गुरुवार, 13 सितंबर 2012

ऐसे शतक पर वारी जाएं।



धन्य हैं वे मुट्टी भर भारत के सपूत जो आज के कदाचार, भ्रष्टाचार, अनाचार से भरे माहौल की तरफ़ ध्यान ना दे अपने देश का नाम रौशन करने में दिन रात जुटे हुए हैं। 

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (इसरो) ने पिछले रविवार को पीएसएलवी (ध्रुवीय प्रक्षेपण यान) से फ्रांस और जापान के दो उपग्रहों को सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में भेजकर अपना सौंवा अभियान पूरा किया यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि है, जो अंतरिक्ष विज्ञान और उससे जुड़े कारोबार में भारत की काबिलियत को रेखांकित करती है।

आजादी मिलने के शुरुआती दशक मे जब इसरो की स्थापना की गई थी तब किसी को अनुमान भी नहीं था हमारे जैसा गरीब और सैंकडों समस्याओं से जूझने वाला देश ऐसी उपलब्धि हासिल कर लेगा कि अपने से विकसित देशों के उपग्रहों को भी अंतरिक्ष में पहुंचाने में सक्षम हो जाएगा। 

19 अप्रैल, 1975 को अपने पहले उपग्रह आर्यभट्ट को रूसी रॉकेट की मदद से अंतरिक्ष में स्थापित करने के बाद से इसरो ने कभी पीछे मुड कर नहीं देखा। फिर 1999 में पीएसएलवी-सी2 से पहली बार एक विदेशी जर्मन उपग्रह को अंतरिक्ष में भेज अमीर देशों को चमत्कृत कर दिया था। वरना इस क्षेत्र में अमेरिका, यूरोप और रूस का ही दबदबा हुआ करता था। वास्तव में पीएसएलवी भारत का सबसे भरोसेमंद प्रक्षेपण यान साबित हुआ है, जिससे अब तक पचास से ज्यादा उपग्रहों को उनकी कक्षाओं में स्थापित किया जा चुका है, जिनमें 28 विदेशी उपग्रह भी शामिल हैं।  

पीएसएलवी का यह लगातार 21वां सफल अभियान था, जिसमें उसने फ्रांस के 712 किग्रा के उपग्रह स्पॉट-6 को ले जाकर एक नया कीर्तिमान भी बनाया है। यही नहीं, चार साल पहले भारत ने चंद्रयान-1 के जरिये धरती माता के भाई की भी कुशल-क्षेम पूछी थी, और जिसकी नजर अब मंगल ग्रह की ओर है।  

ऐसा नहीं है कि इसरो को सदा सफलता ही मिलती रही है। पर उन असफलताओं से सीख ले कर ही आज यह मुकाम हासिल हो पाया है। जिसकी बदौलत संचार से लेकर खेती तथा मौसम की जानकारियों के क्षेत्र में हम आत्मनिर्भर होते जा रहे हैं। 

धन्य हैं वे मुट्टी भर भारत के सपूत जो आज के कदाचार, भ्रष्टाचार, अनाचार से भरे माहौल की तरफ़ ध्यान ना दे अपने देश का नाम रौशन करने में दिन रात जुटे हुए हैं। 


7 टिप्‍पणियां:

Manu Tyagi ने कहा…

वाकई में नमन है इन सबको जो दिन रात लगे हैं देशके लिये

रविकर फैजाबादी ने कहा…

उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत ही महत्वपूर्ण उपलब्धि है, सबको साधुवाद..

प्रतुल वशिष्ठ ने कहा…

देश का गौरव बढ़ाने वाले समाचार मन को अत्यंत प्रफुल्लित करते हैं... इन्हें बार-बार पढ़ने का मन करता है. और अपने सभी साथियों में चर्चा करके एक सर्गिक सुख की अनुभूति होती है.

गगन जी, देश के गौरव को यूँ ही गगनचुम्बी बनाए रखिये. मैंने इस समाचार को सभी साथियों को जोर से पढ़कर सुनाया फिर चर्चा भी की.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

इन उपलब्धियों पर गर्व से सिर ऊंचा हो जाता है ...आभार

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

ऐसे ही लोगों की मेहनत से देश टिका हुआ है। नहीं तो कसर कहां छोडी है मौका-परस्तों ने।
प्रतुल जी हौसला-अफजाई के लिए आभारी हूं।

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

रविकरजी बहुत-बहुत धन्यवाद।