शनिवार, 29 अप्रैल 2017

क्या बालाजी धाम का ट्रस्ट 20-25 की.मी. की सड़क का रख-रखाव भी नहीं कर सकता ?

बात तो खटकने वाली होनी ही है, चाहे सरकार हो, नेता हो, संत्री हो, मंत्री हो, पंडा हो पुजारी हो सब के लिए मध्यम वर्ग, गरीब की बकरी है, जिसे कभी भगवान् के नाम पर, कभी सहूलियत के नाम पर, कभी देश के नाम पर, कभी कानून के नाम पर जो आता है, अपनी मर्जी से दुह कर चल देता है और चाहा जाता है कि वह उफ्फ भी ना करे !

धार्मिक स्थलों की यात्रा करने वाला हर यात्री आस्था, श्रद्धा, विश्वास से ओत-प्रोत हो कर ही अपने आराध्य के दर्शन करने हेतु तन-मन-धन से समर्पित हो घर से निकलता है। पर उसके भक्ति-भाव को तब ठेस पहुंचती है जब उसे धर्मस्थलों पर पैसों के लिए कुछ भी होते-करते दिखता है। पर उस सब को भी अपने धार्मिक स्वभाव के कारण वह उसे भी प्रभू की इच्छा मान सहज स्वीकार कर अपनी आस्था में कमी नहीं होने देता। पर मन में कहीं ना कहीं दुःख तो होता ही है। ऐसा ही एक बार फिर इस बार की सालासर धाम की यात्रा के दौरान हुआ। 

इस बार बैसाखी के दिन तेरह अप्रैल को फिर सालासर का कार्यक्रम बना। इस बार भी कोरम में पिछली यात्रा पर जाने वाले सारे सदस्य थे। आठ बड़े और दो बच्चे। पर इस बार सिर्फ सालासर बालाजी के दर्शनों का ही लक्ष्य रखा गया था। हनुमान जयंती बीत चुकी थी, इसलिए भीड़-भाड़ बहुत
कम थी। दर्शन भी बहुत आराम और तसल्ली से हुए। पर वहीँ एक छोटी सी बात भी खटकी। दर्शनों के दौरान वहाँ खड़े पंडों में से एक ने मेरे सामने वाले तोंदियल पंडे को, चढ़ावे में से लोगों को कुछ दे देने को कहा, पर सामने वाले ने साफ़ मना कर दिया। एक क्षण के लिए मन में आया कि कैसे लालची लोग प्रभू की सेवा में नियुक्त हुए, हुए हैं। जो मुफ्त के चढ़ावे को भी वितरित न कर खुद हड़पना चाहते हैं। जबकि दर्शनार्थियों की जेब से तरह-तरह के बहानों से पैसा निकलवाने से नहीं चूका जाता। लगता है भगवान भी पंडों और ट्रस्टियों की अमानत बन कर रह गए हैं। नहीं तो ऐसा क्यों कि ट्रस्टियों, पंडों, उनके रिश्तेदारों या उनके जान-पहचान के लोगों को अलग से सहूलियतें दी जाती हैं, गर्भ-गृह तक जाने की इजाजत मिलती है, पूजा में समय अड़चन नहीं बनाया जाता, और इधर आम इंसान लाइन में लगा कीर्तन ही करता रहता है। TRUST यानी भरोसा। मतलब जिन पर भरोसा कर प्रभू की पूजा, अर्चना, रख-रखाव  सौंपा जाता है वही अपने-आप को आम से ख़ास मान सुविधाएं संजोने लगता है। पंडे-पुजारी तो भगवान् को अपनी धरोहर ही समझते आए हैं सदा से !! दूसरी ओर आम इंसान, जिसकी आस्था और धन पर स्थल को ख्याति मिलती है उसके हिस्से में धक्के ही आते हैं !!!  

बात तो खटकने वाली ही है, चाहे सरकार हो, नेता हो, संत्री हो, मंत्री हो, पंडा हो पुजारी हो सब के लिए मध्यम वर्ग, गरीब की बकरी है जिसे कभी भगवान् के नाम पर, कभी सहूलियत के नाम पर, कभी देश के नाम पर, कभी कानून के नाम पर जो आता है, अपनी मर्जी से दुह कर चल देता है और चाहा जाता है कि वह उफ्फ भी ना करे ! 

इधर दो-तीन साल से लक्ष्मण गढ़ की तरफ से, #राजमार्ग_65_से_सालासर_बालाजी_धाम तक जाने वाली #सड़क को यात्रियों की सुविधा के नाम पर #टोल_मार्ग कर दिया गया है। पहली नजर में तो यह बात अच्छी लगती है, पर करोड़ों रुपयों का चढ़ावा संभालने वाला #बालाजी_धाम-का_ट्रस्ट-क्या #20-25_की.मी. की सड़क का रख-रखाव भी नहीं कर सकता जबकि पंडों-पुजारियों के घरों की कीमत पचासों लाख के भी ऊपर है। ऊपर से यह मार्ग ट्रस्टियों, ख़ास लोगों, पण्डे-पुजारियों की गाड़ियों के लिए कर मुक्त है। 

देश में सैकड़ों ऐसे धर्म-स्थल हैं, जहां की आमदनी की कोई हद नहीं है। पर कुछेक को छोड़ कर किसी की ओर से भी जनता के पैसे को जनता के लिए शायद ही खर्च किया जाता हो।जबकि उनसे जुड़े लोगों के घर, महल-अट्टालिकाओं में बदलते रहते हैं। हम सदा से धर्म-भीरु रहे हैं। जन्मों-जन्म से धर्म के नाम पर लुटते-पिटते आए हैं। जानते-बुझते जगह-जगह जेबें ढीली कर देते हैं। पर ऐसी जगहों पर होती अनियमितताओं के खिलाफ कभी खड़े नहीं होते। कभी विरोध न होने की वजह भी है कि सामनेवाला सदा मध्यम-वर्ग को कोई तवज्जो नहीं देता।    

मंगलवार, 25 अप्रैल 2017

ऑर्गेनिक के नाम पर कहीं यह भरमाने का प्रयास तो नहीं ?

जब पतंजलि की तरफ से इजाजत नहीं मिली है तो फिर कैसे ये लोग उसके नाम और लोगो का इस्तेमाल कर रहे है। ऐसा तो नहीं कि उन्होंने सोच रखा हो कि इजाजत मिलने में तो समय लगेगा ही तब तक उनके नाम का इस्तेमाल करते रहो, पब्लिक को क्या पता कि अधिकृत हैं की नहीं, वह तो नाम देखती है, यदि इजाजत ना भी मिली तब तक पब्लिक को आदत पड़ चुकी होगी !!  
पिछले कुछ दिनों से मीडिया पर #पतंजलि-के-नाम-का-रेस्त्रां खुलने की खूब चर्चा हो रही है। जिसे अपने आप को बाबा रामदेव का अनुयायी कहने वाले दो  सज्जनों द्वारा "पौष्टिक" नाम से पंजाब के जीरकपुर इलाके में खोला गया है। उनका दावा है कि उनके द्वारा सिर्फ पतंजलि के उत्पाद ही उपयोग में लाए जाते हैं। वैसे तो उनके अनुसार अभी बाबा रामदेव की तरफ से हरी झंडी नहीं मिली है, जिसके लिए उन्होंने आवेदन कर रखा है, फिर भी उनके रेस्त्रां में हर जगह बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण के फोटो के साथ-साथ पतंजलि के उत्पादों से दीवालें सजी पड़ी हैं, यहां तक की उनके मेनू-कार्ड पर भी पतंजलि का 'लोगो' लगा हुआ है। 

आज हर आदमी स्वास्थ के प्रति जागरूक होने लगा है। उसका रुझान ऑर्गेनिक यानी प्राकृतिक वस्तुओं की तरफ बढ़ता जा रहा है। इसी मनोवृत्ति का फ़ायदा व्यवसायिक वर्ग उठाने में लगा हुआ है। FMCG बनाने वाली हर कंपनी हर दूसरे दिन कोई न कोई नया पदार्थ "आर्गेनिक" का ठप्पा लगा बाज़ार में उतार देती है। पर इनमें से अधिकांश पर सिर्फ ठप्पा ही लगा होता है जो सिर्फ लोगों को भरमाने का ही काम करता है। इसका मुख्य कारण पतंजलि के वे उत्पाद हैं जिन्होंने देसी-विदेशी हर उपभोक्ता वस्तुओं को बनाने वाली कंपनियों के नाक के नीचे से बाजार खींच कर उस पर कब्जा कर लिया है। पतंजलि और बाबा रामदेव का नाम बाजार में "हॉट केक" बना हुआ है। लोग आँख बंद कर उनके उत्पादों का उपयोग करने लग गए हैं। शहर-शहर, गांव-गांव, गली-गली पतंजलि के उत्पादों की दुकानें खुल चुकी हैं। छोटे-बड़े हर घर में उसकी उपस्थिति दर्ज है। उनके नाम से हर कोई जुड़ना 
चाहता है। उसकी लोकप्रियता का फायदा उठाने के लिए लालायित हो रहा है। इसीलिए इस रेस्त्रां पर भी तुरंत भरोसा करने का मन नहीं हो पा रहा। हो सकता है कि इसके संस्थापकों की मंशा जन-हित की ही हो पर इससे नकारा भी नहीं जा सकता कि आज के समय में सिर्फ संस्था का नाम उपयोग कर लोगों को आकर्षित कर अपने को सफल करने का प्रयास किया जा रहा हो। आज जहां बाजार आर्गेनिक-आर्गेनिक के खेल में दस की चीज को सौ का बता खपाने में माहिर है। वहीँ आम-जन अपनी सेहत को लेकर कुछ भी खर्च करने को तत्पर नजर आता है। इसलिए शक की गुंजायश कुछ ज्यादा ही हो रही है।   

#पतंजलि_को_ब्रांड_बनने_और_लोगों_का_विश्वास_जीतने_में_वर्षों_का_समय_और_मेहनत_लगी_है। आज वह जिस मुकाम पर है वहां उन्हें किसी भी चीज के लिए किसी का मुंह जोहने  की जरुरत नहीं है। वे आज इतने सक्षम हैं कि पतंजलि के नाम से पांच सितारा होटलों की श्रृंखला खोली जा सकती है। इसलिए उन्हें इस तरह के किसी भी प्रस्ताव और प्रस्तावित करने वाले की मंशा को बहुत सोच-समझ कर ही स्वीकार करना चाहिए। क्योंकि साख बनाने में सालों लग जाते हैं उसे मिटने में वक्त नहीं लगता। इस रेस्त्रां की एक और बात खटकने वाली है कि जब पतंजलि की तरफ से इजाजत नहीं मिली है तो फिर कैसे ये लोग उसके नाम और लोगो का इस्तेमाल कर रहे है। ऐसा तो नहीं कि उन्होंने सोच रखा हो कि इजाजत मिलने में तो समय लगेगा ही तब तक उनके नाम का इस्तेमाल करते रहो, पब्लिक को क्या पता कि अधिकृत हैं की नहीं, वह तो नाम देखती है, यदि इजाजत ना भी मिली तब तक पब्लिक को आदत पड़ चुकी होगी !!  जिसका फ़ायदा तो मिलता ही रहेगा !!!

शनिवार, 22 अप्रैल 2017

सालासर बालाजी धाम जाएं तो तुलसीदेवी सेवासदन को जरूर आजमाएं

यदि किसी ख़ास दिन ही बालाजी के दर्शन की मानता ना मानी हो तो दिवाली के तुरंत बाद या इस समय, अप्रैल में, चाहे गर्मी भले ही हो, हनुमान जयंती के बाद जाना ही श्रेयस्कर है। भीड़-भाड़ कम हो जाने की वजह से प्रभु खुले दिल से निश्चिंतता से दर्शन देते हैं। कोई हड़बड़ी नहीं, कोई मारा-मारी नहीं, रहने को उचित जगह मिल जाती है। खान-पान साफ़-सुथरा..............

बालाजी महाराज 
साल शुरू होते ही नौकरीपेशा इंसान शायद सबसे पहले छुट्टियों की तारीखें ही ढूंढता है। होता तो सब प्रभू की इच्छा से है पर छुट्टियों के अनुसार कुछ कार्यक्रम निर्धारित कर ही लिए जाते हैं। ऐसा ही कुछ इस साल की शुरुआत में भी हो चुका था, जिसमें अप्रैल माह के दूसरे सप्ताहांत पर फिर सालासर बालाजी के दर्शनार्थ जाना तय कर लिया गया था। हालांकि पिछली बार वहाँ की भीड़ के कारण मेरा मन कुछ डांवाडोल था पर यह जान कर बहुत अच्छा लगा कि लाख "Modernity" के बावजूद मैं अपने बच्चों में प्रभू के प्रति आस्था व विश्वास का बीजारोपण करने में सफल   रहा हूँ। उनके आग्रह पर ही मेरे जाने का मन बन पाया।    

चमेलीदेवी अग्रवाल सेवासदन 
इस बार भी कोरम में पिछली यात्रा पर जाने वाले सारे सदस्य थे। आठ बड़े और दो बच्चे। हर बार झुंझनूं के रानीसती मंदिर से सालासर धाम फिर खाटू श्याम, इस त्रिकोणात्मक यात्रा को ही अंजाम देते आना हुआ है। जो करीब-करीब अफरा-तफरी में ही पूरी की जाती रही है, जिससे थकान का होना स्वाभाविक होता था। इसलिए इस बार सिर्फ सालासर बालाजी के दर्शनों का ही लक्ष्य रखा गया था। 13 अप्रैल को दोपहर एक बजे निकलना तय हुआ था। पर बैसाखी का त्यौहार होने के कारण ट्रैवेहलर को आने में तो देर हुई ही दिल्ली से निकलते-निकलते ही चार बज गए थे।  फिर वाहन-चालक के चालन में भी कुछ नौसिखियापन था, जिसके फलस्वरूप गंतव्य तक पहुंचते-पहुंचते घडी ने पौने एक बजा दिया था। हर बार की तरह चमेलीदेवी अग्रवाल सेवासदन  में तीन कमरों की बुकिंग थी, फिर भी सोते-सोते दो तो बज ही गए थे। रास्ते की थकान और देर के कारण सुबह आलस कुछ देर से टूटा। निश्चिंतता भी थी कि पूरा दिन अपना ही है। नहा-धो कर बाहर निकले तो ज्यादा चहल-पहल नहीं थी। इसके दो कारण थे पहला तो यह था कि यहां दो दिन पहले हनुमान जयंती के मेले का समापन हो चुका था, उसकी भीड़ भी अबतक घर जा चुकी थी। दूसरा गर्मी अपने पूरे शबाब पर थी। यही कारण था कि मुख्य द्वार का शटर खोल दिया गया था जिससे सीधे अंदर जा आराम और शाँति के साथ खुले दर्शन पाने का पांच साल पहले जैसा सौभाग्य प्राप्त हो सका। हालांकि लोग आ-जा रहे थे पर मंदिर के भीतर भी एक बार में    30-35 जनों से ज्यादा दर्शनार्थी नहीं थे। पंडित-पुजारी भी आराम से प्रसाद वगैरह का वितरण कर रहे थे। ना शोर-शराबा ना हीं धक्का-मुक्की। नहीं तो करीब एक-डेढ़ की. मी. का चक्कर zig-zag करते हुए लगाने और भीड़ संभालने में तीन-चार घंटे लगना तो मामूली बात होती है। इस तरह से दर्शन-लाभ मिलने से, तन थकान रहित और मन प्रसन्न व प्रफुल्लित रहता है।

