मंगलवार, 9 अगस्त 2011

सुना है हवाई किराया और कम होगा :-)

इधर रेलवे किराया बढाने का सोच रही है, उधर हवाई कम्पनियां अपने किराए में कमी लाने जा रही हैं। नतीजा -

8 टिप्‍पणियां:

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

भाई यो हवाईजहाज जरूर हरयाणा का जोगाड सै,:)

रामराम.

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

रेल उड़ेगी,प्लेन पटरी पर चलेगा।:)

विवेक रस्तोगी ने कहा…

ये बढ़िया कार्यक्रम लगा ।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

कुछ लटकने के लिये झूले भी बनाये जा सकते हैं।

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

वैसे बस की तरह अंदर खड़े होने का जुगाड़ भी हो सकता है। घंटे-डेढ घंटे की तो बात है इधर से उधर होने मे

Chetan ने कहा…

ye badhiya hai. andar kii bhiid se bach kar khule me yatra.

G.N.SHAW ने कहा…

यही तो मैनेजमेंट है यानी मैनेज और बेंट

Sawai Singh Rajpurohit ने कहा…

बहुत ही सुन्दर

ब्लॉग की 100 वीं पोस्ट पर आपका स्वागत है!

!!अवलोकन हेतु यहाँ प्रतिदिन पधारे!!

विशिष्ट पोस्ट

हिंदी, अपनाना है तो दिल से अपनाएं

ठीक है अंग्रेजी का महत्व अपनी जगह है। पर उसके कारण, अकारण ही हम अपनी भाषा को हीन समझते हैं, उसे दोयम दर्जे की मान लेते हैं ! दुःख तो तब होता...