गुरुवार, 1 अक्तूबर 2009

छोटे कद पर विराट व्यक्तित्व के धनी शास्त्री जी

एक ही दिन जन्मदिन होने के कारण छोटे कद पर विराट व्यक्तित्व के धनी शास्त्रीजी को वह सम्मान नहीं मिल पाता, जिसके वह हकदार रहे हैं। वैसे भी वह चमकदार मेहराबों के बनिस्पत नींव का पत्थर होना ज्यादा पसंद करते थे। उनकी सादगी को दर्शाते ये दो संस्मरण उस समय के हैं, जब वे प्रधान मंत्री थे।
एक बार देश की एक बड़ी कपहा बनाने वाली कंपनी ने ललिताजी के लिए कुछ सिल्क की साड़ियां उपहार स्वरुप देने की पेशकश की। साड़ियां काफी खुबसूरत तथा मुल्यवान थीं। शास्त्रीजी ने उनकी कीमत पूछी, जब काफी जोर देने पर उन्हें कीमत बताई गयी तो उन्होंने यह कह कर साफ मना कर दिया कि मेरी तन्ख्वाह इतनी नहीं है कि मैं इतनी मंहगी साड़ी ललिताजी के लिए ले सकूं, और अपने निर्णय पर वे अटल रहे।
एक बार उनके बड़े बेटे हरिकिशनजी को एक ख्याति प्राप्त घराने से अच्छे पद का प्रस्ताव मिला, उन्होंने शास्त्रीजी से अनुमती चाही, तो उन्होंने जवाब दिया कि यह नौकरी मेरे प्रधान मंत्री होने के कारण तुम्हें दी जा रही है, यदि तुम समझते हो कि तुम इस पद के साथ न्याय कर पाओगे और तुम इस के लायक हो तो मुझे कोई आपत्ती नहीं है। हरिकिशनजी ने भी वह प्रस्ताव तुरंत नामंजूर कर दिया।इन्हीं आदर्शों की वजह से चाहे अंत समय तक उनका अपना कोई घर नहीं था नही ढ़ंग की गाड़ी थी, पर वे याद किए जाएंगें, जब तक भारत और उसका इतिहास रहेगा।
आज के वंशवादी, सत्ता पिपासु तथाकथित नेता क्या ऐसा सोच भी सकते हैं। जिनमें कुछ एक को छोड़ उनके राज्य के बाहर ही कोई उन्हें नहीं जानता और ना जानना चाहता है।

11 टिप्‍पणियां:

Mithilesh dubey ने कहा…

शास्त्री जी का जीवन हमारे लिए हमेशा प्रेरणा स्वरुप रहेगा।

शिवम् मिश्रा ने कहा…

शर्मा जी, आपको बहुत बहुत बधाई और नवदंपत्ति के मंगल जीवन के लिए शुभकामनाएं...|

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आज शास्त्री जी की भी जयंती होती है,कितने जानते है ??

भारत माता के सच्चे 'लाल', लाल बहादुर शास्त्री जी को मेरा शत शत नमन !

डॉ .अनुराग ने कहा…

अच्छा लगा आपने उन्हें याद किया वरना गाँधी जी छाया में लोग अक्सर उन्हें भूल जाते है

शरद कोकास ने कहा…

भारत माता के ऐसे सच्चे लाल अब कहाँ जन्म लेते हैं ।

राज भाटिय़ा ने कहा…

भारत के लाल ' शास्त्री जी ' को जयंती के पावन अवसर पर कोटि - कोटि नमन |

नेता हो तो ऎसा हो...

Rakesh Singh - राकेश सिंह ने कहा…

भारत वर्ष के सर्वश्रेस्ट प्रधान मंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री जी को कोतीसः नमन |

आज कांग्रेस शास्त्री जी को याद तक नहीं करती ... और याद करेजी भी कैसे उन्हें एक गाँधी परिवार से फुर्सत मिले तब ना !!!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर पोस्ट है।

महात्मा गांधी जी और
पं.लालबहादुर शास्त्री जी को
उनके जन्म-दिवस पर
इन दोनों महान विभूतियों को नमन।

वाणी गीत ने कहा…

शास्त्रीजी की सादगी अतुलनीय रही है ...

isibahane ने कहा…

वाकई शास्त्री जी की सादगी के अनगिनत संस्मरण हैं. अच्छा है, आपने उनमे से कुछ से अवगत कराया वरना लोग तो उनका जन्मदिन तक भूल जाते हैं.

lalit sharma ने कहा…

सयोग है कि दोनो एक ही दिन इस दुनिया मे आये, लेकिन शास्त्री जी की अपनी अलग पहचान है इतिहास मे,