बुधवार, 24 फ़रवरी 2010

क्या धोनी के मन में कुछ और था ?

जिन्हें भी क्रिकेट से लगाव होगा वह सचिन की पारी देख निहाल हो गये होंगे। विश्व किर्तीमान पर सीना चौड़ा हो गया होगा। पर इस उतेजना मे धोनी के खेल की तरफ ध्यान नहीं गया होगा ।
48वें ओवर तक सचिन 199 रन बना चुके थे। पर अगला पूरा ओवर धोनी ने खेला। पचासवें ओवर की भी शुरुआत धोनी ने करनी थी। उसने पहली बाल सीमा रेखा के पार भेजी. दूसरी का भी वही हश्र होता यदि सीमा रेखा पर पकड़ ना ली जाती। धोनी ने तो कोई कसर नहीं छोड़ी थी। यदि ऐसा होता और तीसरी बाल पर रन ना बन पाता तो? या एक-दो बाल की हड़-बड़ी में सचिन से एक रन ना बन पाता तो? पूरी आठ बाल धोनी ने अपने पास रखीं, क्या यह ठीक नहीं होता कि पहले दूसरा शतक पूरा करवा लिया जाता?
कुछ भी हो सकता था। जो किर्तीमान बनने वाला था वह अकेले सचिन का नहीं था, उसमें देश का भी नाम जुड़ा हुआ था। तो धोनी महाशय को नहीं चाहिये था कि पहले सचिन को मौका दे किर्तीमान पूरा कर लिया जाए। ऐसा भी नहीं था कि रनों का अकाल पड़ा हुआ था तो उसे प्रमुखता दी जाती।

चलिए अंत भला तो सब भला, पर धोनी के मन में शायद कुछ और ही था।
























15 टिप्‍पणियां:

डॉ महेश सिन्हा ने कहा…

?
लेकिन धोनी को भी मालूम था यह रेकॉर्ड न केवल सचिन का है बल्कि देश का भी है

Aadarsh Rathore ने कहा…

हर किसी के मन में यही बात थी....
दरअसल धोनी से पहले कार्तिक भी ये कारनामा कर चुके हैं...। धोनी के इरादों पर मुझे शक था...।

मनोज कुमार ने कहा…

आपसे सहमत हूं।

Gagan Sharma, Kuchh Alag sa ने कहा…

महेशजी,
नमस्कार।
पूरी आठ बालें इन महाशय ने खेलीं। आठवीं भी बाहर गयी ही थी। फिर कुछ भी हो सकता था।

रचना ने कहा…

sehmat jab match daekh rahee thee toh yahii soch rahee thee dhoni kae man mae kyaa haen ? sachin ka record naa baney kahin aesa naa ho jaayae

राज भाटिय़ा ने कहा…

मुझे तो यह मूया क्रिकेट अच्छा नही लगता शर्मा जी, अब क्या लिखू.... राम राम

यशवन्त मेहता "फ़कीरा" ने कहा…

हमें भी कुछ समझ नहीं आया था उस समय
पर सचिन का कीर्तिमान बन गया इस खुशी में छोटी बातें नेगलेक्ट की जाये

venus kesari ने कहा…

mai aapase sahamat nahee hoon

kyo ??

ye to mujhe bhee nahee pataa

अनूप शुक्ल ने कहा…

हो तो कुछ भी सकता था लेकिन धोनी ने जिस सचिन के २०० रन बनने के मौके पर अपनी बहादुरी दिखानी जारी रखी उससे मन उसके लिये खराब हुआ। अगर सचिन के २०० रन न बनते तो बहुत दिन तक धोनी की थू-थू होती!

धोनी को चाहिये तो यह था कि वो सचिन को ये आठ बालें भी खेलने देता तब शायद सचिन दो सौ रन के आगे और काफ़ी रन बना सकते और उनका रिकार्ड और भी बेहतर हो सकता था।

Udan Tashtari ने कहा…

जो भी हो..सही कहा..अंत भला तो सब भला!!

