शुक्रवार, 10 अप्रैल 2009

कुछ इधर की कुछ बहुत उधर की

* मरने के बाद भी वह शासन करता रहा -
फ्रेंच कोंगो के कोंडे प्रदेश के शासक, 'कोकोडो, के मरने के बाद उसका शव एक चौकोर कौफीन में तीन साल तक रख छोडा गया था। उसे भोजन और पैसा उपलब्ध कराया जाता रहा था। ऐसा इसलिए की वह आराम से सोच सके की उसे मृत रहना है की नहीं।
नोट :- उसने मृत रहने का ही निर्णय लिया।

* पोपाई द सेलर का जीता जागता रूप -
जापान के डाक्टर काकुजी योशीदा ने बच्चों को स्वस्थ रखने का गुर सिखाने के लिए एक अनोखा कारनामा किया। उन्होंने ६ साल में करीब ८२८० पाउंड पालक खाई। तकरीबन तीन पाउंड रोज। उनका कहना था इससे वे खुद को भी स्वस्थ और तरोताजा रख सके थे।

* शव यात्रा, जो साल भर तक चली -
चीन के एक जनरल की शवयात्रा, पेकिंग से चल कर काश्गार, सिंकियांग तक गयी थी। जिनके बीच की दूरी २३०० मील थी। यह यात्रा एक जून १९१२ से शुरू हो कर एक जून १९१३ तक चलती रही थी।

* खानदानी असर -
बीमारी इत्यादि का असर तो सुना है, पीढियों तक चलता है। पर इसको क्या कहेंगे जब वाशिंगटन के रोजलिन इलाके के विलियम लुमस्देंन ने अपना बायाँ हाथ एक एक्सीडेंट में खोया तो वह अपने खानदान की चौथी पीढी का ऐसा सदस्य बन गया। इसके पहले उसके परदादा, दादा और पिता उसी की उम्र में अपना बायाँ हाथ किसी न किसी हादसे में गंवा चुके थे।

* अस्थिर दिमाग का अनोखा उदाहरण -
बेल्जियम की एड्रियेंन कुयोत की २३ सालों में ६५२ बार मंगनी था ५३ बार शादी हुई। पर वह कभी भी स्थिर दिमाग नहीं रह पायी और ओसत हर १२ वें दिन उसने अपना मन बदल कर सम्बन्ध तोड़ लिए।

******इधर खुदा है, उधर खुदा है, सामने खुदा है, पीछे खुदा है, अगल खुदा है, बगल खुदा है। ******
******जहाँ नहीं खुदा है, वहाँ कल खुदेगा। हाय रे मेरा शहर!!!!!!!!!


10 टिप्‍पणियां:

अमित ने कहा…

रोचक जानकारियाँ।
धन्यवाद!
अमित

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

आपने तो इधर उधर से बहुत जानकारीयां इक्कठी कर रखी हैं.और सब की सब रोचक.

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

वाकई बहुत ही रोचक जानकारी. बहुत आभार आपका.

रामराम.

Udan Tashtari ने कहा…

मजा आया इतनी रोचक जानकारियों से भरी पोस्ट पढ़कर.

समयचक्र - महेन्द्र मिश्र ने कहा…

महाराज जी
गजब की रोचक जानकारियो का संग्रह आपने जुटाया है .क्या बात है सर जी . धन्यवाद.

ड़ा.योगेन्द्र मणि कौशिक ने कहा…

अजीबोगरीब जानकारियों के साथ जो खुदा है वह वाकई सभी से जुदा है।

ARVI'nd ने कहा…

bahut badhiya aur rochak bhi

prabhat gopal ने कहा…

majedar jankariyan, acha raha

robin raj ने कहा…

bahut accha sir..
padhkar maja ya....
kafi jankariyan bhia hame mili..
dhanyawad!

robinrajonline.blogspot.com

Ratan Singh Shekhawat ने कहा…

रोचक जानकारियाँ।

विशिष्ट पोस्ट

कोई तो कारण होगा, धर्म स्थलों में प्रवेश के प्रतिबंध का !!

अभी कुछ दिनों पहले कुछ तथाकथित आधुनिक महिलाओं ने सोशल मिडिया पर गर्व से यह  स्वीकारा था कि माह के उन  कुछ ख़ास दिनों में भी वे मंदिर जात...