अंजनी माता 
दर्शनोपरांत यहां से तीस-पैंतीस की.मी. दूर डूंगर बालाजी जाना भी सदा कार्यक्रम में शामिल रहता आया है। पर इस बार एक तो गर्मी के कारण निकलना देर से हुआ ऊपर से वहां जा कर पता चला कि दो-तीन महीने पहले हुए एक हादसे के कारण अब गाड़ियों के ऊपर मंदिर तक जाने पर रोक लगा दी गयी है। सात बज रहे थे, अंधेरा घिरना शुरू होने ही वाला था पर आए थे तो बिना दर्शन किए लौटना भी बनता नहीं था। चढ़ाई इतनी सीधी थी कि कहीं-कहीं बिना रेलिंग पकड़े सीधा खड़े होना भी मुश्किल लगता था। करीब साढ़े चार सौ सीढ़ियों के साथ ही कहीं-कहीं समतल कठिन चढ़ाई भी थी। वैसे जब से वाहन मार्ग बंद किया गया है तब से गर्मी से बचाने के लिए इस पूरे मार्ग को ढक दिया गया है, अंधेरे की वजह से फोटो नहीं ली जा सकी। पोस्ट में पुरानी फोटो ही है। जैसे-तैसे साढ़े सात बजे तक दरबार में पहुंचे, प्रभू का आशीर्वाद था, आरती हो रही थी, आना सफल रहा। हालांकि कदम जी नीचे ही रही थीं। सालासर लौटते-लौटते नौ बज गए थे। इस बार खाना वगैरह निपटा सब जने जल्दी से नींद का आह्वान करने चले गए। सुबह फिर प्रभू के दर्शन कर इजाजत ली गयी। माता अंजनी के दर्शन कर दोपहर का भोजन कर वापस दिल्ली घर पहुंचते-पहुंचते रात के दस तो बज ही गए थे। पर  बालाजी की कृपा के कारण इतनी गर्मी (सालासर में पारा 44* छू रहा था) के बावजूद सब जने स्वस्थ व प्रसन्न रहे, यह भी बहुत बड़ी बात थी।

डूंगर बालाजी 
सालासर में वैसे तो साल भर भक्तों का तांता लगा रहता है, मंगलवार और शनिवार तो मेले का दृश्य उत्पन्न कर देते हैं। हनुमान जयंती और कार्तिक पूर्णिमा के दिन तो पूरे इलाके में पैर रखने की जगह नहीं बचती। लोग-बाग़ खुले में, टिलों पर, सड़क के किनारे, गलियों में जहां जगह मिले ठौर बना लेते हैं। आधा-आधा दिन निकल जाता है दर्शन के लिए लाइन में लगे-लगे। इसलिए यदि किसी ख़ास दिन ही बालाजी के दर्शन की मानता ना मानी हो तो दिवाली के तुरंत बाद या इस समय, अप्रैल में, चाहे गर्मी भले ही हो, हनुमान जयंती के बाद जाना ही श्रेयस्कर है। भीड़-भाड़ कम हो जाने की वजह से प्रभु खुले दिल से निश्चिंतता से दर्शन देते हैं। कोई हड़बड़ी नहीं, कोई मारा-मारी नहीं, रहने को उचित जगह मिल जाती है। खान-पान साफ़-सुथरा। 

मेरा सपरिवार सालासर जाना कई बार हो चुका है। वहां सौ के ऊपर ही आवासीय स्थान होंगे। हर साल, दिन ब दिन, नए-नए सेवासदन-धर्मशालाएं बनती भी जा रही हैं। पर जहां तक मेरा अनुभव है, जिसके चलते अब मैं
डूंगर बालाजी पहुँच मार्ग, अब इसे पूर्णतया ढक दिया गया है 
पहली बार जाने वाले को सलाह दे सकता हूँ कि साफ़-सुथरे, आराम-दायक आवास, सफाई के साथ बनाए और परोसे जाने वाले शुद्ध भोजन, जो मनुहार के साथ खिलाया जाता हो और वह सब भी अत्यंत उचित या कहें सस्ते मूल्य में, पाने के लिए #चमेलीदेवी_अग्रवाल_सेवासदन को जरूर आजमाएं। रहने और खाने का इतना सुंदर इंतजाम शायद ही कहीं हो। पिछले पांच-छह सालों में इतनी प्रतिस्पर्द्धा के बावजूद इस संस्था ने रहने और ना ही भोजन की कीमतों में, बिना गुणवत्ता से समझौता किए, कोई बढ़ोत्तरी की है। यहां से मंदिर कुछ दूर जरूर है पर इतनी सुविधाओं के बदले उतना आराम से सहा जा सकता है। इसलिए जब भी सालासर धाम जाना हो इस जगह को जरूर आजमाएं।