HARI SHARMA ने कहा…

यही बात मैच देखते समयमै अपने बेटे से कह रहा था. पिछली बार जब सचिन १०० नही बनाअ पाया था तब भी ये बात दिमाग मे थी लेकिन उस समय जीतना जरूरी बात थी सचिन का शतक इतना महत्वपूर्ण नही था फिर कार्तिक को तो अपनी योग्यता भी सिद्ध करनी थी लेकिन २०० रन बनना एक सर्वकालीन महान घटना होनी थी और धोनी अपने पूरे जीवन मे इस घतना के समय दूसरे छोर पर खडे होने को ही एक सुनहरी याद के रूप मे रख सकते थे.

नीरज मुसाफिर जाट ने कहा…

बस इस मैच मे धोनी ही ऐसे रहे जिनकी थू थू होनी शुरू हो गयी थी लेकिन बच गये.

Dr. Smt. ajit gupta ने कहा…

मैं इसे ऐसे नहीं लेती। धोनी को मालूम था कि सचिन को केवल एक रन चाहिए। तब तक कोई भी बॉल वे बिगाड़ना नहीं चाह रहे थे। यदि धोनी को अपने स्‍कोर की इतनी ही चिंता होती तो वे युसुफ की जगह स्‍वयं आते। लेकिन उन्‍होंने न केवल एक उभरते हुए खिलाड़ी को अवसर दिया अपितु पॉवर-प्‍ले में खिलाया। कई बार हम केवल एक ही दृष्टिकोण से देखते हैं तब ऐसा लगता है।

Mithilesh dubey ने कहा…

आपसे सहमत नहीं हूँ, सचिन उस समय बिल्कुल थक गये थें और धोनी को पता था कि वह अब बड़े शाट नहीं खेल पायेंगे, और उसकी जरुरत भी नहीं थी सचिन को, उस समय सचिन को १ या २ रन हीं बनाने थे जिसके १ बाल ही काफी था ।

Gagan Sharma, Kuchh Alag sa ने कहा…

Smt, ajit guptaa & mithileshjii..........
इस कर्मठ इंसान पर फिर थकने की हास्यास्पद सोच!!!
जब सामने एक अनछुया सर्वकालीन रेकार्ड़ बनने को तैयार हो तब थकान का आभास नहीं होता। फिर वह एक रन तो सचिन ने ही बनाना था किसी और ने आकर खाना पूर्ती तो करनी नहीं थी। और धोनी क्या उसे आधे एक घंटे का विश्राम दे रहा था। यदि आपने नाखून काटू, धड़कन बढाऊ मैच देखे हैं तो उनके अंतिम क्षणों में बल्ले/गेंद बाज पर दवाब को महसूस किया है कि नहीं पता नहीं। विरोधी टीम अपना जी-जान लगा देती है उस समय और धोनी महाशय अपना कारनामा सचिन के एक रन के बाद भी दिखा सकते थे। यह कोई गली मौहल्ले का मैच नहीं था कि कभी भी अपनी मर्जी से एक या दो रन बना लिये जायेंगे। आश्चर्य है इतनी जल्दी पहले मैच का अंत भूल गये।
रही युसुफ को पहले भेजने की बात, तो उस समय भी हालात काबू में नहीं थे और युसुफ भी कोई नया खिलाड़ी नहीं है। उस समय तेज रन गति की आवश्यकता थी हो सकता है धोनी को अपने से ज्यादा युसुफ के तेज रन बनाने का भरोसा हो।
चाहे कोई कुछ भी कहे उस स्थिति में सचिन का एक रन बनवा कर ही आगे जैसा चाहे वैसा खेलना बनता था।

विशिष्ट पोस्ट

कोई तो कारण होगा, धर्म स्थलों में प्रवेश के प्रतिबंध का !!

अभी कुछ दिनों पहले कुछ तथाकथित आधुनिक महिलाओं ने सोशल मिडिया पर गर्व से यह  स्वीकारा था कि माह के उन  कुछ ख़ास दिनों में भी वे मंदिर जात...