सोमवार, 24 सितंबर 2012

श्री गणपतिजी की अष्टोत्तरशत नामावली यानी श्री गणेशजी के १०८ नाम,


ये श्री गणेशजी के १०८ नाम हैं। रोज इनका जाप करें और सुखीस्वस्थ एवं प्रसन्न रहें

1, ॐ श्री विघ्नेशाय नम:
2, ॐ श्री विश्व्वरदाय नम:
3, ॐ श्री विश्वचक्षुषे नम:        
4, ॐ श्री जगत्प्रभवे नम:
5, ॐ श्री हिरण्यरुपाय नम:
6, ॐ श्री सर्वात्मने नम:
7, ॐ श्री ज्ञानरूपाय नम:
8, ॐ श्री जगन्मयाय नम:
9, ॐ श्री ऊर्ध्वरेतसे नम:
10, ॐ श्री महाबाहवे नम:
11, ॐ श्री अमेयाय नम:
12, ॐ श्री अमितविक्रमाय नम:
13, ॐ श्री वेदवेद्याय नम
14, ॐ श्री महाकालाय नम:
15, ॐ श्री विद्यानिद्यये नम:
16, ॐ श्री अनामयाय नम:
17, ॐ श्री सर्वज्ञाय नम:
18, ॐ श्री सर्वगाय नम:
19, ॐ श्री गजास्याय नम:
20, ॐ श्री चित्तेश्वराय नम:
21, ॐ श्री विश्वमूर्तये नम:
22, ॐ श्री विगतज्वराय नाम:
23, ॐ श्री अमेयात्मने नम:
24, ॐ श्री विश्वाधाराय नम:
25, ॐ श्री सनातनाय नम:
26, ॐ श्री सामगाय नम:
27, ॐ श्री प्रियाय नम:
28, ॐ श्री मंत्रिणे नम:
29, ॐ श्री सत्वाधाराय नम:
30, ॐ श्री सुराधीशाय नम:
31, ॐ श्री समस्तसाक्षिणे नम:
32, ॐ श्री निर्द्वेद्वाय नम:
33, ॐ श्री निर्लोकाय नम:
34, ॐ श्री अमोघविक्रमाय नम:
35, ॐ श्री निर्मलाय नम:
36, ॐ श्री पुण्याय नम:
37, ॐ श्री कामदाय नम:
38, ॐ श्री कांतिदाय नम:
39, ॐ श्री कामरूपिणे नम:
40, ॐ श्री कामपोषिणे नम:
41, ॐ श्री कमलाक्षाय नम:
42, ॐ श्री गजाननाय नम:
43, ॐ श्री सुमुखाय नम:
44, ॐ श्री शर्मदाय नम:
45, ॐ श्री मुषकाधिपवाहनाय नम:
46, ॐ श्री शुद्धाय नम:
47, ॐ श्री दीर्घतुंडाय नम:
48, ॐ श्री श्रीपतये नम:
49, ॐ श्री अनंताय नम:
50, ॐ श्री मोहवर्जिताय नम:
51, ॐ श्री वक्रतुंडाय नम:
52, ॐ श्री शूर्पकर्णाय नम:
53, ॐ श्री परमाय नम:

54, ॐ श्री योगीशाय नम:
55, ॐ श्री योगधाम्रे नम:
56, ॐ श्री उमासुताय नम:
57, ॐ श्री आपद्धंत्रे नम:
58, ॐ श्री एकदंताय नम:
59, ॐ श्री महाग्रीवाय नम:
60, ॐ श्री शरण्याय नम:
61, ॐ श्री सिद्धसेनाय नम:
62, ॐ श्री सिद्धवेदाय नम:
63, ॐ श्री करुणाय नम:
64, ॐ श्री सिद्धाय नम:
65, ॐ श्री भगवते नम:
66, ॐ श्री अव्यग्राय नम:
67, ॐ श्री विकटाय नम:
68, ॐ श्री कपिलाय नम:
69, ॐ श्री ढुंढिराजाय नम:
70, ॐ श्री उग्राय नम:
71, ॐ श्री भीमोदराय नम:
72, ॐ श्री शुभाय नम:
73, ॐ श्री गणाध्यक्षाय नम:
74, ॐ श्री गणेशाय नम:
75, ॐ श्री गणाराध्याय नम:
76, ॐ श्री गणनायकाय नम:
77, ॐ श्री ज्योति:स्वरूपाय नम:
78, ॐ श्री भूतात्मने नम:
79, ॐ श्री धूम्रकेतवे नम:
80, ॐ श्री अनुकूलाय नम:
81, ॐ श्री कुमारगुरवे नम:
82, ॐ श्री आनंदाय नम:
83, ॐ श्री हेरंबाय नम:
84, ॐ श्री वेदस्तुताय नम:
85, ॐ श्री नागयज्ञोपवीतिने नम:
86, ॐ श्री दुर्धषाय नम:
87, ॐ श्री बालदुर्वांकुरप्रियाय नम:
88, ॐ श्री भालचंद्राय नम:
89, ॐ श्री विश्वधात्रे नम:
90, ॐ श्री शिवपुत्राय नम:
91, ॐ श्री विनायकाय नम:
92, ॐ श्री लीलासेविताय नम:
93, ॐ श्री पूर्णाय नम:
94, ॐ श्री परमसुंदराय नम:
95, ॐ श्री विघ्नांधकाराय नम:
96, ॐ श्री सिंधुरवरदाय नम:
97, ॐ श्री नित्याय नम:
98, ॐ श्री विभवे नम:
99, ॐ श्री प्रथमपूजिताय नम:
100, ॐ श्री दिव्यपादाब्जाय नम:
101, ॐ श्री भक्तमंदाराय नम:
102, ॐ श्री शूरमहाय नम:
103, ॐ श्री रत्नसिंहासनाय नम:
104, ॐ श्री मणिकुंड़लमंड़िताय नम:
105, ॐ श्री भक्तकल्याणाय नम:
106, ॐ श्री कल्याणगुरवे नम:
107, ॐ श्री सहस्त्रशीर्ष्णे नम:
108, ॐ श्री महागणपतये नम:

3 टिप्‍पणियां: