शुक्रवार, 8 जून 2018

"लिक्विड सोप" से बेहतर है, साबुन का "बार या बट्टी"

देखने में "लिक्विड सोप" अच्छा, साफ़-सुथरा, रख-रखाव की सुविधा और आधुनिकता का प्रतीक भले ही हो पर पुराना साबुन का "बार या बट्टी" उससे बेहतर है। खपत को ही लें, साबुन की बट्टी से हाथ धोते हुए मात्र 0.35 ग्राम साबुन की जरुरत पड़ती है, वहीँ लिक्विड सोप की खपत एक बार में दो से तीन ग्राम की होती है, जो आम साबुन से करीब दस गुना ज्यादा है ! पर बाजार तो यही चाहता है कि खपत ज्यादा हो और उसके उत्पाद की बिक्री बढे.......... !
#हिन्दी_ब्लागिंग 
हम कैसे विज्ञापनों से भ्रमित हो जाते हैं इसका अभी एक और चौंकाने वाला तथ्य सामने आया है। पिछले कुछ वर्षों से विज्ञापन के हर संभव माध्यम से यह प्रचारित होता आ रहा है कि साबुन की "बट्टी या बार" सफाई के लिए उचित नहीं है ! टीवी पर  बच्चों के द्वारा साबुन से हाथ धोते हुए "अंकलों" को बेवकूफ साबित करते,     
आधुनिक माँओं द्वारा अपने पति और बच्चों को लिक्विड सोप का महत्व बताते, सफ़ेद कोट वाले भाई साहब द्वारा सफाई की अहमियत जताते, स्कुल के बच्चों का आपस में बार साबुन को स्लो ठहराते, ढेरों विज्ञापन हमारे ऊपर दागे जा रहे हैं। अपने-अपने ब्रांड के तरल साबुन के घोल की प्रशंसा कर उसे साफ़ व सुरक्षित बताया जा रहा है। साबुन की बेचारी बट्टी को तो कीटाणुओं की पनाहगार तक बना दिया गया है। गोयाकि कीड़े मारने की दवा में ही कीड़े पड़ जाने की बात ! इस बम-वर्षा से प्रभावित हो बहुसंख्यक परिवारों ने विभिन्न कंपनियों के "लिक्विड सोप" खरीदना शुरू कर दिया, उसमें भी उन ब्रांडों की बिक्री का प्रतिशत ज्यादा रहा जो पहले से ही कीट-रोधी सोल्यूशन बनाते रहे हैं। या यूँ भी कह सकते है कि ऐसी ही कंपनियों ने शुरुआत कर सफाई बाजार पर कब्जा कर लिया है। 

अब यह बात सामने आ रही है कि देखने में "लिक्विड सोप" अच्छा, साफ़-सुथरा , रख-रखाव की सुविधा और आधुनिकता का प्रतीक भले ही है पर पुराना साबुन का "बार या बट्टी" उससे बेहतर है। खपत को ही लें, साबुन की बट्टी से हाथ धोते हुए मात्र 0.35 ग्राम साबुन लगता है वहीँ लिक्विड की खपत दो से तीन ग्राम की होती है, जो आम साबुन से करीब दस गुना ज्यादा है ! पर बाजार तो यही चाहता है कि खपत ज्यादा हो और उसके उत्पाद की बिक्री बढे ! दूसरे, यह बात भी शोधों से साबित हो चुकी है कि बार-बार खुले साबुन के 'बार' को उपयोग में लाने पर उस पर कीटाणु जमा हो जाने वाली बात, पूरी तरह निराधार है और सिर्फ बोतल बंद तरल साबुन की बिक्री बढ़ाने के लिए फैलाई गयी है।  वह हर तरह, हर लिहाज से सुरक्षित ही होता है। तीसरी अहम बात, साबुन की बट्टी अभी भी जिस कागज में लिपटी आती है वह वातावरण को नुक्सान नहीं पहुंचाता और तुरंत ही नष्ट हो जाता है पर लिक्विड सोप की लाखों-करोड़ों प्लास्टिक की बोतलें पर्यावरण का क्या हाल करती हैं उसका सिर्फ अनुमान ही लगाया जा सकता है। 

इस तरह देखें तो आधुनिक लिक्विड सोप अस्पतालों या भीड़-भाड़ वाली जगहों के लिए भले ही उपयुक्त हों पर पुराने चलन के साबुन हमारी जेब और प्रकृति के ज्यादा अनुकूल हैं। तो अगली बार आप विज्ञापनों को दर-किनार कर क्या अपनी जेब और प्रकृति का ख्याल रखेंगे ?

6 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (10-06-2018) को "गढ़ता रोज कुम्हार" (चर्चा अंक-2997) (चर्चा अंक-2969) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

आभार, शास्त्री जी

HARSHVARDHAN ने कहा…

आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन चौधरी दिगम्बर सिंह और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

Alaknanda Singh ने कहा…

बाजार ने हमें अभी तक बहुत बेवकूफ बना लिया...अब और नहीं। धन्‍यवाद शर्मा जी अच्‍छी जानकारी

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

हर्ष जी आपका और ब्लॉग बुलेटिन का हार्दिक धन्यवाद

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

अलकनंदा जी, कुछ अलग सा पर आपका सदा स्वागत है

विशिष्ट पोस्ट

कोई तो कारण होगा, धर्म स्थलों में प्रवेश के प्रतिबंध का !!

अभी कुछ दिनों पहले कुछ तथाकथित आधुनिक महिलाओं ने सोशल मिडिया पर गर्व से यह  स्वीकारा था कि माह के उन  कुछ ख़ास दिनों में भी वे मंदिर जात...