शुक्रवार, 17 दिसंबर 2010

ये भी तो प्रशंसा के हकदार हैं

सही समय पर इलाज ना हो पाने के कारण कमला अमरनानी के पति तथा पुत्र की असमय मौत हो गयी थी। उस भीषण दुख से उबरते हुए उन्होंने ऐसे लोगों की मदद करने का संकल्प लिया जो किसी भी कारणवश अपनों की जिंदगी बचा पाने में असमर्थ होते हैं। उल्हास नगर में गरीबों के बीच माता के नाम से लोकप्रिय कमलाजी से शहर के रिश्वतखोर डाक्टर भी घबड़ाते हैं। यदी उन्हें किसी भी डाक्टर के रिश्वत लेने या अपने काम के प्रति लापरवाह होने का पता चलता है तो फिर उस डाक्टर की खैर नहीं रहती। 44 साल पहले उन्होंने डाक्टरों की हड़ताल के कारण अपने पति और पुत्र को खोया था और अब वे नहीं चाहती कि उनकी तरह किसी और को उस विभीषीका का सामना करना पड़े। आज 96 साल की उम्र में भी वे पूरी तरह सक्रिय हैं।
*************************************************
अमेरिकी सेना में तैनात सार्जेंन्ट जानी कैंपेंन इराक गया तो था लोगों की मौत का पैगाम लेकर, पर इंसान के मन को कौन जान सका है। अपने इराक अभियान के दौरान जानी की मुलाकात वहां के राहत कैंप में एक आंख की बिमारी से ग्रस्त बच्ची, जाहिरा, से हुई, जिसका इलाज हो सकता था। जानी ने अपने गृह नगर में अपने दोस्तों और नगरवासियों से अपील कर एक बडी राशी एकत्र कर उसे अस्पताल में भर्ती करवाया। आप्रेशन सफ़ल रहा। आज जाहिरा दुनिया देख सकती है। उसकी दादी कहती है कि युद्ध चाहे तबाही लाया हो, पर मेरी पोती के लिये उसी फौज का सिपाही भगवान बन कर आया।
************************************************
बैंकाक में तीन पहिया स्कूटर को "टुक-टुक" कहते हैं। इसी पर सवार हो कर जो हवस्टर और एन्टोनियो बोलिंगब्रोक केंट ने बैंकाक से ब्रिटेन तक 12 हजार मील की यात्रा सिर्फ़ इस लिए की जिससे मानसिक तौर पर विकलांगों की सहायता की जा सके। इसमे वे सफ़ल भी रहीं और उन्होंने 50 हजार पौंड जुटा अपना मिशन पूरा किया।

12 टिप्‍पणियां:

bhartiya naagrik ने कहा…

vaakai hain...

Dr Narendra ने कहा…

गगन जी, आप कि प्रस्तुति प्रशंसा योग्य है. इन लोगों ने जो सराहनीय कार्य करे, इस के लिये वे निश्चय ही प्रशंसा और सम्मान के पत्र हैं. और मुझे पूर्ण विश्वास है कि उन को उचित सम्मान और सराहना अवश्य ही मिली होगी. यदि हम अपने आस पास नज़र डालें तो हमें भी ऐसे अवसर प्रतीक्षारत दिखाई देंगे, परन्तु, इतिहास में नाम केवल उन्हीं लोगों का लिखा जाता है जिन्होंने इन अवसरों को देखा, समझा और उन के समाधान के लिये कुछ करने का प्रयास किया.

नरेन्द्र वासल
जबलपुर

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

सुन्दर पोस्ट!

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर जानकारियां दे रहे हे जी धन्यवाद

वन्दना महतो ! ने कहा…

आपकी प्रस्तुति भी प्रशंशा की हकदार है. ऐसे लोगो को सलाम मेरा.

amar jeet ने कहा…

अच्छी जानकारिया आपने दी !अच्छे लोगो के नेक कार्यो को प्रचारित करना भी नेक कार्य है ...

Rahul Singh ने कहा…

प्रशंसा के हकदार तो आप भी हें, ऐसी खबरें यहां लाने के लिए.

hunkar ने कहा…

apke dwara logo ke sarahniye prayas ki sarahna sarahniye hai

hunkar ने कहा…

apke dwara logo ke sarahniye prayas ki sarahna sarahniye hai

Darshan Kaur Dhanoe ने कहा…

Aap ki lekhani ko mera sat-sat pranam.
aase gine-chune log hay unhay mera
slam !jinohne kuch aalag kiya hay.

kushwaha ने कहा…

Aap ka hoshala bicharo par nirbhar karta hai yadi bichar majboot hai to samjhho sab kam banta hai
mera salam

Mohit ने कहा…

Dear Blogger,We can help you to have own Google verified Adsense Account within 24 hours.Visit www.Approveads.in