शनिवार, 22 अगस्त 2009

विवेकजी, बीडी पीना शायद उतना बुरा न भी हो (-:

विवेक जी ने बीडी पीने के लिये ब्रेक भी लिया और उसकी बुराईयां भी गिना दीं। पर उन दद्दाजी के दुखडे को भी जान लें जिन्होंने वर्षों पहले धूंआ पीना छोड़ दिया था। अपनी धर्म पत्नि के कहने पर।
एक दिन अचानक एक वृद्ध दंपति के जीवन का फुलस्टाप एक ही दिन एक ही समय आ गया। दोनो जने धर्मपरायण, सीधे-सच्चे, ईश्वर भक्त थे सो उन्हें सीधे स्वर्ग मे स्थान मिल गया। अब वहां मौजां ही मौजां। ना खाने-पीने की चिंता, ना हारी बिमारी का डर। चारों ओर शांति ही शांति, एक सा मनभावन मौसम। सकून भरी आराम दायक दिनचर्या।
पर दूसरे ही दिन वह भला आदमी, जिसने जीते-जी कभी अपनी पत्नि से एक शब्द भी जोर से नहीं कहा था, लड़ने लग गया। तुम्हारे कारण मेरी खुशियां छिन गयीं। तुम्हारी बेवकूफी से मैं आनंद से महरूम रहा, इत्यादि-इत्यादि।
बेचारी उसकी धर्मपत्नि भी हैरान-परेशान कि मैंने ऐसा क्या कर दिया। आसपास घूमते और लोग भी इकठ्ठा हो गये। तभी एक देवदूत ने उस भले आदमी से पूछा कि क्या हो गया? क्यों खफा हो रहे हो? तो वह भला आदमी बोला, अजी इस औरत ने बीस साल पहले मेरी बीड़ी-सिगरेट छुड़वा दी थी, नहीं तो मैं यहां पहले ना आ जाता।

10 टिप्‍पणियां:

विवेक सिंह ने कहा…

अजी, हमने तो आज तक बीड़ी का स्वाद ही चखा है बस, वह भी बचपन में,

आपकी पोस्ट को आज भी हमारे पापा पढ़ लें तो डण्डे बरसेंगे हम पर,

भ्रम मत फैलाइये :)

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बीडी पीना अच्छी बात नही है.:)

रामराम.

Udan Tashtari ने कहा…

haahaa!! ये भी एक नज़रिया है.

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

इस दृ्ष्टिकोण से देखा जाये तो बीडी पीना कोई बहुत बुरा भी नहीं है।
पचास पार कर लें,फिर हम भी शुरू करते हैं:)

cmpershad ने कहा…

क्या बीड़ी ही स्वर्ग की सीड़ी है?????:-)

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

अब क्या कहें ! हमने तो कभी बीडी पी ही नहीं और न ही पीने का कभी इरादा है |

रंजन ने कहा…

हा हा.. सही है..

Vivek Rastogi ने कहा…

बीड़ी आनंद नहीं, एक नशा है पर उसके लिये दुखी होने की जरुरत नहीं। अच्छा किस्सा।

अजय कुमार झा ने कहा…

बेचारे दद्दा जी...बडा अत्यचार हुआ उन पर जीते जी तो...

डी.पी.तिवारी .... D.P.Tiwari ने कहा…

आपको गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनांए.