बुधवार, 25 सितंबर 2013

बंगाल का रोशोगोल्ला यानी हम सबका रसगुल्ला

"नोवीन दा किछू  नोतून कोरो, डेली ऐक रोकोमेर मिष्टी आर भालो लागे ना."
"हेँ, चेष्टा कोच्ची (कोरची), दैखो की होय."

1866, कलकत्ता के बाग बाजार इलाके की एक मिठाई की दुकान। शाम का समय, रोज की तरह ही दुकान पर युवकों की अड्डेबाजी जमी हुई थी। मिठाईयों के दोनो के साथ तरह-तरह की चर्चाएं, विचार-विमर्श चल रहा था। तभी किसी युवक ने दुकान के मालिक से यह फर्माइश कर डाली कि नवीन दा कोई नयी चीज बनाओ। (नोवीन दा किछू नुतून कोरो)।
नवीन बोले, कोशिश कर रहा हूं। उसी कुछ नये के बनाने के चक्कर में एक दिन उनके हाथ से छेने का एक टुकड़ा चीनी की गरम चाशनी में गिर पड़ा। उसे निकाल कर जब नवीन ने चखा तो उछल पड़े, यह तो एक नरम और स्वादिष्ट मिठाई बन गयी थी। उन्होंने इसे और नरम बनाने के लिए छेने में "कुछ" मिलाया, अब जो चीज सामने आयी उसका स्वाद अद्भुत था। खुशी के मारे नवीन को इस मिठाई का कोई नाम नहीं सूझ रहा था तो उन्होंने इसे रशोगोल्ला यानि रस का गोला कहना शुरु कर दिया। इस तरह रसगुल्ला जग में अवतरित हुआ।

कलकत्ता वासियों ने जब इसका स्वाद चखा तो जैसे सारा शहर ही पगला उठा। बेहिसाब रसगुल्लों की खपत रोज होने लग गयी। इसकी लोकप्रियता ने सारी मिठाईयों की बोलती बंद करवा दी। हर मिठाई की दुकान में रसगुल्लों का होना अनिवार्य हो गया। जगह-जगह नयी-नयी दुकानें खुल गयीं। पर जो खूबी नवीन के रसगुल्लों में थी वह दुसरों के बनाये रस के गोलों में ना थी। इस खूबी की वजह थी वह  "चीज"  जो छेने में मिलाने पर उसको और नरम बना देती थी। जिसका राज नवीन की दुकान के कारिगरों को भी नहीं था।

नवीन और उनके बाद उनके वंशजों ने उस राज को अपने परिवार से बाहर नहीं जाने दिया। आज उनका परिवार कोलकाता के ध्नाढ्य परिवारों में से एक है, पर कहते हैं कि रसगुल्लों के बनने से पहले परिवार का एक सदस्य आज भी अंतिम "टच" देने दुकान जरूर आता है। इस गला काट स्पर्द्धा के दिनों में भी इस परिवार ने अपनी मिठाई के स्तर को गिरने नहीं दिया है।

बंगाल के रसगुल्ले जैसा बनाने के लिये देश में हर जगह कोशिशें हुईं, पर उस स्तर तक नहीं पहुंचा जा सका। हार कर अब कुछ शहरों में बंगाली कारिगरों को बुलवा कर बंगाली मिठाईयां बनवाना शुरु हो चुका है। पर अभी भी बंगाल के रसगुल्ले का और वह भी नवीन चंद्र की दुकान के "रशोगोल्ले" का जवाब नहीं।

कभी कोलकाता आयें तो बड़े नामों के विज्ञापनों के चक्कर में ना आ बाग बाजार के नवीन बाबू की दुकान का पता कर, इस आलौकिक मिठाई का आनंद जरूर लें।

* छेना :- दूध को फाड़ कर प्राप्त किया गया पदार्थ।
*  रोशोगोल्ला :- रसगुल्ले का बंगला में उच्चारण।

10 टिप्‍पणियां:

HARSHVARDHAN ने कहा…

रसगुल्ला का रोचक इतिहास जानकर बहुत अच्छा लगा। ज्ञानवर्धन के लिए आपका आभार।।

दिलबाग विर्क ने कहा…

आपकी यह प्रस्तुति 26-09-2013 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
कृपया पधारें
धन्यवाद

शिवम् मिश्रा ने कहा…

खूब मिष्टि पोस्ट दादा ... खूब भालो लागलो !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वह अन्त में क्या डाला जाता है जिससे इतना स्वादिष्ट व नरम हो जाता है, रोशोगुल्ला। व्यक्ति के व्यवहार में भी मिला दे कोई।

कालीपद प्रसाद ने कहा…

रसोगोल्ला की जन्म कथा -बहुत सुन्दर
नई पोस्ट साधू या शैतान
latest post कानून और दंड

अन्तर सोहिल ने कहा…

रसगुल्ला के बारे में इतनी जानकारी पहली बार हुई

आभार

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

दिलबाग जी,
स्नेह बना रहे।

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

शिवम जी, यह कोलकतिया यादें कहां पीछा छोडने वाली हैं।

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

प्रवीण जी वही "कुछ" उस परिवार का "सीक्रेट" है। कोकाकोला वालों की तरह

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

आप सब का सदा स्वागत है।