गुरुवार, 1 जुलाई 2010

यह ब्लागवाणी को क्या हो गया है भाई ?

यह ब्लागवाणी को क्या हो गया है?
बीस-पच्चीस दिन दूर रहने के बाद अब जब भी इसे खोलता हूं तो वही 14जून का ही प्रवचन सुनने (देखने) को मिल रहा है। वहीं पर अटकी हुई मिलती है। कुछ ज्यादा ही गड़बड़ है या कोई और कारण है समझ नहीं आ रहा है?
कृपया बताएंगे क्या?

12 टिप्‍पणियां:

Etips-Blog Team ने कहा…

ब्लागवाणी बन्द कर दि गई है पर क्योँ तो जवाब मेरे ब्लाग के एक पोस्ट मे है फिलहाल तो
सानदार प्रस्तुती के लिऐ आपका आभार


सुप्रसिद्ध साहित्यकार व ब्लागर गिरीश पंकज जी का इंटरव्यू पढेँ >>इंटरव्यू पढेँ >>>>
एक बार अवश्य पढेँ

Etips-Blog Team ने कहा…

सानदार प्रस्तुती के लिऐ आपका आभार


सुप्रसिद्ध साहित्यकार व ब्लागर गिरीश पंकज जी का इंटरव्यू पढेँ >>इंटरव्यू पढेँ >>>>
एक बार अवश्य पढेँ

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

लगता है अब ब्लॉग वाणी को भुलना ही पड़ेगा

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

मेरे मन में भी यही सवाल आ रहा था. बुरा हुआ.

राज भाटिय़ा ने कहा…

पता नही जी

ललित शर्मा ने कहा…

ब्लागवाणी बंद है।
बिना इसके ही काम चला रहे हैं।
आप छुट्टी में गए और ब्लागवाणी भी छुट्टी में है।:)

HAKEEM YUNUS KHAN ने कहा…

रावण को बुरी लगी ब्लागवाणी ।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बात तो कड़वी है,
मगर कहीं इसे बन्द कराने में किसी नामचीन्ह का ही हाथ न हो!
--
आप अपने पर न ले जाएँ!
--
यह बात मुझ पर भी लागू हो सकती है!

Alam ने कहा…

ये है ब्लोगवाणी के राह के रोड़े , इन हरामी की औलादों की वजह से ही..........................

Mohammed Umar Kairanvi said...

मैं चुल्‍लू भर पानी की जगह आज ब्‍लागवाणी को लौटा भेज रहा था, लेकिन आपकी पोस्‍ट तो HOT में ले आयी, फिर सही, लौटा तैयार रखना पडेगा, इसका चुल्‍लू भर पानी में काम नहीं चलेगा

June 17, 2010 1:42 पम


आतिर कड़वा said...


ब्लोगवाणी , तू है बेईमानो की नानी , लगा ले तेल पी ले पानी .
मुस्लिम दुश्मन पोस्ट को रखे दोस्त और सच के साथ करे तू कारस्तानी .

June 17, 2010 11:17 ऍम


सहसपुरिया said...


Blogvani = Sanghvani

June 17, 2010 12:42 पम


Mohammed Umar Kairanvi said...

blogvani behaviour 46 पाठक, +8पसंद 19 कमेंटस फिर भी हाट(x) , डूब मर ब्‍लागवाणी लौटा भर पानी ने मिले तो बता, तुझे भेजा जाये

Alam ने कहा…

मैं उस ब्लॉग अग्रीगेटर का नाम नहीं लेना चाहता, मगर, आप समझदार है, जोर शोर से प्रचार हो रहा है, आप लोगो को आगाह कर रहा हूँ की अगर आप लोग अपने इ-मेल और ब्लॉग से सम्बंधित जानकारियों के साथ छेड़-छाड़ से बचना चाहते है तो उस अग्रीगेटर पर अपना ब्लॉग रजिस्टर करने से पहले सोच ले , बी केयरफुल .. रजिस्टर करवाए भी तो सीमित जानकारी ही दें अपने बारे में .

रचना ने कहा…

शुक्रिया मैथिली जी एंड सिरिल

बेनामी ने कहा…

aaj kal ek taknik kaa jaankar email hak mae lagaa haen uskae agregator par apni email register karane kaa matlab haen aatmhatya

विशिष्ट पोस्ट

कोई तो कारण होगा, धर्म स्थलों में प्रवेश के प्रतिबंध का !!

अभी कुछ दिनों पहले कुछ तथाकथित आधुनिक महिलाओं ने सोशल मिडिया पर गर्व से यह  स्वीकारा था कि माह के उन  कुछ ख़ास दिनों में भी वे मंदिर जात...