शुक्रवार, 23 जून 2017

सुर, दैत्य, दानव, राक्षस सभी ऋषि कश्यप की संताने थीं !

धर्मग्रन्थों में असुरों  का वर्णन शक्तिशाली, अतिमानवीय और अर्धदेवों के रूप में किया गया है। कथाओं में उनके अच्छे और बुरे दोनों गुणों पर प्रकाश डाला गया है। असुरों में मुख्य, दैत्य दिति के तथा दानव दनु के पुत्र थे। राक्षस प्राचीन काल की एक प्रजाति का नाम था, जो रक्ष संस्कृति या रक्ष धर्म की अनुयायी थी, इसकी स्थापना रावण ने की थी....

पौराणिक कथाओं के अनुसार दानवों और राक्षसों का आपस में काफी पुराना बैर चला आ रहा था, इसी के चलते राक्षसराज रावण ने अपने ही बहनोई दानव विद्युतजिह्वा का वध कर दिया था। आम धारणा और बोलचाल में असुर, दानव, दैत्य और राक्षसों को तकरीबन एक जैसा ही माना जाता है। पर इनमें आपस में
बहुत फर्क है। यह विषय काफी गूढ़ और पेचीदा है। हमारे ग्रंथों में इसको पूरी तरह परिभाषित किया गया है कि कैसे, कहां और किससे इन  उत्पत्ति हुई और किन कारणों से इनमें आपस में विद्वेष जन्मा। पर किसी एक ग्रंथ से पूरी जानकारी हासिल नहीं की जा सकती। तर्क-कुतर्क की बहुत गुंजाइश है। फिर भी सरल जानकारी के
तौर पर जाना जा सकता है कि
देवताओं की अदिति, दैत्यों की दिति, दानवों की दनु और राक्षसों की सुरसा से उत्पत्ति हुई। जबकि इनके पिता एक ही थे, वैदिक ऋषि कश्यप, जिनकी गणना सप्तऋषियों में की जाती है। जिनका गोत्र इतना विशाल है कि माना जाता है कि सृष्टि के प्रसार में उनके वंशजों का योगदान ही सर्वोपरि है। पर  महान पिता की विभिन्न माताओं से जन्मी संताने, जो आपस में भाई-बहन ही थे, कभी भी एक मत नहीं हुए और अपने-अपने हित, स्वार्थ के लिए जिंदगी भर लड़ते-मरते रहे। वैसे कुछ विद्वानों का मानना है कि सृष्टि के रचयिता
 ब्रह्मा और उनके कुल के लोग धरती के वासी नहीं थे। उन्होंने धरती पर अपने कुल के विस्तार की खातिर आक्रमण कर यहां दैत्यों और दानवों का दमन किया जिसकी वजह से धरती और स्वर्ग के वाशिंदों में सदा के युद्ध की शुरुआत हुई थी।  

ऐसा नहीं था कि देवताओं का विरोध करने वाले असुर सिर्फ बुरे ही थे, धर्मग्रन्थों में उनका वर्णन शक्तिशाली, अतिमानवीय और अर्धदेवों के रूप में किया गया है। कथाओं में उनके अच्छे और बुरे दोनों गुणों पर प्रकाश डाला गया है। असुरों में मुख्य, दैत्य दिति के तथा दानव दनु के पुत्र थे। राक्षस प्राचीन काल की एक प्रजाति का नाम था, जो रक्ष संस्कृति या रक्ष धर्म की अनुयायी थी। इसकी स्थापना रावण ने की थी। रक्ष धर्म को मानने वाले राक्षस कहलाते थे। एक अन्य कथा के अनुसार प्रजापिता ब्रह्मा ने समुद्रगत जल और प्राणियों की रक्षा के लिए अनेक प्रकार के प्राणियों को उत्पन्न किया। उनमें से कुछ प्राणियों ने सबकी रक्षा की जिम्मेदारी संभाली इसीलिए वे रक्षा करने वाले यानी राक्षस कहलाए। 

हालांकि इनकी छवि देवताओं के विरोधी होने की वजह से धूमिल मानी जाती है पर इन अलग-अलग जातियों में भी विद्वान, पराकर्मी, शूरवीर, धर्मात्मा और नेकदिल पुरुषों के साथ ही अनेक महिला विदुषियों का जन्म भी हुआ था, जिन्होंने अपनी विद्वता, साहस, त्याग और प्रेम से दुनिया भर में अपनी जाती का नाम रौशन किया था। इनमें कुछ प्रमुख हस्तियां थीं, शुक्राचार्य, गयासुर, मायासुर, बलि, प्रह्लाद, रावण, कुम्भकर्ण, विभीषण, माल्यवान, सुमाली, मंदोदरी, सुलोचना, वृंदा, लंकिनी, त्रिजटा आदि। 

गुरुवार, 22 जून 2017

नारी प्रतिशोध की पहली मिसाल, शूर्पणखा

शूर्पणखा ने कालकेय दानव से विवाह किया था।  (उसी कालकेय जाति को "बाहुबली फिल्म" के पहले भाग में विस्तृत रूप में तथा दूसरे भाग में कुछ देर के लिए दर्शाया गया है) अपने पति के वध का पूरा सत्य जाने बिना ही उसने अपने भाई-भतीजों के साथ-साथ पूरी राक्षस जाति को उसके अंत तक पहुंचा दिया। पर उसका खुद का अंत भी एक रहस्य ही बना रहा, जब कुछ वर्षों के बाद एक दिन उसका और उसकी भाभी कुम्बिनी का शव समुद्र से बरामद हुए 

रामायण एक महाग्रंथ है इसमें दो राय नहीं है नाहीं हो सकती हैं। इसकी लोकप्रियता इतनी है कि कई भाषाओं के अलावा इसका बौद्ध, जैन तथा सिख धर्म के ग्रंथों में रूपांतरण हो चुका है। यहां तक की भारत के बाहर कम्बोडिया, बर्मा, थाईलैंड, मलेशिया, इंडोनेशिया, फिलीपींस जैसे देशों में भी इसकी लोकप्रियता चरम पर है। हालांकि इसके कथानक में समय और परिवेश के अनुसार कुछ बदलाव भी आते चले गए हैं पर मूल कथानक सदा की तरह अपनी तमाम अच्छाइयों के साथ मानव को सत्यमार्ग पर चलने की सीख देता आ रहा है। 

 इस महाकाव्य की खासियत यह भी है कि इसमें पुरुषों के साथ-साथ कई स्त्री पात्र भी ऐसे हैं जिनकी पूरे कथानक में बहुत ही सशक्त व अहम भूमिका रही है। ऐसा ही एक चरित्र है राक्षसराज रावण की बहन
शूर्पणखा का। महाकाव्य पढ़ने से ऐसा लगता है कि राम-रावण युद्ध का मुख्य कारण शूर्पणखा ही है पर कुछ रचनाकारों का मत कुछ अलग भी है, जिसे नकारा नहीं जा सकता। उनके अनुसार शूर्पणखा का राम और लक्ष्मण के पास जा प्रणय निवेदन करना सिर्फ एक दिखावा था असल में वह रावण के समूल नाश की एक भूमिका थी।

शूर्पणखा ऋषि विश्रवा और उनकी दूसरी पत्नी कैकेसी की सबसे छोटी संतान थी। जो अपनी माँ के सामान ही सुंदर और रूपवती थी। अपनी सुंदर आँखों के कारण उसका नाम मीनाक्षी रखा गया था। बचपन से ही वह उच्चश्रृंखल थी। बड़ी होने पर उसने गुप्-चुप तरीके से कालकेय दानव विद्युतजिह्वा, जिसका दूसरा नाम दुष्टबुद्धि भी था, के साथ विवाह कर लिया था। दानव जाति का राक्षसों से बहुत पुराना बैर चला आ रहा था। इसलिए रावण इस विवाह से खुश नहीं था और वह दोनों को दंडित करना चाहता था पर पत्नी मंदोदरी के समझाने पर उसने दोनों को माफ़ ही नहीं किया बल्कि विद्युतजिह्वा को अपने  उच्च पद भी दे दिया। पर विद्युतजिह्वा, जिसका एक और नाम दुष्टबुद्धि भी था, का शूर्पणखा से विवाह करने का मुख्य मकसद रावण का वध कर उसके राज्य पर आधिपत्य करना था। रावण को जब उसकी असलियत का पता चला तो उसने अपने बहनोई का वध कर
डाला। शूर्पणखा को सच्चाई का पता नहीं था इसलिए उसने मन ही मन रावण के विनाश की कसम खा डाली। पर रावण की शक्ति के सामने वह कुछ भी नहीं थी। इसके लिए किसी बहुत शक्तिशाली माध्यम की जरुरत थी जिसके लिए उसे राम वनवास तक इन्तजार करना पड़ा। 

