दी ! यहीं से कुछ आगे वह लाइट हॉउस अभी भी खड़ा है जो उस साधन-विहीन समय में यहां आने वाले जहाज़ों को सुरक्षित पार लगने में सहायक हुआ करता था !   




हमारा अगला पड़ाव रॉस आइलैंड था ! जिसका नाम बदल कर अब नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वीप कर दिया गया है। यह देख-सुन कर बहुत अच्छा लगा कि इस बदलाव से अंडमान के निवासी काफी खुश,संतुष्ट व फक्र महसूस करने लगे हैं ! जैसे दासता की एक और निशानी खत्म हो हमारे वीर स्वतंत्रता सैनानियों को उनकी पहचान मिल गई हो ! उसी फेरी से फिर एक बार जल यात्रा कर हमें वहां पहुंचाया गया !






करीब दो सौ साल पहले अंग्रेजों ने इसे भौगोलिक दृष्टि से उपयोगी पाते हुए इसे अपना मुख्यालय बनाया था।आज भी ब्रिटिश राज के बंगलों, चर्च, बॉलरूम, सैनिकों के रहने के लिए बनाई गए बैरक, कब्रिस्तान के खंडहर साम्राज्यवादी इतिहास के काले अध्याय के गवाह के तौर पर मौजूद हैं। पर समय, मौसम और वातावरण का असर इन पर साफ नजर आता है ! तेजी से बढ़ रहे जंगल, इन खंडहरों को अपने आगोश में ले रहे हैं ! यहां कोई रहता भी नहीं है, सिर्फ पर्यटकों की आवाजाही होती है। एक तरह से यह वीरान-सुनसान भुतहा जजीरे का रूप लेता जा रहा है ! यहां की ज्यादातर इमारतें किसी भुतहा फिल्म के दृश्यों की तरह लताओं-वृक्षों की गिरफ्त में आ डरावनी शक्ल इख्तियार कर चुकी हैं ! अद्भुत समुद्री किनारों से घिरी इस जगह का जायजा पैदल घूम कर लिया जा सकता है। वैसे पर्यटकों की सुविधा के लिए बैटरी रिक्शा भी उपलब्ध है ! यहां अच्छी खासी संख्या में चीतल, हिरन, बारहसिंगा, खरगोश, मोर और विभिन्न पक्षी विचरते देखे जा सकते हैं !





पता ही नहीं चला दो-अढ़ाई घंटे कब निकल गए ! अपनी फेरी में लद वापस पोर्टब्लेयर आ होटल में आश्रय लिया ! शाम गहरा रही थी ! हल्के-फुल्के चाय-कलेवे के बाद महिला सदस्यों ने अपने पसंदीदा खेल तंबोला का आयोजन कर डाला। इसे ना जानने वाले सदस्य भी आ जुटे ! फिर रात्रि भोजन और बिस्तर की पनाह ! सुबह जल्दी उठ क्रूज के द्वारा हैवलॉक आइलैंड भी तो जाना था। 

विशिष्ट पोस्ट

मैं ही क्यों..!

इंसान की फितरत है  कि उसे कभी संतोष नहीं होता ! किसी ना किसी चीज की चाह हमेशा  बनी ही रहती है ! पर एक सच्चाई यह भी है कि हम अपनी जिंदगी से भ...