मंगलवार, 3 मार्च 2009

जानवरों की कुछ विस्मित करती जानकारियाँ

हम मनुष्य अपने संसार में अपने में ही खोए रहते हैं। पर जब हमें अन्य जीव-जन्तुओं और उनकी क्षमताओं के बारे में जानकारियां मिलती हैं तो दांतो तले उंगली दबाने के सिवा और कुछ नहीं सूझता। ऐसे ही कुछ तथ्य दे रहा हूं। देखिए दांतों तले उंगली जाती है कि नहीं : -
1, एक छोटी सी चींटी अपने वजन का 30गुना भार उठा लेती है और अपने वजन का 50गुना भार खींच कर अपने बिल तक ले जा सकती है। क्या हम आप अपने द्वारा इसकी कल्पना भी कर सकते हैं ?
2, नीली व्हेल की सीटी की आवाज पानी में मिलों तक सुनाई पड़ती है। यह किसी भी जानवर के द्वारा उत्पन्न ध्वनी से तेज और तीखी होती है।
3, मगरमच्छ कुछ चबा नहीं सकता पर उसका पाचन रस इतना तेज होता है कि वह लोहे की कील को भी हजम कर सकता है।
4, कुत्तों में हम मनुष्यों से 40गुना ज्यादा सूंघने की क्षमता होती है।
5, जिराफ की जीभ एक से ड़ेढ फुट लम्बी होती है।
6, शेर जैसा ताकतवर और तेज जानवर 24 में 20घंटे आराम ही करता रहता है। ज्यादातर शिकार शेरनी के द्वारा किया जाता है पर खाने में अपने बच्चों से भी आगे सिंहराज रहते हैं।

10 टिप्‍पणियां:

PN Subramanian ने कहा…

बहुत सुन्दर जानकारी. ऊँगली वहीँ के वहीँ रह गयी. आभार.

सिटिजन ने कहा…

bahut badhiya janakari di hai .

Arvind Mishra ने कहा…

रोचक !

Shikha Deepak ने कहा…

बड़ी रोचक जानकारी दी आपने। धन्यवाद।

हरि ने कहा…

बहुत रोचक जानकारी। ज्ञान दिया आपने। आभार आपका।

बेनामी ने कहा…

बहुत अलग अलग और रोचक विषय हैं। बधाई।
पूर्णिमा वर्मन

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

मत मेरा भी
सहमति का
अच्‍छी गति का।

Udan Tashtari ने कहा…

रोचक जानकारी.

जय हो सिंहराज की.

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

रोचक जानकारी दी

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

बहुत रोचक जानकारी प्रदान की........कुत्ते तथा चींटी के बारे में तो मालूम था,किन्तु बाकी जानकारी हमारे लिए बिल्कुल नवीन थी.

विशिष्ट पोस्ट

कोई तो कारण होगा, धर्म स्थलों में प्रवेश के प्रतिबंध का !!

अभी कुछ दिनों पहले कुछ तथाकथित आधुनिक महिलाओं ने सोशल मिडिया पर गर्व से यह  स्वीकारा था कि माह के उन  कुछ ख़ास दिनों में भी वे मंदिर जात...