सोमवार, 21 दिसंबर 2009

मेरा एक सुझाव है, सोच कर देखीए.

मेरा एक सुझाव है कि किसी भी दिग्गज ब्लाग पर "गपशप" जैसा कुछ शुरू किया जाय। अब यहां एक से बढ कर एक "पोपुलर" जगहें हैं जहां हर कोई खिंचा चला आता है। इनमें किसी पर भी ऐसा कुछ शुरु किया जाय जिसमें हर ब्लागर अपने क्षेत्र की कोई भी जानकारी, कोई घटना, कोई नयी खबर, कुछ अनोखा यदि हो तो सबके साथ बांटे। और उसकी प्रतिक्रिया भी तुरंत उपलब्ध हो सके। जैसा कि अभी ताऊजी के फर्रुखाबादी खेल में सब बढ-चढ कर भाग लेते हैं, पहेलियों के अलावा भी नोक-झोंक में। उसी तरह दुनिया-जहान की बातें एक ही जगह हो जायें। कहने को तो हर ब्लाग ऐसी ही जानकारी रखता है, पर वहां संजीदगी पीछा नहीं छोड़े रहती। अब इसकी तुलना किसी "ट्वीटर या फेसबुक" से ना कर एक अलग रूप का खिलंदड़ा ब्लाग बन जाये तो कैसा रहे? जिसमे तरह-तरह की जानकारियाँ उपलब्ध हों।
इसके लिये भी मेरी ताऊजी से ही गुजारिश है कि वह एक नया ब्लाग शुरू करें। उनकी चौपाल से ज्यादा मुफीद जगह और कौन सी हो सकती है। यदि ऐसा हो तो चौपाल पर हुक्का गुड़गुड़ाने का समय थोड़ा देर से रखा जाय।

13 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

सुझाव अच्छा है!
हमारा भी समर्थन है!

मनोज कुमार ने कहा…

रचना अच्छी लगी।

ललित शर्मा ने कहा…

ताऊ जी सुन रहे होsssssss!
गगन जी-आपका सुझाव पसंद आया। हमारा भी समर्थन है।

Udan Tashtari ने कहा…

taau ke kaan me jaa kar kahta hun abhi. :)

बेनामी ने कहा…

बहुत बढिया सुझाव है.

राज भाटिय़ा ने कहा…

ऒऎ ताऊ रे सुनियो जरा यू पंडित जी के कहवे शे... समीर जी जरा जोर से बोलना सुना है कल ताई का लट्ठ कान के पास पडा ओर ताऊ को ऊंचा सुनना शुरु हो गया

हिमांशु । Himanshu ने कहा…

सुझाव बेहतर है । ताऊ जी सुयोग्य हैं । आभार ।

खुशदीप सहगल ने कहा…

गगन जी की बात को अपना भी समर्थन...

जय हिंद...

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

पंचो का सुझाव सर माथे. समय का फ़ैसला आप लोग सर्वसम्मति से करके बतायें जिससे किसी को शिकायत ना रहे और वाकई एक चौपाल का आनंद सभी ले सके.

रामराम.

निर्मला कपिला ने कहा…

बहुत अच्छा सुझाव है । हमारा भी समर्थन है धन्यवाद।

www.SAMWAAD.com ने कहा…

बढिया सुझाव है। मेरी समझ से ताउ को इसे मानने में कोई दिक्कत भी नहीं होनी चाहिए।
--------------
मानवता के नाम सलीम खान का पत्र।
इतनी आसान पहेली है, इसे तो आप बूझ ही लेंगे।

cmpershad ने कहा…

गपशप!!!!!

हम रोज़ वही तो कर रहे हैं :)

Arshad Ali ने कहा…

आपका सुझाव तो अच्छा है