गुरुवार, 20 अक्तूबर 2011

खरीदो-खरीदो, आज पुष्य नक्षत्र का शुभ योग है ! ! ! तो बेचने वाला क्या पागल है?

एक खबर है कि इस साल "बेचने वालों" ने ५५० टन सोना आयात किया है। जो करीब १०० टन ज्यादा है पिछले साल की तुलना में। तो हर साल जो नक्षत्रों की चाल में आ, सौभाग्य की आकांक्षा में किसी तरह बाजार में जा खड़े हो कुछ न कुछ "खरीदते" आए हैं उनका क्या बना ?????

पहले जैसा दस्तूर या रिवाज नहीं रहा कि साल में होली-दिवाली पर बाजार सजते थेअब तो खोज-खोज कर कोई कोई देसी-विदेशी मौका ला खडा कर दिया जाता है, जनता को लुभा-भरमा कर उसकी जेब ढीली करवाने के लिएइन सब में सबसे बड़ा मौका या त्यौहार होता है दीपावली काजिसका इंतजार बाज की तरह बाजार करता हैलोगों को भरमाने के जितने तरीके साल के इस मौके पर काम में लाए जाते हैं, उतने पूरे साल में भी कभी इस्तेमाल नहीं होतेदीपावली के काफी पहले से ग्राहकों को घेरने की चालें रची जाने लगती हैंमुख्य त्यौहार के पहले पड़ने वाले 'धन तेरस' से ही साम, दाम, भेद, हर विधा को आजमाया जाने लगता हैयहाँ तक कि वास्तु, ज्योतिष, भविष्य इत्यादि का जोड़-घटाव का रूपक रच ऐसा माहौल बना दिया जाता है कि लोगों को लगने लगता है कि इस मुहूर्त पर यदि कुछ खरीद नही पाए तो जीवन में सौभाग्य पाने का एकमात्र अवसर चूक जाएंगेबस बेचारा कैसे भी जोड़-तोड़ कर कुछ कुछ इंतजाम कर बाजार में जा खडा होता है

इस साल भी वैसे ही नाटक रचा गयापर इस बार ग्राहकों के रुझान और उनकी भारी जेब का आकलन कर पंडितों की सहायता ले खरीदारी की अवधि को पहले की तरह कुछ घंटों का रख दो दिनों का कर दिया गया कि आओ-आओ, कुछ तो लेकर ही जाओमजे की बात यह कि बकरे को ही उसकी भलाई की मरीचिका दिखा हलाल करने की पूरी तैयारी हैक्योंकि जाहिराना बात है कि बाजार की बढ़ती भीड़ से किसे फ़ायदा होने वाला है, जो खरीदने पर उतारू है उसे या जो अपना सारा "स्टाक" बेचने पर तुला है उसेअरे भाई ! जब सिर्फ खरीदना इतना सौभाग्यशाली है तो हजारों-हजार लोग बेचने पर क्यों उतारू हैं? क्या उन्हें सौभाग्य की आकांक्षा नहीं है? या फिर वह सिर्फ परमार्थ के लिए बाजार में खड़े हुए हैं ? यदि इस पुष्य नक्षत्र के शुभ मुहूर्त में सिर्फ खरीदने से ही भाग्य फलता है तो क्या हजारों - लाखों दुकानों के मालिक पागल हैं। आज अखबारें खबरों का जरिया न रह कर "पैम्फलेट" मात्र रह गयी हैं। कोई भी अखबार उठा कर देख लिजीए विज्ञापनों से पटी पड़ी हैं। इन्हें ही जरिया बना हर खासो-आम को आगाह किया जाता है कि देखो मौका मत चूको। कुछ तो खरीदो। देखो कितने लुभावने आफर तुम्हारे फायदे के लिए आँखें बिछाए पड़े हैं। ७०-७० प्रतिशत पर छूट दी जा रही है। सोचने की बात है कि यह छूट देने वाला क्यों घाटा सहेगा? पर सोचने की फुरसत किसे और कहाँ है सबको लगता है कि कहीं ऐसा हो कि पड़ोसी के यहाँ लक्ष्मीजी आकर बैठ जाएं और हम बाजार की पोल ही खोजते रह जाएं यही वह कारण भी है जिससे हफ्ते में गोरा बनाने वाली क्रीम की फैक्ट्री अफ्रिका में लग यहीं वारे-न्यारे कर रही है यहाँ रह कर भी लोगों का ध्यान देश के दक्षिणी भाग में रहने वाले लोगों की तरफ नहीं जाने देती नहीं तो लोगों को पता होता कि इसी नक्षत्रों के खेल के लिए "बेचने वालों" ने इस बार करीब ५५० टन सोना देश में आयात किया है जो कि पिछले साल के मुकाबले पूरा "१०० टन" ज्यादा है

तो क्या सोच रहे हैं? आखिर पुष्य नक्षत्र है भाई। वह भी ऐसा योग जो कई सालों बाद आया है। चलिए कुछ खरीदारी हो ही जाए, कहीं सचमुच ही ऐसा कुछ हुआ तो सालों ताने सुनने मिलेंगे :-)

10 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

खूबसूरत ||

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

हम तो सोने का नाम सुनकर सच में सो जाते हैं।

Harshad Jangla ने कहा…

very interesting write up.

-Harshad Jangla
Atlanta, USA

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
यहाँ पर ब्रॉडबैंड की कोई केबिल खराब हो गई है इसलिए नेट की स्पीड बहत स्लो है।
बैंगलौर से केबिल लेकर तकनीनिशियन आयेंगे तभी नेट सही चलेगा।
तब तक जितने ब्लॉग खुलेंगे उन पर तो धीरे-धीरे जाऊँगा ही!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

शोभा ने कहा…

इस तरह के योग बार-बार क्यों पड़ते है जो कई सालो बाद आता है

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

मयंकजी, चर्चा मंच के कारण ही तो हमारा हौसला भी बढा रहता है।
आभार।

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

शोभाजी, क्या पता पडते हैं कि बेचारों को पडवाया जाता है

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति| दीवाली की शुभ कामनाएं|

चन्दन..... ने कहा…

बहुत हि सुन्दर लेख...बाजार कि वास्तविकता को सचे रूप में बतलाटी रचना|शीर्षक भी बहुत हि जानदार रहा...|