श्री राम ने जब अपने वनवास के दौरान राक्षसी ताड़का, जो शूर्पणखा की नानी थी, और सुबाहू को मार डाला तो शूर्पणखा को अपना बदला लेने की एक आशा नजर आई। फिर भी उसने श्री राम की शक्ति को आंकने के लिए अपने भाइयों खर और दूषण, जो पराक्रम में रावण के सामान थे, को सैंकड़ों सैनिकों के साथ उनसे लड़ने के लिए भेजा और उनके हश्र को देख उसने एक योजना बनाई जिसके तहत उसने दोनों भाइयों को उकसा कर अपने नाक-कान कटवा लिए। अपनी बहन का यह अपमान रावण सह नहीं पाया और उसने सीता का अपहरण कर अपने और लंका के पराभव की नींव रख दी। 

इस तरह शूर्पणखा ने बिना सत्य जाने अपने भाई-भतीजों के साथ-साथ पूरी राक्षस जाति को उसके अंत तक पहुंचा दिया। कई विद्वानों का मत है कि महासमर के बाद वह अपने भाई विभीषण और उनकी पत्नी कुम्बिनी के साथ लंका में रहने लगी थी। पर कुछ वर्षों के बाद एक दिन उसका और उसकी भाभी के शव समुद्र से बरामद हुआ था जिसके कारण का कहीं उल्लेख नहीं मिलता। 

पर ब्रह्मवैवर्तपुराण में एक कथा आती है, जिसके अनुसार भले ही किसी दूसरी योजना के तहत वह राम-लक्ष्मण से मिली थी पर श्री राम के अनुपम रूप ने उसे मोह लिया था। इसलिए महासमर के बाद उसने पुष्कर तीर्थ में ब्रह्मा जी की कठोर तपस्या कर अगले जन्म में श्री राम को अपने पति के रूप में पाने का वर प्राप्त किया। जिसके तहत त्रेता युग में उसका जन्म कुब्जा के रूप में हुआ जिसे श्री कृष्ण जी ने रोग मुक्त कर अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किया।  

बुधवार, 21 जून 2017

हाथ ना हों तो तकदीर तो हो सकती है पर "आधार कार्ड" नहीं बन सकता !

कहने-सुनने में तो रोज ही करोड़ों के कर्जे के माफ़ होने को आता है पर जब ऐसे लोगों की हालत सामने आती है तो लगता है कि यह सब चोंचले भी समृद्ध व समर्थ लोगों के काम ही आते हैं। अरे जब एक गरीब का आधार कार्ड नहीं बन पा रहा तो वह कर्ज माफ़ी की दसियों कागजी कार्यवाहियों से कैसे पार पा सकेगा !! 

*हाथों की लकीरों पर बराबर विश्वास नही करना चाहिए,
तक़दीर तो उनकी भी होती है जिनके हाथ नही होते।   

जिसने भी यह उक्ति लिखी होगी उसका पाला भारत के  सरकारी दफ्तरों के अपाहिज नियमों को पत्थर की लकीर मानने वाले लकीर के फ़क़ीर कारकूनों से नहीं पड़ा होगा। नाहीं उसने लाल फीताशाही जैसे सर्प का नाम सुना होगा जो दफ्तर की फाइलों पर कुंडली मारे पड़ा रहता है जिसके डर से सालों-साल उन फाइलों पर काम नहीं हो पाता। 

आज ही अखबार में एक खबर पढ़ी कि उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले के सालामाबाद गांव के रहने वाले सीताराम नाम के किसान, जिनका दायां हाथ एक हादसे का शिकार हो गया था, का आधार कार्ड इसलिए नहीं बनाया जा रहा क्योंकि उनके दाएं हाथ की ऊँगलियाँ नहीं हैं। आधार कार्ड बनाने वालों का कहना है कि बिना दाएं हाथ की ऊँगलियों की छाप के यह कार्ड नहीं बन सकता। अपनी पत्नी मुन्नी के साथ जमीन के एक छोटे
से टुकड़े पर गुजरा करने वाले सीताराम जी को अब यह डर भी सता रहा है कि बिना आधार के कहीं उनकी पेंशन भी ना रोक दी जाए। जबकि अभी भी वह पिछले कई सालों से गरीबी के कारण दूसरा बैल न होने की वजह से हल को अपने कंधो पर रखकर खेत जोतने पर मजबूर हैं। सरकार की तमाम योजनाओं के बावजूद भी बुज़ुर्ग किसान तक यदि कोई मदद नहीं पहुंची है तो दोष किसका है ? 

सुना है कि अखबारों में इस दंपत्ति की फोटो छपने पर मुख्य मंत्री योगी आदित्य नाथ जी ने हर संभव सहायता देने का आश्वासन दिया है। अच्छा होता कि मौके पर ही कोई एक्शन ले लिया जाता। जिससे लोगों के मन में सरकार के प्रति थोड़ी आस्था बढ़ती। क्योंकि लोगों में धारणा गहरे पैठी हुई है कि आश्वासन तो मिलते ही रहते हैं अमल कब होता है। वैसे भी दफ्तरों की सदी-गली सालों-साल चली आ रही प्रणालियों को बदलने पर पहले ध्यान दिया जाना चाहिए। जिससे सर्वहारा को भी योजनाओं का लाभ मिल सके नहीं तो किसी का ध्येय कितना भी पवित्र हो उसका फ़ायदा सक्षम लोग ही ले उड़ते रहेंगे। 

कहने-सुनने में तो रोज ही करोड़ों के कर्जे के माफ़ होने को आता है पर जब ऐसे लोगों की हालत सामने आती है तो लगता है कि यह सब चोंचले भी समृद्ध व समर्थ लोगों के काम ही आते हैं। अरे जब एक गरीब का आधार कार्ड नहीं बन पा रहा तो वह कर्ज माफ़ी की दसियों कागजी कार्यवाहियों से कैसे पार पा सकेगा !! 
क्या माननीय योगी आदित्यनाथ जी इस ओर ध्यान देंगे ?   

मंगलवार, 13 जून 2017

शनिवार वाड़ा, पेशवा बाजीराव का किला

शनिवार वाड़ा,  महाराष्ट्र राज्य के पुणे ज़िले में स्थित वह दुर्ग है जिसका निर्माण 1746 में छत्रपति साहू जी के
शनिवारवाडा में बाजीराव पेशवा की प्रतिमा 
प्रमुख सरदार, पेशवा बाजीराव 
 ने अंग्रेजों के साथ अपने तीसरे युद्ध के दौरान करवाया था। ऐसा कहा जाता है कि एक बार पेशवा बाजी राव को यहाँ एक खरगोश के डर से कुत्ते को भागते देख इस जगह पर किला बनाने की प्रेरणा मिली। इस सात मंजिला इमारत के सबसे ऊपरी भाग में पेशवा की अपनी रिहाइश थी जिसे "मेघदंबरी" के  नाम से जाना जाता था। जहां से 17 की.मी. दूर, आलंदी का जनेश्वर मंदिर  साफ़  नजर आता था। हालांकि 1838 में हफ्ते भर तक लगी रही एक 

आग से इसकी कई इमारतें पूरी तरह नष्ट हो गयी थीं, पर बचे हुए हिस्से को संरक्षित कर अब इसे एक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित कर दिया गया है। इस किले की नींव शनिवार के दिन रखी गई थी इसलिए इसका नाम शनिवार वाडा पड़ा। इस पर 1818 तक पेशवाओं की हुकूमत रही। इसके पांच प्रवेश द्वार हैं -   
दिल्ली दरवाजा : यह इस किले का सबसे प्रमुख द्वार है, उत्तर दिशा में स्थित यह द्वार इतना ऊँचा और चौड़ा है कि हौदे सहित हाथी निकल सकता है। हमले के वक़्त हाथियों से इस गेट को बचाने लिए इस गेट के दोनों पलड़ो में 12 इंच लम्बे 72 नुकीले कीले लगे हुए है जो कि हाथी के माथे तक की ऊँचाई तक जाते हैं। दरवाज़े के दाहिने पल्ले में एक छोटा द्वार है जो सैनिको के आने जाने के लिए बनाया गया था। 
मुख्य द्वार 

मस्तानी दरवाजा : यह दरवाज़ा दक्षिण दिशा की ओर खुलता है। बाजीराव  की पत्नी मस्तानी जब किले से बाहर जाती तो इस दरवाज़े का उपयोग करती थी।  इसलिए इसका नाम मस्तानी दरवाज़ा है। वैसे इसका एक और नाम अली बहादुर दरवाज़ा भी है।
मस्तानी दरवाजा 

खिड़की दरवाजा : यह पूर्व दिशा में खुलने वाले दरवाज़े में एक खिड़की बनी हुई है, इसलिए इसे खिड़की दरवाज़ा कहा जाता है।

जंभुल दरवाजा :  दक्षिण दिशा में स्थित इस द्वार से दास-दासियों का महल में आना-जाना होता था। नारायण राव पेशवा की ह्त्या के बाद उसकी लाश के टुकड़ो को इसी रास्ते से किले के बाहर ले जाया गया था इसलिए इसे नारायण दरवाज़ा भी कहा जाता है।


गणेश दरवाजा : किला परिसर में स्थित गणेश रंग महल के पास दक्षिण-पूर्व दिशा में स्थित होने के कारण  इसे गणेश द्वार का नाम दिया गया है।  

जैसा कि अधिकाँश किलों के साथ बर्बर घटनाएं भी जुडी होती हैं इस किले के साथ भी एक षड्यंत्र की कहानी जुडी हुई है। बाजीराव पेशवा के तीन पुत्र थे। विश्वासराव, महादेव राव और नारायण राव। विश्वासराव पानीपत की तीसरी लड़ाई में मारे गए थे। बाजी राव की मृत्यु के पश्चात् महादेव राव राजा बने पर कुछ समय पश्चात् ही उनका भी निधन हो गया तब सिर्फ सोलह साल की आयु में नारायण राव को गद्दी पर बैठना पड़ा। पर जैसाकि राजपरिवारों में होता रहा है, नारायण राव के काका-काकी, रघुनाथ राव और आनंदी बाई, उनके राजा बनाने से खुश नहीं थे उन्होंने  षड्यंत्रपूर्वक गार्दी कबीले के लोगों से मिल नारायण राव की ह्त्या करवा दी। कई लोगों का ऐसा भी कहना है कि रघुनाथ राव बालक को मारना नहीं चाहते थे इसलिए उन्होंने अपने संदेश में लिखा था  "नारायणराव ला धरा" जिसे उनकी पत्नी ने "नारायणराव ला मारा" कर दिया था।  बालक ने अपने अंतिम क्षणों में अपने काका से अपने को बचाने की गुहार लगाईं, पर होनी हो कर रही। कहते हैं बच्चे नारायण राव की आत्मा आज भी किले में "काका माला बचावा" कहते हुए दौड़ती, सुनाई पड़ती है। इसलिए इस किले को देश के अभिशप्त किलों में शुमार किया गया है। 

अब जैसे-जैसे पुणे की आबादी बढती जा रही है, वैसे-वैसे किले के चारों ओर सड़कों, दुकानों का जाल भी बिछता जा रहा है। जरुरत है ऐसी ऐतिहासिक धरोहरों को गंभीरता से संरक्षण देने की, बचाने की।  

शुक्रवार, 9 जून 2017

एक थे दगडूसेठ, पुणे के

गणेशोत्सव पर मुंबई के सिद्धि विनायक और पुणे के दगडूसेठ हलवाई गणपति के उत्सवों को देख वहाँ जा साक्षात दर्शनों की इच्छा कई दिनों से थी।  जिनमें से एक पिछले अप्रैल में पुणे प्रवास के दौरान पूरी हुई जब  दगडूसेठ गणपति जी ने दिल खोल कर दर्शन दिए, रात्रि की अंतिम आरती का समय था। वहीँ उपस्थित लोगों से जो जानकारी प्राप्त हुई वही प्रस्तुत है....   

दगडूसेठ गडवे जी का चित्र 
वर्षों पुरानी बात है एक सज्जन, सपरिवार कर्नाटक से आ कर पुणे में बस गए। जीवन-यापन के लिए यहां उन्होंने अपना पुश्तैनी हलवाई का कारोबार शुरू करते हुए अपनी मिठाई की दूकान खोल ली।   प्रभू की  कृपा से काम चल निकला और ख्याति 
इतनी बढ़ गयी कि उनका उपनाम ही हलवाई पड़ गया। ये सज्जन थे दगडूसेठ गडवे। आज भी उनकी वह दूकान पुणे में बुधवार पेठ में दत्ता मंदिर के पास काका हलवाई के नाम से मौजूद है।

जब सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था तभी शहर में प्लेग की बिमारी का प्रकोप हुआ जिसमें दगडूसेठ के लड़के की भी मौत हो गयी। इस वज्र-प्रहार से पति-पत्नी गहरे सदमे में चले गए, हर चीज से किनारा कर लिया। उनको इस हालत से उबरने के लिए उनके गुरु श्री माधवनाथ महाराज ने उन्हें एक गणेश मंदिर बना समाज सेवा के लिए उद्यत किया। दगडूसेठ और उनकी पत्नी लक्ष्मीबाई दोनों प्राणपण से इस काम में जुट गए। यह मंदिर 1893 में बन कर तैयार हुआ। जिसे सभी दगडूसेठ हलवाई गणपति मंदिर के नाम से जानने लगे। धीरे-धीरे पुणे के इस गौरवशाली मंदिर की ख्याति महाराष्ट्र से से होते हुए पूरे देश में फ़ैल गयी। आज जिस तरह मुंबई के
सिद्धि विनायक की महिमा है उसी तरह देश-विदेश सब जगह इस मंदिर की भी ख्याति व्याप्त है।  दूर-दूर से लाखों भगत हर साल प्रभु गणेश के दर्शन हेतु आने लगे। देश की बड़ी-बड़ी विभूतियाँ भी अपनी मनोकामना लेकर गणपति के आशीष के लिए यहां पहुंचती रही हैं। गणेशोत्सव के दस दिनों में महाराष्ट्र के मुख्य मंत्री का यहां आना तो एक परंपरा ही बन गया है। कहते हैं श्री लोकमान्य तिलक जी के साथ दगडूसेठ की बहुत आत्मीयता थी। तिलक जी को उनके मंदिर निर्माण तथा गणपति जी के प्रति समर्पण देखा तो उन्हें गणेशोत्सव मना कर लोगों को एकजुट करने का विचार आया और तभी से हर साल सार्वजनिक रूप से गणेशोत्सव मनाने की परंपरा चल पड़ी।    

शनिवारवाडा के नजदीक बुधवार पेठ के इलाके में स्थित इस मंदिर की बनावट में इतनी सादगी है कि बाहर सड़क से भी अंदर की कार्यवाही के दर्शन किए जा सकते हैं। इसमें 7.5 फिट ऊँची और फिट चौड़ी गणेश जी की
भव्य प्रतिमा स्थापित है, जिसे करीब आठ किलो सोने से सजाया गया है। जिसका बीमा एक करोड़ रूपए का किया गया है। पूरे मंदिर की देख-रेख का जिम्मा "दगडुशेठ हलवाई ट्रस्ट" द्वारा संभाला जाता है। जिसकी एक महत्त्वपूर्ण व जिम्मेदार संस्थाके रूप में पहचान है. अपनी संस्कृति-संवर्धन और समाज सेवा  के लिए पूरी तरह समर्पित मानी जाती है। इसके द्वारा लाखों रुपयों से एक पिताश्री नामक वृद्ध आश्रम की स्थापना, करीब चालीस निराश्रित बच्चों के खान-पान-पढाई के इंतजाम के साथ ही गरीबों की सहायता और इलाज का भी बंदोबस्त किया जाता है। संस्था एम्बुलेंस सेवा भी प्रदान करती है। 

बुधवार, 7 जून 2017

महाबलेश्वर, मुंबईकरों का स्वर्ग

मुंबईकर बहुत खुशनसीब हैं जो  प्रकृति  उन  पर पूरी   तरह मेहरबान है। यहां  सागर - पहाड़  का  दुर्लभ  मेल उपलब्ध है। समुद्र तो खैर उनके आँगन में उछालें मारता ही है, मनोरम पहाड़ी सैर - गाहें भी उनके बहुत करीब हैं। ऐसी ही एक मनोरम जगह है "महाबलेश्वर", जहां प्रकृति उदात्त रूप में अपनी छटा बिखेरती विद्यमान है।
महाबलेश्वर की ओर 
मार्ग में पड़ती सुरंग 

महाबलेश्वर 
महाबलेश्वर सहयाद्रि पर्वत श्रृंखला में स्थित है। अंग्रेज अपने शासन-काल में गर्मी के दिनों में अपना काम-काज यहां से निष्पादित किया करते थे। मुंबई से करीब 285 की.मी., पुणे से लगभग 120 की.मी. और पंचगनी से मात्र 19 की.मी. की दूरी पर तीन गांवों से घिरा एक छोटा सा शहर है जो समुद्र तल से करीब 1,353 मीटर की ऊंचाई पर कृष्णा नदी की घाटी में स्थित है। पर्यटकों के लिए यहाँ दसियों ऐसे पर्यटक स्थल हैं जहां जा कर समय के गुजरने का एहसास ही नहीं हो पाता।    
महाबलेश्वर शिव मंदिर 


निडल प्वाइंट 
पुराने महाबलेश्वर में शिव जी का एक प्राचीन मंदिर है। जिसके दर्शन जरूर करने चाहिए। इसके अलावा आर्थर सीट, मैप्रो गार्डन, निडल प्वाइंट, प्रताप गढ़ किला, विल्सन प्वाइंट, सन सेट प्वाइंट आदि दर्जनों मनोहारी जगहें हैं। इसलिए जब भी जाना हो कुछ समय अपने हाथ में जरूर रखें। 
वृक्ष संरक्षक 

सुस्ताहट 


महाबलेश्वर मॉल रोड 
पंचगनी से हम 20-25 मिनट में महाबलेश्वर पहुँच गए। पंचगनी के पठार ने कुछ थका दिया था, अप्रैल का अंतिम सप्ताह था, धूप तेज हो रही थी, समय भी करीब दो बजे का हो रहा था, इसलिए सर्वसम्मति से पहले उदर-पूजन करना ही उचित समझा गया। पुणे से चलने के पहले होटेल पैनोरमा का नाम उसके अच्छे खाने के लिए सुझाया गया था। सुझाव सटीक निकला खाना सुस्वादु था। पर उसके बाद कुछ ऐसी खुमारी चढ़ी कि दसियों जगहें देखने वाली होने के बावजूद हिम्मत नहीं हो पाई कहीं और भी जाएं। सो बाजार के ही चक्कर लगा कर संतोष करते रहे। शाम को चार बजे लौटने की प्रक्रिया शुरू हुई। मुख्य मार्ग पर ही स्थित पारसी प्वाइंट पर जरूर रुकना हुआ।







पारसी प्वाइंट 
यह एक पिकनिक स्थल है। जहां पार्क के साथ ही खाने-पीने का फुटकर सामान प्रचुरता के साथ उपलब्ध है।   यहां से घाटी का अपूर्व व विहंगम नजारा देखने को मिलता है। इसके नाम के बारे में  पूछने पर पता चला कि यह जगह पारसी समुदाय की मिल्कियत थी जिसे उन्होंने जन-हित के लिए सरकार को दे दिया था इसीलिए इसे पारसी प्वाइंट के नाम से जाना जाता है। यहां दिन भर लोगों की आवा-जाही लगी रहती है फिर भी पार्किंग शुल्क नहीं लिया जाता। घंटा भर यहां गुजारने के बाद गाडी का मुंह पूना की तरफ कर दिया गया जहां घर पहुंचते-पहुंचते घडी की सूई नौ के पास जाने को बेताब हो रही थी।           

मंगलवार, 6 जून 2017

पठार, पंचगनी का

कहावत है कि गंजेड़ी को गांजा, भगेंडी को भांग मिल ही जाती है। उसी तरह घुमक्कड़ को घुमक्कड़ी का अवसर मिल ही जाता है। पिछली अप्रैल को प्रेम भरी मनुहार के फलस्वरूप पुणे जाने का सुयोग सामने आया। इसी यात्रा का एक हिस्सा रहा, पंचगनी और महाबलेश्वर की प्राकृतिक सुरम्य गोद में जा बैठने का सुख। पहले पंचगनी की बात।
पुणे से करीब सौ की. मी. की दूरी पर, समुद्र तल से लगभग 1,350 मीटर की ऊँचाई पर, सहयाद्री पर्वत श्रृंखला में पांच पहाड़ियों के बीच कृष्णा नदी की घाटी में बसे पांच गांवों के केंद्र में स्थित है, महाराष्ट्र की यह खूबसूरत पहाड़ी सैरगाह पंचगनी। इसकी खोज अंग्रेजों ने गर्मियों से बचने के लिए की थी। उन्होंने यहां ब्रिटिश मूल के सैकड़ों पौधों को लगाया जिसमे सिल्वर ओक एवं पोइंसेत्टिया प्रमुख हैं। जो अब पूरी तरह से पंचगनी के ही समझे जाते हैं। महाबलेश्वर भी ब्रिटिश लोगों की पसंदीदा जगह थी लेकिन मानसून के दौरान वह रहने के लायक नहीं रह जाता था। पंचगनी का मौसम साल भर खुशनुमा रहता है इसीलिए इसको उनके द्वारा अपने आराम गृह के तौर पर विकसित किया गया। यहीं एशिया का दूसरा सबसे बड़ा पठार स्थित है जो लगभग 99 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है। यह स्थान एक अजूबा ही है, जहां समय बिताना अपने-आप में एक उपलब्धि है। इसका असली जादू मानसून के दौरान ही जागता है, जब इसके कोने-कोने से पहाड़ी झरने अपनी धाराओं से स्वर्गिक दृश्य रचते हैं।

अपने वाहन का फायदा यह रहता है कि आप रास्ते भर पूरे परिवेश को अपनी मन-मर्जी से अपने में समेट सकते हैं। अप्रैल के महीने में धूप कुछ तेज थी पर माहौल खुशनुमा था। हमारा पहला पड़ाव इसका पठार ही था। वहाँ पहुँचने पर अपने-आप को एक अद्भुत जगह पर खड़े पाया। दूर-दूर तक फैला सपाट सा भूरे रंग का पथरीला मैदान। नीचे दूर दिखते छोटे-छोटे खेत और घर। उसके बाद चारों ओर फैली पहाड़ियों की श्रृंखलाएं। मंत्रमुग्ध करता नजारा। सामने ही एक बोर्ड पर देखने लायक स्थलों और घोड़ा गाड़ियों या कहें टम-टम के रेट की सूची, ग्राहकों को पटाने में लगे गाड़ीवानों की भीड़। सैकड़ों लोगों की उपस्थिति के बावजूद खाली-खाली महसूस होता परिवेश। एक अनोखा माहौल। 
विस्तृत पठार 


हम छह अदद लोग थे। तीन महिलाओं समेत। पैदल घूमना संभव नहीं था। सो टम-टम पर चलना तय हुआ।जिसमें एक पर सिर्फ चार लोगों के बैठने की शर्त थी, सो दो गाड़ियां करनी पड़ीं, 500/-, 500/- के किराए पर। हमें लगा था कि घंटा भर तो लग ही जाएगा पूरी जगह देखने में पर जैसा तक़रीबन सभी पर्यटक स्थलों पर होता है, कहा कुछ जाता है किया कुछ जाता है, हमें भी छह जगहों के बदले तीन दिखा कर वापस ले आया गया। घोड़ागाड़ी में लकड़ी के छक्कों की बजाए टायर लगे होने के बावजूद सतह इतनी उबड़-खाबड़ थी कि हर सेकंड लगते झटकों से कुछ ही देर में पेट का सारा पानी हिल गया। यदि कस कर कुछ पकड़ा ना गया हो तो भू-लुंठित होने में समय नहीं लगता। देखने के नाम पर वहाँ एक विशाल छिद्र को रेलिंग से घेर कर रखा गया है जिसे भीम का चूल्हा बताया जाता है। कहते हैं पांडव अपने अज्ञातवास के दौरान कुछ दिन यहां भी रुके थे।
भीम का चुल्हा  ??


पांडवों के पदचिन्ह ??
वहीँ से कुछ दूरी पर पत्थरों में कुछ पद चिन्ह जैसी आकृतियां बनी हुई हैं जिन्हें पांडवों के पैरों के निशान बताया जाता है। सिर्फ उत्सुकता जगा कर पर्टटकों को आकर्षित करने के लिए ऐसी मनघड़ंत बातों को फ़ैलाने से रोका जाना चाहिए। गाड़ीवान ने यहीं से हमें वापस "घुड़-अड्डे" पर ला छोड़ा। जबकि पश्चिमी हिस्से के नीचे बनी गुफा को भी दिखाया जाना था। पर गाडी की असहज सवारी हमें भी रास नहीं आ रही थी। सो गाड़ीवान की सलाह पर महिलाओं को ऊपर ही छोड़ सेठी जी, मैं तथा अभय ही नीचे गए। करीब पचास उबड़-खाबड़, अनगढ़ सीढ़ियां उतरने बाद वहाँ एक प्राकृतिक गुफा नुमा संरचना बानी हुई थी जिसमें व्यापारिक बुद्धि ने कुछ फुटकर खान-पान की दुकानें लगवा दी हैं। बाजार जो ना करे कम है। 
गुफा में खान-पान 


नीचे गुफा की ओर जाती सीढ़ियां 
धूप की तेजी और घूमने से कुछ-कुछ थकान भी महसूस हो रही थी। पुणे आज ही लौटना था फिर अभी महाबलेश्वर भी जाना था। सो और ज्यादा चहलकदमी ना कर वापस गाडी की ओर लौट लिए। 

सोमवार, 15 मई 2017

इस उम्रदराज युगल को सलाम है

याद कीजिए, अभी के वोडाफोन विज्ञापन के युगल को, जो पहली बार गोवा यात्रा पर निकले हैं। इसका हर अंक मन मोह लेता है। 78 साल के श्री वी.पी. धनंजयन और 74 साल की श्रीमती शांता धनंजयन को भरतनाट्यम में उनके योगदान के लिए 2009 में  पद्मभूषण से सम्मानित किया जा चुका है।  उनकी जीजीविषा को सलाम है कि इस उम्र में धनंजयन जी ने स्कूटर चलाना सीखा, पहली बार धोती छोड़ पैंट-टी शर्ट पहनी, युवाओं की तरह के करतब किए और विश्वसनीयता व सहजता से इंटरनेट का उपयोग कर जीवन का आनंद लेते  दिखे....

चाहे कितने भी विवाद खड़े हों, चाहे कितनी भी आलोचना हो, सच्चाई यही है कि आईपीएल  की लोकप्रियता में कोई कमी नहीं आ रही। बीस ओवरों की इस सनसनी ने "टेस्ट" और "एक दिवसीय" क्रिकेट को कहीं पीछे छोड़ दिया है। आंकड़े बतला रहे हैं कि हर साल इसे देखने वालों की भीड़ में इजाफा हो रहा है। एक समय में लाखों आँखें, दीन-दुनिया को भूल, टकटकी लगाए सारा समय टी.वी. से चिपकी रहती हैं। इसी कारण विज्ञापन देने वाली कंपनियां मुंह मांगी कीमत पर यहां समय लेने के लिए होड़ लगाए रहती हैं।
 
जिस तरह खेल के दौरान मैदान में चौके-छक्कों की बरसात होती है उसी तरह घर बैठे मैच देखने वाले लोगों पर विज्ञापनों की झड़ी लगी रहती है। पर इनमें ज्यादातर तो बकवास ही होते हैं। क्योंकि जिस तरह विज्ञापन बनवाने की मांग बढ़ी है उसी तरह गुणवत्ता भी हाशिए पर चली गयी है। विज्ञापनदाता का पहला प्रयास होता है
किसी जाने-माने फ़िल्मी कलाकार को अनुबंधित करना, उसके बाद उसके इर्द-गिर्द अपने उत्पाद का ताना-बाना बुनना। उन्हें लगता है कि उस कलाकार के आभामंडल से ही बेडा पार हो जाएगा पर होता उल्टा है, ज्यादातर ऐसे विज्ञापन दर्शकों को "बोर" करने लगते है। उदाहरण स्वरूप, एवरेस्ट मसाले, विमल, गंजी-बनियान, हेयर टॉनिक,  ओप्पो कैमरा, जिसे पिछले दो सालों से झेलते हुए लोग उसके आते ही  "ओफ्फो" कहने लगे हैं। हालांकि हर साल ये कंपनी फ़िल्मी जगत के चर्चित चहरे को ही चुनती है।

पर कुछ विज्ञापन ऐसे हैं जो अपनी पहली स्क्रीनिंग के साथ ही दर्शकों को मोह लेते हैं। दर्शकों का यही प्रेम विज्ञापनदाताओं को उनकी अगली कड़ी बनाने का हौसला देता है। याद कीजिए अभी हाल के #वोडाफोन विज्ञापन के युगल को, जो पहली बार गोवा यात्रा पर निकला है। इसका हर अंक मन मोहता है। दर्शक उम्रदराज युगल को अपने घर के सदस्य समान मानने लगता है। इन के बारे में प्रसिद्ध पत्रकार श्री रघुरामन जी के सौजन्य से पता चला कि 78 साल के श्री वी.पी. धनंजयन और 74 साल की श्रीमती शांता धनंजयन, चेन्नई के अड्यान में 1968 से भरतनाट्यम सिखाने के लिए भारत कलांजलि स्कूल चला रहे हैं, जिसके लिए उन्हें 2009 में पद्मभूषण से सम्मानित किया जा चुका है। उनकी जीजीविषा को सलाम है कि इस उम्र में धनंजयन जी ने स्कूटर चलाना सीखा, पहली बार धोती छोड़ पैंट-टी शर्ट पहनी, युवाओं की तरह के करतब किए और विश्वसनीयता व सहजता से इंटरनेट का उपयोग कर जीवन का आनंद लेते  दिखे।

वोडाफोन वाले बधाई के पात्र हैं जो उन्होंने फूहड़ता के युग में भी इतना साफ़-सुथरा, दिल को छूने वाला विज्ञापन रचा। जिसमें पहली बार बुजुर्गों को आधुनिक तकनीक को इस्तेमाल करते दिखाया गया है। ऐसा  ही एक और
सीधा-सरल विज्ञापन वोल्टास का है, जिसमें "श्री मूर्ति" अपने मासूम अंदाज में ए.सी. की बड़ाई करते-करते लोगों के चहेते बन गए हैं। वैसे ही बिलकुल अंजान चेहरों को लेकर बनाया गया amazon का विज्ञापन है जो अपने हर अंक के साथ दर्शकों को मुस्कुराने पर मजबूर कर देता है। यह सारे विज्ञापन अपने अनजाने पर सक्षम कलाकारों के साथ वह काम कर गए हैं जो जाने-पहचाने करोड़ों की फीस लेने वाले स्टार नहीं कर पाए हैं।

इनसे उन निर्माताओं को सबक लेना चाहिए जो बड़े नामों को ही सफलता की कुंजी समझ हजार की जगह लाखों फूँक कर भी कोई जादू नहीं जगा पाते। 

रविवार, 14 मई 2017

मदर्स डे कुछ सवाल भी तो उठाता है !

आज की पैर फैलाती आधुनिकता क्या कल की माओं में वह वात्सल्य, ममता, समर्पण का लेशमात्र भी छोड़ेगी जो माँ-बच्चों के पारस्परिक "बांड" के लिए अति आवश्यक होते हैं ?  कोई आश्चर्य नहीं होगा यदि ऐसी "मदर्स" साल के  किसी एक दिन को  "प्रॉजिनि या सन्स डे"  घोषित करवा दें ! 

आज के दिन को पश्चिम से आयातित सभ्यता और बाजार ने मातृदिवस का नाम दिया है। दोनों के अपने-अपने कारण हैं। पश्चिम में संयुक्त परिवार ना के बराबर हैं। मौज-मस्ती की प्रवृत्ति अब संस्कृति का रूप ले चुकी है। सोच-रहन-सहन सब आत्मकेंद्रित हो गया है। प्रजनन क्रिया एक रोमांच, खेल, प्रयोग या उत्सुकता का माध्यम बन कर रह गयी है ! संतान के प्रति जिम्मेदारियां भार लगने लगी हैं। अपनी आजादी, अपने व्यक्तित्व, अपनी महत्वकांक्षाओं में व्यवधान ना पड़े इसलिए बच्चे को बचपन से ही "कृत्रिम" परिवेश में डाल दिया जाता है।खरीदा हुआ आवास, ख़रीदा हुआ संरक्षण, ख़रीदा हुआ भोजन, माँ-बाप व बच्चे में वह प्रेम, लगाव, ममत्व, अपनापन उपजने ही नहीं देते जो इन रिश्तों को उम्र भर बांधे रखते हैं। तभी तो वहां सरकार को बच्चों के लिए तरह-तरह के कानून बनाने पड़े हैं। वही बच्चा जब बड़ा होता है तो "कैरियर" की अंधी दौड़ में वह भी वही सब दोहराता है जससे वह गुजर चुका होता है। नाते-रिश्तों को याद करने-रखने के लिए दिन निश्चित कर दिए गए हैं। इसका सबसे बड़ा फायदा बाजार ने उठाया है। जिसने अपनी सुरसा रूपी भूख को कुछ हद तक कम करने के लिए, साल के दिनों को किसी ना किसी रिश्ते से जोड़ उत्सव या समारोह का रूप दे अपना तो उल्लू सीधा किया ही साथ ही इंसान को अपनी गलतियों की ग्लानि से उभरने का एक मौका सा भी दे दिया।

