रविवार, 16 मई 2010

आज तोता नहीं, कौवा है :-)

# संता और संतानी गोवा घूमने गये। वहां संता ने एक मोटर सायकिल किराए पर ली और दोनों घूमने निकल पड़े। अब संता तो संता ऊपर से पीछे बैठी बीवी उसने बीवी पर रौब ड़ालने के लिये उल्टी-सीधी बिना नियम कानून देखे गाड़ी चलाई फलस्वरूप एक चौराहे पर ट्रैफिक पुलिस ने रोक कर चालान कर दिया। संता बोला सरजी आगे तो कोई और नहीं रोकेगा? पुलिसवाले ने कहा कोई रोके तो कह देना "तोता"।
संता के हाथ चिराग लग गया। दिन भर बेतहाशा गाड़ी दौड़ाता रहा। दूसरे दिन भी अपनी हरकतों से बाज नहीं आया। नतीजतन एक जगह यातायात नियमों को तोड़ते फिर रोका गया। जैसे ही पुलिस वाला पास आया उसने अकड़ कर कहा "तोता"।
पुलिस वाले ने कहा पांच सौ रुपये निकालो, आज "कौवा" है।

# संतानी बंतानी से, तुम तो अपने कुत्ते की बहुत बड़ाई कर रही थी कि यह बहुत चतुर है, कैसे भला?जब भी मेरे पति आल्मारी खोलने लगते हैं, यह जोर-जोर से भौंकने लगता है।
बंतानी ने बात साफ की।

संता रात पी कर लौटा। पत्नी की नाराजगी से ड़र चुपचाप अपने कमरे मे जा एक बड़ी सी किताब उठा पढने लगा। पत्नी ने कमरे मे आते ही पूछा, आज फिर पी कर आए हो?
संता बोला नहीं तो।
तो फिर यह ब्रीफकेस मुंह के सामने रख क्या कर रहे हो? पत्नी ने पूछा।

8 टिप्‍पणियां:

ललित शर्मा ने कहा…

बहुत बढिया,

संता एक दिन कह रहा था वो ब्रीफ़केश नही था,
लैपटॉप था, उसकी बीबी चश्मा भूल आई थी।

भगवान परशुराम जयंती की शुभकामनाएं

राज भाटिय़ा ने कहा…

सभी चुटकले बहुत सुंदर, ललित जी का चुटकला भी बहुत सुंदर

Udan Tashtari ने कहा…

तोता कौव्वा वाला बहुत मस्त!!

डॉ महेश सिन्हा ने कहा…

:)

AlbelaKhatri.com ने कहा…

ha ha ha

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

:)

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

कोई बात नही!
हम इसे काला तोता ही मान लेते हैं!

अन्तर सोहिल ने कहा…

हा-हा-हा
सभी मजेदार हैं, धन्यवाद

प्रणाम

विशिष्ट पोस्ट

कोई तो कारण होगा, धर्म स्थलों में प्रवेश के प्रतिबंध का !!

अभी कुछ दिनों पहले कुछ तथाकथित आधुनिक महिलाओं ने सोशल मिडिया पर गर्व से यह  स्वीकारा था कि माह के उन  कुछ ख़ास दिनों में भी वे मंदिर जात...