गुरुवार, 9 मार्च 2017

हांडी में पकते चावल के एक दाने से अंदाज

लोगों का कहना है कि ये राजनीती वाले बहुत सक्षम और चतुर होते हैं। कांग्रेस पार्टी को अपने हश्र का अंदाज कुछ ही दिनों में लग गया था इसीलिए कोई भी बड़ा नेता प्रचार में नहीं आया एक-दो जगह प्रियंका को भेज उसे भी वापस बुला  लिया गया क्योंकि नतीजों से ख्याति पर असर पड़ता है। राहुल के बारे में आम ख्याल है की उनको बलि का बकरा बना देती है पार्टी

पिछले दिनों दो बार दिल्ली से लगे उत्तर प्रदेश के दो अलग-अलग इलाकों में जाने का मौका मिला था। चुनावों का समय था तो लगे हाथ कुछ लोगों से उसके परिणाम की जानकारी कुतुहल-वश लेने से खुद को रोका नहीं जा सका। इसे किसी भविष्यवाणी के लिए तो करना नहीं था फिर भी इतना ध्यान जरूर रखा था कि लोग अलग-अलग तबके, उम्र और परिवेश से हों। इस सारे क्रिया-कलाप को ऐसे ही छोड़ दिया था पर जब रोज टी.वी. के चैनलों पर लुटे-पिटे दलों द्वारा भी बढ़-चढ़ कर दावे पेश होते देखे तो सोचा अपनी मेहनत को भी ब्लॉग पर उजागर करते बनता है। भले ही कम ही लोगों से बात-चीत हुई पर कहते हैं ना कि हांडी में पकते चावलों के एक ही दाने से आभास मिल जाता है, पर इसके साथ ही यह भी सच है कि ठेठ यू. पी. और इधर गाजियाबाद, शालीमार गार्डन या नोयडा में जमीन-आसमान का फर्क है फिर भी यहां जो जवाब मिले वे बहुत रोचक थे।

अधिकतर का कहना था कि स्पष्ट बहुमत मुश्किल है। बहुतों का यह मानना था कि भाजपा का बर्चस्व बढ़ेगा और आश्चर्य  नहीं होगा यदि उसकी सरकार बन जाए। भाजपा का प्लस-प्वाइंट मोदी जी हैं। करीब पच्चीस साल बाद केंद्र में उनके बहुमत की सरकार आई जिसने कुछ तो आशा जगाई ही है।   उनकी कार्य-शैली, उनकी मेहनत, उनके खुद को खतरे में डाल कर लिए गए निर्णयों से लोग प्रभावित हैं और उन्हें राज्य की बदहाली को दूर करने में सहायक मानते हैं। जनता में इस बात का भी आक्रोश है कि बाकी के दलों के नेता देश-समाज की भलाई या विकास की बात न कर बात-बेबात सिर्फ मोदी के पीछे पड़े हुए हैं। सपा की "नौटँकी" और उसका कांग्रेस को साथ लेना भाजपा के लिए फायदेमंद होगा। लोगों का कहना कि मौका पाते ही कांग्रेस धत्ता बता जाएगी।  ऐसे लोगों ने जिन्हें अपने इलाके से बाहर जाने की जरुरत नहीं पड़ती, जैसे चायवाला, सब्जीवाला, जूते गांठने वाला आदि उनसे जब विकास के रूप में यमुना हाइवे के बारे में पूछा तो बोले, साहब हमें उससे क्या लेना-देना, वह तो गाडी-घोड़े वालों के लिए है, हमें तो यहां की सडकों से साबका पड़ता है जिस पर ध्यान से ना चलें तो मुंह के बल गिरें.  सायकिल चालकों की सुविधा के लिए बने मार्ग को चुनाव प्रपंच बताया गया क्योंकि इसके पूरा होने क्र पहले ही उसमें टूट-फूट शुरू हो गयी है। सपा के विपरीत जा रही बातों में उनकी आपसी कलह, कुर्सी की चाहत में कांग्रेस से हाथ मिलाना और  नेताजी की बेरुखी रही। फिर भी बहुत से लोगों को अखिलेश भाते हैं। उनका युवा होना, बाहुबलियों-कट्टरपंथियों से दूरी बनाने की कोशिश आम लोगों को हौसला देती है। बसपा को लोग मौका-परस्त पार्टी मानते हैं। उसके वादों पर भी लोगों को भरोसा नहीं रह गया है पर उसका अपना वोट बैंक भी है यह भी मान्यता है। इसलिए उसे छुपा रुस्तम मानते हैं लोग। ये खबरें भी चौंका गयीं थीं कि यू. पी. के बाबूओं ने अचानक बसपा की सरकार में बनी मूर्तियों को साफ कर चमकाना शुरू कर दिया था।  सबसे बुरी हालात कांग्रेस की है। लोगों का कहना है कि ये राजनीती वाले बहुत सक्षम और चतुर होते हैं। कांग्रेस पार्टी को अपने हश्र का अंदाज कुछ ही दिनों में लग गया था इसीलिए कोई भी बड़ा नेता प्रचार में नहीं आया एक-दो जगह प्रियंका को भेज उसे भी वापस बुला  लिया गया क्योंकि नतीजों से ख्याति पर असर पड़ता है। राहुल के बारे में आम ख्याल है की उनको बलि का बकरा बना देती है पार्टी।

तो लब्बो-लुआब यही रहा कि जनता भी कंफ्यूज है पर यदि चावल के एक दाने पर विश्वास करें तो भाजपा की राह प्रशस्त दिख रही है।  

6 टिप्‍पणियां:

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "जैसी करनी ... वैसी भरनी - ब्लॉग बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन का हार्दिक धन्यवाद

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (12-03-2017) को
"आओजम कर खेलें होली" (चर्चा अंक-2604)
पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

Anita ने कहा…

सही रहा आपका आकलन..बधाई !

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

शास्त्री जी, आभार

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

अनीता जी, "कुछ अलग सा" पर सदा स्वागत है