मंगलवार, 12 मई 2009

हे भगवान, इतने जुड़वां

याद है ये फिल्में - कानून, राम और श्याम, सीता और गीता, अंगूर, शर्मीली वगैरह-वगैरह। ये वह फिल्में थीं जिनमें एक ही चेहरे के दो-दो इंसान या इंसाननीयां थीं और जिसके कारण पूरी फिल्म में अफरातफरी मची रहती है। और यह तब होता है जब कि कहानी में एक या दो जोड़े होते हैं। सोचिए यदि असली जिंदगी में ऐसे लोगों से पाला पड़ जाये वह भी एक दो नहीं 250 से भी ज्यादा जोड़ों से तो क्या हाल होगा। पर ऐसा है और अपने ही देश में ही है।
केरल के कोड़िन्ही नामक गांव ने दुनिया में शोहरत पायी है अपने यहां जन्मे जुड़वां बच्चों के कारण। यहां की सरकारी सूची में 250 जुड़वां बच्चों के जन्म का विवरण है, पर यहां के निवासियों के अनुसार इनकी संख्या इससे अधिक ही है। पिछले सात के करीब दशकों में यहां करीब 250 जुड़वों का जन्म हो चुका है। पिछले पांच सालों में ही करीब साठ जोड़ी बच्चे जन्म ले चुके हैं। हर साल यह दर बढती ही जा रही है। एक ही जगह इतनी बड़ी संख्या में जुड़वाओं ने अवतरित होकर वैज्ञानिकों को भी हैरानी में डाल रखा है।
हां, इसका कोई रेकार्ड नहीं है कि, कितने रामस्वरुपों ने शैतानी की, फलस्वरुप पकड़े गये।

9 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

अजब गजब खबर लाते हैं आप. दिलचस्प!! :)

अक्षत विचार ने कहा…

Hamesha ki tarahe Alag sa..

P.N. Subramanian ने कहा…

बहुत ही रोचक जानकारी. वहां के पानी का ही असर होना चाहिए. आभार.

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

आप हमेशा आपके ब्लाग के नाम अनुरुप अलग सी ही बाते बताते हैम जो की बडी रोचक और जानकारी बढाने वाली होती हैं.

रामराम.

संगीता पुरी ने कहा…

सचमुच अजब गजब .. मुझे लगता है कि .. वहां के रामस्‍वरूप शैतानिया करते होंगे .. पर कन्‍फ्यूजन के फलरूवरूप पकडे नहीं जाते होंगे .. इसलिए कोई रिकार्ड नहीं है उनका।

dhiru singh {धीरू सिंह} ने कहा…

alag sa gaaon hae yah

Everymatter ने कहा…

if it s a reality then strange

is it due to the environment of that village or it is heriditary

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

हमेशा की तरह से कुछ अलग सा ही है.....बहुत ही रोचक जानकारी दी आपने...

vishnu-luvingheart ने कहा…

really intersting!!!