हमारे देश में अभी भी कुछ हद तक संस्कृति बची हुई है। अभी भी गांव-कस्बों और कुछ-कुछ शहरों में संयुक्त परिवार का चलन कायम है। हमारे यहां माँ सिर्फ एक रिश्ता नहीं है यह तो अटूट बंधन है। इस केंद्र बिंदु के बिना परिवार की कल्पना भी नहीं की जा सकती। जन्म देने वाली माँ को देवी का स्थान प्राप्त है, जो कभी भी अपनी तकलीफों की परवाह किए बिना अपनी संतान को बिना किसी प्रलोभन के  हर अला-बला से बचाने के लिए, किसी भी उतार-चढ़ाव पर साथ देने के लिए हर क्षण तत्पर रहती है। क्या-क्या वह नहीं सहती अपनी संतान के लिए ! उसी के लिए साल में एक दिन निश्चित कर देने से उसके दिल पर क्या गुजरती होगी यह किसी ने कभी सोचा है ! पल-पल ममता लुटाने वाली को अपने ही बच्चों का प्यार पाने के लिए किसी एक दिन के इंतजार में अपनी आँखें पथरानी होती हैं ! अपने बच्चों की आवाज सुनने के लिए जिनके कान तरसते रह जाते हैं। हूक नहीं उठती होगी उनके दिल में जब कलेजे के टुकड़े आ गले न लगते होंगे !!  पर जाने-अनजाने, बढती उम्र में वही सबसे ज्यादा उपेक्षित हो जाते हैं जब उन्हें सबसे ज्यादा सहारे की जरुरत होती है।

आज भी अधिकांश परिवारों में सुबह उठ सबसे पहले अपने माता-पिता के चरणस्पर्श करने की प्रथा बदस्तूर कायम है। हमारे विद्वान ऋषि-मुनियों ने इसे इसीलिए बनाया था कि यही एक निस्वार्थ रिश्ता है जो सदा अपने बच्चों की भलाई का ही सोचता है, भूल से भी जो अपने बच्चों के अहित का ख्याल मन में नहीं ला सकता। दिन
की इस पहली क्रिया में मन से आशीर्वाद दिया जाता है। जिससे बच्चों को तो ठोस संबल मिलता ही है माता-पिता को भी आत्मिक संतोष की अनुभूति होती है। एक कहावत है कि हर सफल पुरुष के पीछे किसी स्त्री का हाथ होता है तो मेरे ख्याल से, नब्बे प्रतिशत, वह हाथ और साथ माँ का ही होना चाहिए।

पर धीरे-धीरे अपने यहां  भी  परिस्थितियों में भी चिंताजनक बदलाव आने लगा है। जीवन-यापन उतना सरल नहीं रह गया है। आगे बढ़ने की होड़ सी मच गयी है। आज के, खासकर शहरी युवाओं में पश्चिमी भेड-चाल की दस्तक शुरू हो गयी है। हर संस्कृति में अच्छाइयां और कुछ बुराइयां होती हैं। पर बुराइयों पर मनभावन नकाब ऐसे चढ़े होते हैं की नीम-विकसित दिलो-दिमाग उस तरफ तुरंत आकर्षित हो, नाते-रिश्ते, रीती-रिवाज सब तिरोहित कर देते हैं। वही हो रहा है ! सच्चाई कड़वी है पर आज के महानगरों के कुछ तथाकथित अत्याधुनिक युवाओं की कार्यशैली, जो आज नहीं तो कल छोटे शहरों-कस्बों में भी अपनाई जाने लगेंगी, हमारी संस्कृति व परम्पराओं के बिलकुल विपरीत है। आज की पैर फैलाती आधुनिकता क्या कल की माओं में वह वात्सल्य, ममता, समर्पण का लेशमात्र भी छोड़ेगी जो माँ-बच्चों के पारस्परिक "बांड" के लिए अति आवश्यक होते हैं ? कोई आश्चर्य नहीं होगा यदि ऐसी मदर्स किसी एक दिन को "प्रॉजिनि या सन्स डे"  घोषित करवा दें !

रविवार, 7 मई 2017

सैनेटाइजर का प्रयोग ना हीं करें तो बेहतर है !

सैनेटाइजर को प्रयोग में लाने वाले करोड़ों लोग इसे जादुई चिराग ही समझते हैं जिसके छूने भर से बैक्टेरिया का सफाया हो जाता है। जबकि ऐसा नहीं है, जिस तरह साबुन ग्रीस, चिकनाई, मिटटी इत्यादि को साफ़ करता है उस तरह से सैनेटाइजर काम नहीं कर पाता। ज्यादातर कीटाणु उँगलियों के बीच, नाखूनों के अंदर, पोरों में छिपे होते हैं जिन्हें साफ़ करने के लिए हाथों को कम से कम बीस से तीस सेकेण्ड तक धोना बहुत जरुरी होता है.....

गर्मी के बावजूद इस बार अप्रैल में कई जगह आना-जाना करना पड़ा था। जिसमें सालासर बालाजी के दर्शनों का
सुयोग भी था। जिसका ब्यौरा पिछली पोस्ट में कर भी चुका हूँ। पर इस यात्रा के दौरान एक चीज पर ध्यान गया कि टी.वी पर रोज हर मिनट बरसाए जा रहे इश्तहारों का असर तो पड़ता ही है। जैसे झूठ को रोज-रोज कहने-सुनने पर वह भी सच लगने लगता है। इन्हीं उत्पादों में एक है "सैनेटाइज़र", जिसको साबुन-पानी का पर्याय मान कर, हर जगह, बिना उसके दुष्प्रभावों को जाने, खुलेआम घर-बाहर-स्कूल-कार्यक्षेत्र व अन्य जगहों में होने लगा है। इसका एक दूसरा कारण इसको आसानी से अपने साथ रख लाना ले जा सकना भी है। धीरे-धीरे यह आधुनिकता की निशानी बन फैशन में शुमार हो गया है। जिस तरह साधारण पानी की जगह "मिनिरल वाटर" ने ले ली है और लोग बिना उसकी गुणवत्ता जाने-परखे भेड़-चाल सा उसका उपयोग करते जा रहे हैं, उसी तरह साबुन-पानी की जगह अब  "सैनेटाइजर" स्टेटस सिंबल बन कर छा गया है।   

इस यात्रा पर भी सदा की तरह "कानूनी भाई" सपरिवार साथ थे। यात्रा के और धर्मस्थान में रहने के दौरान कई बार हाथ वगैरह को साफ़ करने की जब भी जरुरत महसूस होती, पानी-साबुन की उपलब्धता के बावजूद उन्हें "सैनेटाइजर" का इस्तेमाल करते पाया। एक-दो बार टोका भी कि बार-बार केमिकल का प्रयोग ठीक नहीं रहता, पर और लोगों की तरह उनके दिलो-दिमाग में भी इश्तहारों ने ऐसा घर बना लिया था कि अब उन्हें साबुन वगैरह का प्रयोग असुरक्षित और पिछड़ेपन की निशानी लगने लगा था।  जबकि आज वैज्ञानिक और डॉक्टर भी इसके कम से कम इस्तेमाल की सलाह देने लगे हैं। 

यूनिवर्सिटी ऑफ मिसोरी, कोलंबिया ने अपनी खोज से सिद्ध किया है कि इसके ज्यादा इस्तेमाल से हाथों पर रहने वाले अच्छे बैक्टेरिया के खत्म होने के साथ-साथ हमारी एंटीबायोटिक अवरोध की क्षमता के कम होने की आशंका भी बढ़ जाती है। शोधों से यह भी सामने आया है कि सैनेटाइजर के ज्यादा उपयोग से खतरनाक रसायनों को शरीर अवशोषित करने लगता है जो कि स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। कई बार तो इसके तत्व यूरीन और खून के सैम्पल में भी दिखाई पड़ने लगे हैं।  खासकर बच्चों को इसका कम से कम उपयोग करना चाहिए। वैसे भी अधिकतर सैनेटाइजर में अल्कोहल सिर्फ 60% ही होता है जो जीवाणुओं के खात्मे के लिए पर्याप्त नहीं होता।  इसका उत्तम विकल्प साबुन और पानी ही है। 

