शनिवार, 15 मई 2010

तोला, माशा, रत्ती

पुरानी चीजों की तरह पुराने नाप-तौल भी चलन के बाहर होते चले गए। कभी-कभी मुहावरों में या किसी ख़ास खरीद फरोक्त वगैरह में उन्हें भले ही याद कर लिया जाता हो नहीं तो आज की पीढी को तो वे अजूबा ही लगते होंगे। चलिए एक बार उन्हें याद ही कर लेते हैं :-

पुराने भारतीय नाप-तौल :-
8 खसखस = 1 चावल,
8 चावल = 1 रत्ती,
8 रत्ती = 1 माशा,
4 माशा =1 टंक, 12 माशा = 1 तोला,
5 तोला = 1 छटांक,
4 छटांक = 20 तोला या 1 पाव,
8 छटांक या 40 तोला = 1 अधसेरा,
16 छटांक या 80 तोला = 1 सेर,
5 सेर = 1 पसेरी,
8 पसेरी = 40 सेर या 1 मन,

1 केजी = 86 तोला या 1 सेर 6/5 छटांक,
100 केजी = 1 क्विंटल या 2 मन 27 5/2 सेर।

विभिन्न प्रदेशों के जमीन के नाप :-
उत्तर प्रदेश -
1 लाठा = 99 इंच या 8 फुट 3 इंच।
20 अनवांसी = 1 कचवांसी,
20 कचवांसी = 1 बिस्वांसी,
20 बिस्वांसी = 1 बिस्वा,
20 बिस्वा = 1 बीघा या 3025 वर्गगज,
8 बीघा = 5 एकड़ या 24200 वर्गगज।

बंगाल -
1 वर्ग हाथ = 1 गण्ड़ा,
20 गण्ड़ा = 1 छटांक,
16 छटांक = 1 काठा = 80 वर्गगज,
20 काठा = 1 बीघा,
121 बीघा = 40 एकड़ ( 1 एकड़ = 3 बीघा 8 छटांक)
1936 बीघा = 1 वर्गमील,

पंजाब -
1 करम = 3 हाथ,
9 वर्ग करम या सरसांई = 1 मरला,
20 मरला = 1 कनाल,
4 कनाल = 1 बीघा,
2 बीघा = 1 घूमा या 3240 वर्गगज।

12 टिप्‍पणियां:

Lalit Sharma ने कहा…

बहुत अच्छी पोस्ट
पुराने नाप तौल का पैमाना आज कल लोग भुल गये हैं। और पढाया भी नहीं जाता।

आभार

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

वाकई में अच्छा...

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey ने कहा…

बढ़िया। यह ढूंढ़ रहा था मैं!

राज भाटिय़ा ने कहा…

वाह शर्मा जी, हम ने सुना तो था तोले माशे ओर छटांक लेकिन आज आप के लेख से बिलकुल सही पता चला. धन्यवाद

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत उपयोगी!
इसको संग्रह कर लिया है!

zeal ने कहा…

.
interesting and informative post !

Thanks !

Udan Tashtari ने कहा…

जानकारी का आभार!

जी.के. अवधिया ने कहा…

वाह गगन जी! आपने तो हमें अपने चौंथी पाँचवी में पढ़ाई के दिन याद दिला दिया!

रुपया-आना-पैसा, तोला-माशा-रत्ती, मन-सेर-छटाक, रीम-दस्ता-ताव आदि के सवाल हल किया करते थे हम उन दिनों।

kaushalendra ने कहा…

Aachchi jankari hae. mujge Aaj Iski zaroorat bhi thi .
Thanks

M. I. Mevati ने कहा…

Very nice

rajesh verma ने कहा…

मै यही खोज रहा था मिल गया , दवा की मात्रा बनानी थी
धन्यबाद

rajesh verma ने कहा…

मै यही खोज रहा था मिल गया , दवा की मात्रा बनानी थी
धन्यबाद

विशिष्ट पोस्ट

कोई तो कारण होगा, धर्म स्थलों में प्रवेश के प्रतिबंध का !!

अभी कुछ दिनों पहले कुछ तथाकथित आधुनिक महिलाओं ने सोशल मिडिया पर गर्व से यह  स्वीकारा था कि माह के उन  कुछ ख़ास दिनों में भी वे मंदिर जात...