गुरुवार, 11 मार्च 2010

पचास का नोट

कोई २५-३० साल पहले पचास रुपये का एक नोट चलन में आया था। उसके पिछले
हिस्से में संसद का चित्र बना हुआ था। पर इमारत पर तिरंगे के स्थान पर सिर्फ 'पोल' था, झंडा नहीं छप पाया था। कुछ दिनों बाद उस नोट को हटवा लिया गया।
क्या किसी सज्जन के पास वैसा नोट है ? यदि हो तो बताएं।

12 टिप्‍पणियां:

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

आप अब बता रहे हैं? हमको तो आज तक खबर नही थी. अब किसी सिक्का कलेक्टर के ही पास मिले तो मिले.

रामराम.

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

राम राम गगन जी,
पहले बताते तो कोशिश करते।
अब तो पचास के नोट भी चलन से बाहर हो रहे हैं
अब सिक्का आने वाला है।:)

राज भाटिय़ा ने कहा…

लेकिन शर्मा जी वो झंडा कहा गया ??

मनोज कुमार ने कहा…

ओह ! नो!!

Pt. D.K. Sharma "Vatsa" ने कहा…

जी हमारे पास है...लेकिन हमारा इरादा तो इसे बोली लगाकर बेचने का है:-)

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

पुराने खजाने में खोजेगें!
शायद मिल जाये!

Neeraj Rohilla ने कहा…

हमारे पास वो नोट कई बार आया और हाथ से गया भी, एक और बात भी है उस सीरीज के नोटों में, अशोक स्तंभ के नीचे सत्यमेव जयते गायब है।

एक तीसरी खामी भी उस समय (करीब १२-१३ साल पहले) नोटिस की थी जो बढती उमर के चलते याद नहीं आ रही है, ;-)

डॉ महेश सिन्हा ने कहा…

लाटरी निकाल रहे हैं :)

Udan Tashtari ने कहा…

यहाँ तो पचास का नोट ही नहीं है...वो वाला तो छोड़िये.

वाणी गीत ने कहा…

५० का नोट बिना झंडे वाला ...
क्यों गड़े मुर्दे उखाड़ रहे हैं ...:)

Unknown ने कहा…

मेरे पास है वैसा नोट अगर चाहिए तो व्हाट्सअप नंबर पर कॉन्टेक्ट करो 8141794111

Unknown ने कहा…

मेरे पास है वैसा नोट अगर चाहिए तो व्हाट्सअप नंबर पर कॉन्टेक्ट करो 8141794111

विशिष्ट पोस्ट

तराजू वाली प्रतिमा को खुद ही अपनी आँखों पर बंधी पट्टी उतार फेंकनी होगी

शिक्षा, चिकित्सा और न्याय ! आम-जन का विश्वास  आक्रोश के मारे  इन तीनों सर्वाधिक जनहित के क्षेत्रों से उठने लगा है ! लोग अब भगवान से उतना नह...