इसका उपयोग न करने की सलाह के कुछ और भी कारण बताए गए हैं, जैसे इसके ज्यादा उपयोग से त्वचा को नुक्सान होता है। इसमें "ट्राइक्लोसन" और "विस्फेनोल" जैसे  हानिकारक और विषैले केमिकल मिले होते हैं। जो तरह-तरह की बीमारियों को तो न्यौता देते ही हैं हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी कम कर देते हैं।       अमेरिका के Epidemic Intelligence Service द्वारा की गयी पड़तालों से भी यह सच सामने आया है कि इसके दिन में छह-सात बार के इस्तेमाल से हाथों पर  "नोरोवायरस" के पनपने का खतरा उत्पन्न हो जाता है जो हमारे पेट की जटिल बीमारियों का जरिया बनते हैं।     


अब तो U.S. Food and Drug Administration ने भी सैनेटाइजर बनाने वाली कंपनियों से पूरा शोध करने को कहा है जिससे इसका प्रयोग निरापद हो सके। वैसे भी इसको प्रयोग में लाने वाले करोड़ों लोग इसे जादुई चिराग ही समझते हैं जिसके छूने भर से बैक्टेरिया का सफाया हो जाता है। जबकि ऐसा नहीं है, जिस तरह साबुन ग्रीस, चिकनाई, मिटटी इत्यादि को साफ़ करता है उस तरह से सैनेटाइजर काम नहीं कर पाता। ज्यादातर कीटाणु उँगलियों के बीच, नाखूनों के अंदर, पोरों में छिपे होते हैं जिन्हें साफ़ करने के लिए हाथों को कम से कम बीस से तीस सेकेण्ड तक धोना बहुत जरुरी होता है। साबुन से धोने के बाद हाथों को ठीक से सूखा लेना चाहिए। वैसे ही यदि सैनेटाइजर का उपयोग करना ही पड़े तो उसके केमिकल को ठीक से वाष्पीकृत होने देना चाहिए और इसके उपयोग के कुछ देर बाद ही भोजन को छूना चाहिए। फिर भी कोशिश यही रहनी चाहिए कि इसका कम से कम ही प्रयोग हो। साबुन-पानी पर खुद और दूसरों का विश्वास बनाए रखने की कोशिश जरूर होनी चाहिए।

गुरुवार, 4 मई 2017

कहीं आप भी ऐसी "मम्मी" तो नहीं हैं ?

काफी देर हो चुकी थी छुटकू भाई साहब को फोन पर बिना सर उठाए, पलकें झपकाए, खेलते हुए, माँ को याद आया तो झपट कर फोन छीना, फिर जैसे ही निगाह बैटरी पर पड़ी, चीखीं, बेवकूफ बैटरी पांच परसेंट रह गयी है, बंद हो गया तो क्या करेंगे। चार्जर भी नहीं है.........इधर मैं सोच रहा था, गलती किस की है ?

पिछले दिनों रायपुर से दिल्ली आना हो रहा था। वातानुकूलित शयन यान II का कोच। हमारे सामने की दोनों बर्थ पर एक दंपत्ति अपने सात-आठ साल के बच्चे के साथ  विराजमान थे। बच्चा कुछ अजीब सा लग रहा था। बेतरतीब बिखरे बाल, रूखी-सूखी त्वचा, चेहरे पर बाल सुलभ भोलापन गायब, कपडे-जूते कीमती पर रख-रखाव से दूर। गाडी चलने के कुछ ही समय के बाद बेटे की फरमाइश हुई कुछ पीने को दो, तो महिला रूपी माँ ने डांट  कर कहा, अभी कुछ नहीं मिलेगा, रुको थोड़ी देर ! अभी तो घर से पी कर चले हो !!     
बच्चा बिदक गया, कुछ भी नहीं देते हो, जब मांगता हूँ। प्यास लगी है ! माँ ने आँखें तरेरीं, पर उस पर कोई असर नहीं। तभी उसके पापा, जो कुछ शांत स्वभाव के लग रहे थे,  ने कहा, दे दो, मानेगा थोडे ही ना। फ्रूटी का डिब्बा निकला, बच्चा जीत की हंसी के साथ जुट गया उसे खाली करने पर। राजनांदगांव आते-आते फिर शुरू हो गयी मांगे, इस बार कुछ खाने को चाहिए था। वैसा ही कार्यक्रम दोहरा कर पैकेट थमा दिया गया उसके हाथ में। उसके खाली होते ही उछल-कूद शुरू, कभी ऊपर की बर्थ पर कभी नीचे, कभी साइड रेलिंग पकड़ कर जिम्नास्टिक, कभी हमारी ऊपर की बर्थ पर कभी किनारे की पर। मैं अपना कुछ पढ़ रहा था, उसमें बार-बार व्यवधान पड़ने से बेचैनी हो रही थी, उधर किनारे वाली बर्थ के मुसाफिर भी परेशान थे, एक-दो बार इशारों और हाव-भाव से जताया भी गया पर ना ही बच्चे पर असर पड़ा नाहीं उसके अभिभावकों पर। कुछ देर बाद खिड़की के पास बैठने की बात मनवा उसने अपनी माँ से मोबाईल फोन माँगा, इस बार गेम खेलने की चाहत उत्पन्न हुई थी। सदा की तरह माँ ने झिड़का, बैटरी ख़त्म हो जाएगी, किसी का फ़ोन आ जाएगा इत्यादि-इत्यादि। पर वहाँ किसने सुनना था, एक ही रट, बोर हो रहा हूँ, गेम खेलना है ! माँ ने फोन पकड़ा दिया बड़बड़ाते हुए कि बैटरी ख़त्म हुई तो देखना, गाडी से उतार दूँगी !

छोटे भाई साहब उधर फोन में व्यस्त हुए, इधर कुछ शांति छाई। तब तक श्रीमती जी का सहयात्रियों से वार्तालाप शुरू हो चुका था। पता चला महिला किसी स्कूल में कार्यरत हैं, श्रीमती जी भी शिक्षिका रह चुकी हैं, बस फिर क्या था, बहनापा जुड़ गया। सामने वाली ने बताया कि स्कूल में उनका काफी रौब-दाब है। उनकी एक ही आवाज से बच्चे दुबक जाते हैं। प्रिंसिपल तक बिना उनके परामर्श के कोई कदम नहीं उठातीं। मैं सोच रहा था, नमूना तो यहां दिख ही रहा है ! बातों ही बातों में औपचारिकता कुछ कम होने लगी, खान-पान का लेन-देन हुआ। बच्चे  की फिर कोई मांग उठी उसका शमन हमें यह बताते हुए किया गया कि बहुत जिद्दी है, अपनी बात मनवा कर ही हटता है। बीच में ही बात काट कर श्रीमती जी बोलीं पर बच्चा माँ-बाप के कारण ही जिद्दी होता है।  मैं देख रही हूँ कि पहले आप हर चीज के लिए मना करते हैं और फिर कुछ देर बाद पकड़ा देते हैं, वह भी समझ गया है कि जिद करने पर मेरी बात मान ली जाएगी इसी लिए वह ऐसा करता है। यदि आपको कुछ देना है तो तुरंत दे दें नहीं तो कितना भी कहे अपनी बात पर कायम रहें तो उसे भी समझ आ जाएगा कि जिद करने से कुछ नहीं होने वाला।

अब बच्चे के पापा की बारी थी बोले, स्कूल में तो बिलकुल कुछ बोलता ही नहीं है। क्लास टीचर तो बहुत इम्प्रेस है इससे, कहती है बहुत डिसिप्लिंड बच्चा है। शार्प भी बहुत है मुझे कई बार मोबाईल फोन की बात समझाता है। मोबाईल गेम में तो इसको कोई हरा ही नहीं सकता। इसकी अपनी घर की आया से बहुत बनती है। उसके बिना तो इसका दिन निकलना मुश्किल है। वह भी इसका बहुत ख्याल रखती है। वही बतलाती है कि फोन पर बड़े-बड़े स्कोर करता है। टी.वी. पर हफ्ते भर की आने वाली फिल्मों की लिस्ट इसको याद रहती है। फिर हसते हुए बोले, पर टेबल याद करने में हफ्ता लगा देता है फिर भी पूरा नहीं हो पाता। हमारी समझ में सब आ रहा था। बच्चा आया के पास पलता है। माँ-बाप पूरा समय नहीं दे पाते। इस कमी को उसकी हर जिद पूरी कर दूर करने की कोशिश कर बच्चे को जिद्दी और अक्खड़ बना दिया है। गलती उनकी भी नहीं है समय ही ऐसा चल रहा है जिसमें अपना तथाकथित कैरियर बनाने के चक्कर में सारे नाते-रिश्ते, फर्ज, संबंध, जिम्मेवारियां सब तिरोहित हो जाते हैं। कुछ-कुछ समझ जाने के बावजूद फिर भी मैंने पूछ लिया आपकी शादी को कितना समय हो गया ? उत्तर मिला बारह साल हो गए। मामला साफ़ था बढती उम्र में संतान-लाभ हुआ था, तो प्रेम उड़लना स्वाभाविक था, नतीजा उद्दंड संतान।

काफी देर हो चुकी थी छोटे भाई साहब को फोन पर बिना सर उठाए, पलकें झपकाए, खेलते हुए।  माँ को याद आया तो झपट कर फोन छीना फिर जैसे ही निगाह बैटरी पर पड़ी, चीखीं, बेवकूफ बैटरी पांच परसेंट रह गयी है, बंद हो गया तो क्या करेंगे। चार्जर भी नहीं है। इधर मैं सोच रहा था..........गलती किस की है ?

