शुक्रवार, 3 अप्रैल 2009

अजब-गजब दुनिया ( - :

हमारी दुनिया अजूबों से भरी पड़ी है। कभी-कभी तो विश्वास ही नहीं होता कि क्या ऐसा भी हो सकता है ? आज बाप-बेटों के कुछ नमूने देखें -
मोरोक्को के शाह, मुलाइ ईस्माइल (1646-1727) के 888 बच्चे थे। उसकी सेना की एक रेजिमेंट थी जिसमें 540 सैनिक थे और वे सारे के सारे उसके बेटे थे।
टर्की के सुल्तान, मुस्तफा IV (1717-1774) के 582 बच्चे थे। सारे के सारे लड़के। सत्रह सालों तक कन्या पाने की उसकी सारी कोशिशें बेकार साबित हुईं।
सुल्तान अब्दुल हमीद II, (1876-1909) के सिर्फ 500 के करीब बच्चे थे। आश्चर्य इस बात का नहीं है, आश्चर्य इस बात का है कि उसकी 30,000 पत्नियां थीं।
पोलैंड के अगस्ट II और सैक्सोनी (1670-1733) के 355 बच्चे थे, जिनमें 354 नाजायज औलादें थीं। एकमात्र जायज बेटा अगस्ट III था, जो बाद में राजा बना।
फ्रांस में बोरडिक्स के जीन गाई साहब की किस्मत देखिए। उन्होंने 16 बार शादी की। हर बार वधू अपने साथ अपने बच्चों को लाई। अंत में इन्होंने जब सारे बच्चों का हिसाब लगाया तो पाया कि वे 121 बच्चों के सौतेले पिता हैं।
अंत में फ्रांस के ही पुयी-दि-डोम के जैक्स दि थियर्स (1630-1747) की खुशकिस्मति देखिए। इनके 25 लड़के और एक लड़की थी। इनका प्रत्येक बेटा फ्रांस की सेना में कर्नल बना। हरेक ने युद्ध में अपनी-अपनी रेजिमेंट के साथ लड़ते हुए नाम कमाया। युद्ध के बाद लुइस XIV ने उन्हें प्रशस्ति पत्र दिया जिसमें उल्लेख था कि इन 25 थियर्स भाईयों, जो कि श्रीमान जैक्स थियर्स के बेटे हैं के कारण ही युद्ध जीता जा सका। गर्वोनत जैक्स थियर्स ने 117 साल की उम्र प्राप्त की।

15 टिप्‍पणियां:

P.N. Subramanian ने कहा…

बहुत ही रोचक संकलन. आभार. रामनवमी पर मंगलकामनाएं.

P.N. Subramanian ने कहा…

बहुत ही रोचक संकलन. आभार. रामनवमी पर मंगलकामनाएं.

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

बहुत रोचक जानकारी ! ऐसी जानकारी तो पहली बार मिली है !

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

रोचक लगा यह ..और अचरज भरा भी ..शुक्रिया

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र ने कहा…

बहुत बढ़िया जानकारी दी आपने . आज के समय में दो बच्चो को पैदा करने और खिलाने में आदमी को पसीना आ जाता है और उसके बारह बज जाते है हा हा .
रामनवमी पर मंगलकामनाएं

संगीता पुरी ने कहा…

हमारी दुनिया अजूबों से भरी पड़ी है ... और इसे संकलित करने के लिए आपने 'अलग सा' बना ही लिया है ...बहुत रोचक जानकारी दी है आपने ... रामनवमी की शुभकामनाएं।

dhiru singh {धीरू सिंह} ने कहा…

सिर्फ इतने से बच्चे -नाम कैसे याद रखते थे

परमजीत बाली ने कहा…

बहुत रोचक जानकारी है।धन्यवाद।

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बडी रोचक जानकारी है जो लोग कृष्ण भगवान पर विश्वास नही करते उनको पढकर सदमा लगेगा शायद. यानि तीस हजार पत्नियों की बात.

रामराम.

Anil ने कहा…

अजी यह तो कुछ नहीं। चंगेज खान के कितने लाख बच्चे थे, यह तो आज तक विवाद का विषय बना हुआ है। और भगवान श्रीकृष्ण की 16,108 पत्नियाँ थीं। और लालू या नरसिंह राव के कितने बच्चे हैं, यह भी याद रखियेगा! :)

राज भाटिय़ा ने कहा…

शर्मा जी बहुत ही सुंदर जानकारी दी, आज के जमाने मै तो एक बीबी ही नचा कर रक देती है पुरे खान दान को, ओर यहां ३० हजार....
यह बहुत रोचक लगी ...
पोलैंड के अगस्ट II और सैक्सोनी (1670-1733) के 355 बच्चे थे, जिनमें 354 नाजायज औलादें थीं। एकमात्र जायज बेटा अगस्ट III था, जो बाद में राजा बना।, वेसे आप को बता दुं की पोलेंड हम से भी गरीब है यहां हद से ज्यादा चोरीयां, हेरा फ़ेरीया; ठगीया होती है... यह जायज बेटा भी क्या सच मै जायज ही होगा???
धन्यवाद

अनिल कान्त : ने कहा…

दिलचस्प जानकारी दी आपने

मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

कमाल है? वास्तव में ये दुनिया अजूबों से भरी पडी है.......

Neha ने कहा…

sounds impossible

Gagagn Sharma, Kuchh Alag sa ने कहा…

@sounds------

But it is true