सोमवार, 10 जून 2013

ये मानसून-मानसून क्या है

भीषण, झुलसा देने वाली गर्मियों के बाद सकून  देने वाली बरसात धीरे-धीरे सारे देश को अपने आगोश में लेने को आतुर है.  जून से सितंबर तक  हिंद और अरब महासागर से उठ कर अपने देश को  दक्षिण-पश्चिम दिशा से घेर कर  जमीन की तरफ पानी लेकर आने वाली हवाओं को मानसून के नाम से जाना जाता है. 
मानसून नाम अरबी भाषा के "मावसिम" शब्द से आया है. 
घिर आए बदरवा 
मानसून के प्रभाव से ही पाकिस्तान और बांग्ला देश में भी बरसात की सौगात प्राप्त होती है.  भारत मे इसका आगाज तकरीबन एक जून से  होता   है. पर आहट मई के अंतिम हफ्ते से शुरू हो जाती है.  मौसम विभाग कई तथ्यों का अध्ययन कर इसका पूर्वानुमान लगाता है. जिसमें देश भर के विभिन्न भागों से तापमान, हवा के रुख, बर्फबारी, वायुमंडल के दवाब इत्यादि के आंकड़ों को ध्यान में रख आने वाले मौसम की भविष्यवाणी की जाती है. पर यह भी सही है की इतने आंकड़ों को इकट्ठा करने में ज़रा सी चूक आने वाले मौसम के समय में काफी हेर-फेर ला देती है. फिर भी समय के साथ इसकी उपयोगिता पर सवाल नहीं खड़े किए जा सकते. 

पर अपने देश में ऐसे-ऐसे लोग हुए हैं जो बिना किसी यंत्र-पाती के आने वाले समय का सटीक आंकलन करने की क्षमता रखते थे. आज भी गाँव-देहात में "घाघ-भड्डरी" संवाद  इनमें प्रमुख  है. कहते हैं उनकी काव्यात्मक भविष्यवाणियां कभी भी गलत नहीं होती थी। उनके द्वारा की गयी ऎसी कुछ भविष्यवाणियों को आप भी आजमा और परख सकते हैं -

# कितनी भी कड़ी धूप हो, जब चिड़ियाँ धूल में नहाने लगें तो समझ लीजिए दो-एक दिन में वर्षा होने वाली है.

# जब चीटीयाँ अपने अंडे मुंह में दबाए किसी ऊंची जगह पर जाने लगें तो जान जाना चाहिए की  बरसात  दस्तक दे चुकी है
# मानसून की आहट  होते ही मछलियाँ पानी की  पर आ तैरने लगती हैं।

# मोर का नाचना भी पानी बरसने का संकेत होता है.

# कुछ और  पक्षी भी अपने हाव-भाव से आने वाली बरसात की पूर्व सूचना दे देते हैं, जिनमे पपीहा, कूकू, घोघिल तथा कई प्रवासी पक्षी सम्मलित हैं।

# गाँव के बूढ़े-बुजुर्ग तो बादलों के रंग और हवा के तापमान तथा रुख को देख कर आज भी  मौसम का सटीक आकलन कर लेते हैं। 

पर जिस तरह आजकल पर्यावरण दूषित हो रहा है, 'ग्लोबल वार्मिंग' बढ़ रही है उससे डर  है कि मानसून जो ज्यादातर भारत पर सह्रदय रहा है वह आने वाले समय में अपना समय और दिशा बदल सकता है. ऐसा हो इसके पहले सतर्क होने की जरूरत है.

   
      

1 टिप्पणी:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सबको प्रतीक्षा रहती है, मानसून की।