जैसे-तैसे रात कटी, सुबह बच्चे को जगाया जाने लगा, उठ बेटा घर आने वाला है। ओ मेरा राजा बाबू, मेरा राजकुमार उठ बेटा। अब राजकुमार तो उठने में मनुहार करवाएगा ही। नजाकत से उठे। अभी ठीक से आँख खुली भी नहीं थी कि मांग शुरू। नमकीन दो। माँ बाग़-बाग़, कौन सा खाएगा बेटा ? खट्टा-मीठा या दूसरा ? जवाब मिला दूसरा। तुरंत पैकेट हाजिर। आँखें खुल नहीं रहीं, होठों पर लार काबिज, पर नमकीन ठूंसा जा रहा था, बाकायदा। श्रीमती जी से रहा नहीं गया, बोलीं अरे पेस्ट तो कर लो ! जवाब माँ की तरफ से आया, ये ऐसा ही है !सुनेगा नहीं ! बिना खाए तो खटिए से हिलता ही नहीं है !  इतना कह, फिर उसकी तीमारदारी में लग गयीं। सोना, बिस्कुट खाएगा ?  कौन सा खाएगा क्रीम वाला या चॉकलेट वाला ..........

निजामुद्दीन स्टेशन आने वाला था, गाड़ी धीमी हो रही थी। हम अपना सामान समेटे वितृष्णा से एक सूखी, निर्बल सी काया को बिस्कुट चबाते देख रहे थे।          

शनिवार, 29 अप्रैल 2017

क्या बालाजी धाम का ट्रस्ट 20-25 की.मी. की सड़क का रख-रखाव भी नहीं कर सकता ?

बात तो खटकने वाली होनी ही है, चाहे सरकार हो, नेता हो, संत्री हो, मंत्री हो, पंडा हो पुजारी हो सब के लिए मध्यम वर्ग, गरीब की बकरी है, जिसे कभी भगवान् के नाम पर, कभी सहूलियत के नाम पर, कभी देश के नाम पर, कभी कानून के नाम पर जो आता है, अपनी मर्जी से दुह कर चल देता है और चाहा जाता है कि वह उफ्फ भी ना करे !

धार्मिक स्थलों की यात्रा करने वाला हर यात्री आस्था, श्रद्धा, विश्वास से ओत-प्रोत हो कर ही अपने आराध्य के दर्शन करने हेतु तन-मन-धन से समर्पित हो घर से निकलता है। पर उसके भक्ति-भाव को तब ठेस पहुंचती है जब उसे धर्मस्थलों पर पैसों के लिए कुछ भी होते-करते दिखता है। पर उस सब को भी अपने धार्मिक स्वभाव के कारण वह उसे भी प्रभू की इच्छा मान सहज स्वीकार कर अपनी आस्था में कमी नहीं होने देता। पर मन में कहीं ना कहीं दुःख तो होता ही है। ऐसा ही एक बार फिर इस बार की सालासर धाम की यात्रा के दौरान हुआ। 

इस बार बैसाखी के दिन तेरह अप्रैल को फिर सालासर का कार्यक्रम बना। इस बार भी कोरम में पिछली यात्रा पर जाने वाले सारे सदस्य थे। आठ बड़े और दो बच्चे। पर इस बार सिर्फ सालासर बालाजी के दर्शनों का ही लक्ष्य रखा गया था। हनुमान जयंती बीत चुकी थी, इसलिए भीड़-भाड़ बहुत
कम थी। दर्शन भी बहुत आराम और तसल्ली से हुए। पर वहीँ एक छोटी सी बात भी खटकी। दर्शनों के दौरान वहाँ खड़े पंडों में से एक ने मेरे सामने वाले तोंदियल पंडे को, चढ़ावे में से लोगों को कुछ दे देने को कहा, पर सामने वाले ने साफ़ मना कर दिया। एक क्षण के लिए मन में आया कि कैसे लालची लोग प्रभू की सेवा में नियुक्त हुए, हुए हैं। जो मुफ्त के चढ़ावे को भी वितरित न कर खुद हड़पना चाहते हैं। जबकि दर्शनार्थियों की जेब से तरह-तरह के बहानों से पैसा निकलवाने से नहीं चूका जाता। लगता है भगवान भी पंडों और ट्रस्टियों की अमानत बन कर रह गए हैं। नहीं तो ऐसा क्यों कि ट्रस्टियों, पंडों, उनके रिश्तेदारों या उनके जान-पहचान के लोगों को अलग से सहूलियतें दी जाती हैं, गर्भ-गृह तक जाने की इजाजत मिलती है, पूजा में समय अड़चन नहीं बनाया जाता, और इधर आम इंसान लाइन में लगा कीर्तन ही करता रहता है। TRUST यानी भरोसा। मतलब जिन पर भरोसा कर प्रभू की पूजा, अर्चना, रख-रखाव  सौंपा जाता है वही अपने-आप को आम से ख़ास मान सुविधाएं संजोने लगता है। पंडे-पुजारी तो भगवान् को अपनी धरोहर ही समझते आए हैं सदा से !! दूसरी ओर आम इंसान, जिसकी आस्था और धन पर स्थल को ख्याति मिलती है उसके हिस्से में धक्के ही आते हैं !!!  

बात तो खटकने वाली ही है, चाहे सरकार हो, नेता हो, संत्री हो, मंत्री हो, पंडा हो पुजारी हो सब के लिए मध्यम वर्ग, गरीब की बकरी है जिसे कभी भगवान् के नाम पर, कभी सहूलियत के नाम पर, कभी देश के नाम पर, कभी कानून के नाम पर जो आता है, अपनी मर्जी से दुह कर चल देता है और चाहा जाता है कि वह उफ्फ भी ना करे ! 

इधर दो-तीन साल से लक्ष्मण गढ़ की तरफ से, #राजमार्ग_65_से_सालासर_बालाजी_धाम तक जाने वाली #सड़क को यात्रियों की सुविधा के नाम पर #टोल_मार्ग कर दिया गया है। पहली नजर में तो यह बात अच्छी लगती है, पर करोड़ों रुपयों का चढ़ावा संभालने वाला #बालाजी_धाम-का_ट्रस्ट-क्या #20-25_की.मी. की सड़क का रख-रखाव भी नहीं कर सकता जबकि पंडों-पुजारियों के घरों की कीमत पचासों लाख के भी ऊपर है। ऊपर से यह मार्ग ट्रस्टियों, ख़ास लोगों, पण्डे-पुजारियों की गाड़ियों के लिए कर मुक्त है। 

देश में सैकड़ों ऐसे धर्म-स्थल हैं, जहां की आमदनी की कोई हद नहीं है। पर कुछेक को छोड़ कर किसी की ओर से भी जनता के पैसे को जनता के लिए शायद ही खर्च किया जाता हो।जबकि उनसे जुड़े लोगों के घर, महल-अट्टालिकाओं में बदलते रहते हैं। हम सदा से धर्म-भीरु रहे हैं। जन्मों-जन्म से धर्म के नाम पर लुटते-पिटते आए हैं। जानते-बुझते जगह-जगह जेबें ढीली कर देते हैं। पर ऐसी जगहों पर होती अनियमितताओं के खिलाफ कभी खड़े नहीं होते। कभी विरोध न होने की वजह भी है कि सामनेवाला सदा मध्यम-वर्ग को कोई तवज्जो नहीं देता।