बुधवार, 1 दिसंबर 2010

राजस्थानी भाषा में पति और पत्नी के लिए प्रयोग में लाए जाने वाले कुछ शब्द

कल रात अपने एक राजस्थानी मित्र के चिरंजीव की शादी में जाना हुआ था। बातों ही बातों में पता चला कि राजस्थानी भाषा में पति और पत्नी के लिए अलग-अलग करीब २५० शब्दों का प्रयोग होता है। मित्र के पिताजी ने कुछ पर्याय बताए, वही पेश कर रहा हूँ :-

पति : अलबलियो, आलीजो, उमराव, कामणगारो, केसरियो बालम, गायड़मल, ईसर, गढपतियो, चतर, जलाल, ढोला, गुमानीड़ो, छैलभंवर, पिव, भरतार, मूंछालो, राईवर, रावतियो, पांवड़ां, ललबलिया, नवलबनो, भंवर, मारूजी, रसियो, राजकवंर, रायजादो, लसकरियो, सास सपूती रा पूत, साहिबां, सुगणो, नणद रो वीर, सायबो, सरदार, इत्यादि।

पत्नी : - अरधंगी, कामणगारी, गौरी, चितहरणी, चुड़ाहाली, अलबेली, कांमणी, नखराली, चंदाबदनी, फूलवंती, मरवण, मिरगानैणी, रमणी, लाडी, सुगणीनार, पद्मणी, नार, मारू, सुवागण, स्याणी, जोड़ायत, इत्यादि।

12 टिप्‍पणियां:

सुज्ञ ने कहा…

गगन जी,
अच्छा संकलन!!


यह सभी विशेषण है, कुछ अधिक उपयोग होने वाले:
धणी-धणियाणी, घरवाला- घरवाली, आदमी-लुगाई।

cmpershad ने कहा…

क्या क्या नाम दिए पर पति या पत्नी नहीं :)

Sitaram Prajapati ने कहा…

वाहजी, बहुत अच्छा, मजा आ गया !

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

नाम बताने के लिए धन्यवाद!

PN Subramanian ने कहा…

ज्ञानवर्धन हुआ. आभार.

Akhtar Khan Akela ने कहा…

aadrniy pti ptni ke liyen to yhaan or bhi bhut kuch shbdon kaa istemal hota he lekin hm chup rhenge aapne behtrin jaankari di he mubark ho. akhtar khan akela kota rajsthan

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

कै लोग इसे सिर्फ़ इतिहास के शब्द कहेंगे पर इनमें से अधिकांश आज भी गांवो मे बडी बूढी बीरबानियों द्वारा इस्तेमाल किये जाते हैं. बहुत शुभकामनाएं.

रामराम.

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

प्रिय अख्तर जी,
जैसा मैने ऊपर लिखा है कि करीब 250 से ज्यादा शब्द इस रिश्ते के लिए प्रयोग मे लाए जाते हैं। पर यहां सब का उल्लेख तो जरा मुश्किल था सो कुछेक का जिक्र ही किया था। बहुत ज्यादा "कामन" शब्दों को भी छोड़ कर। कृपया अन्यथा ना लें।

शिवम् मिश्रा ने कहा…


बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

वन्दना ने कहा…

बेहद रोचक प्रस्तुति।

वाणी गीत ने कहा…

रोचक जानकारी !

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

बढ़िया और रोचक प्रस्तुती |
सबसूं ज्यादा बोलण वालो शब्द बिंद ,बिंदणी भी जोड़ ल्यो जी !