शनिवार, 11 मई 2013

कर्नाटक ने मुहावरे सार्थक किए



मुहावरे या लोकोक्तियां यूं ही नहीं बन जाते इनमें वर्षों के अनुभवों का निचोड होता है। अब देखिए कर्नाटक में सत्ता पलटते ही और कुछ सिद्ध हो ना हो पर एक साथ कई मुहावरे सार्थक हो गये, जैसे घर का भेदी लंका ढाए, दो की लडाई में तीसरे का भला, बिल्ली के भाग छींका टूटा, हम तो डूबेंगे तुम्हे भी ले डूबेंगे, दो नावों का सवार कहीं नहीं पहुंचता। 

ऐसे ही अर्थों वाले और  मुहावरे भी  अपने औचित्य पर मुस्कुराने लगे हैं।



3 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सब सिद्ध कर दिया है..

सतीश सक्सेना ने कहा…

और यह अक्सर सच होते हैं :)

P.N. Subramanian ने कहा…

सही कह रहे हैं.