मंगलवार, 24 फ़रवरी 2009

हँसना नहीं है तो मुस्कुराईये तो सही

पोता दादा जी से जिद कर रहा था सर्कस दिखाने की। चलिए ना दादा जी सर्कस में नयी-नयी चीजें दिखा रहे हैं। हाथी और गैंडा फुटबाल खेलते हैं। जोकर बहुत हंसाते हैं। पर दादा जी मान ही नहीं रहे थे, क्या बिटवा वही सब पुराने खेल हैं। पोता भी कहां मानने वाला था बोला सुना है इस में ढेर सारे घोड़े ताल में नाचते हैं। दादा जी भी नहीं मान रहे थे बोले देख तो रहे हो मेरी तबीयत ठीक नहीं लग रही है। पर पोता भी अड़ा हुआ था, बताने लगा, उपर झूले में एक साथ दस जने झूलते हैं और अबकी चीन से लड़कियां आयीं हैं जो छोटे-छोटे कपड़ों में पोल डांस करती हैं।
दादा जी उठे बोले चल इतनी जिद करता है तो चले चलता हूं। मैने भी घोड़ों को ताल पर नाचते नहीं देखा है।
*********************************************
गांव के गरीब किसान दुखीराम की दस लाख की लाटरी निकल आयी। ये खबर ले कर आने वाला एजेंट सोच रहा था कि इतनी बड़ी राशि मिलने की बात सुन कर कहीं दुखीराम को हार्ट अटैक ना हो जाये इस लिये उसने एक योजना बनाई।
दुखीराम के पास जा कर उसने कहा कि दादा यदि आप को एक लाख रुपये मिल जायें तो क्या करोगे ? दुखीराम बोला भाई घर का छप्पर ठीक कराउंगा, एक-दो बैल ले लुंगा। अच्छा दादा पांच लाख मिले तो क्या करोगे ? बिटिया की शादी कर दूंगा। अच्छा दादा यदि तुम्हें दस लाख रुपये मिल जायें तो क्या करोगे ? दस लाख!!! दुखीराम बोला, दस लाख मिल जायेंगे तो आधे तुम्हें दे दूंगा।
इतना सुनना था कि एजेंट का हार्ट फेल हो गया।

10 टिप्‍पणियां:

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

वाह भाई बुढौती मे ऐसा ही होता है.:)

रामराम.

विष्णु बैरागी ने कहा…

अरे वाह। मैं तो हंसा भी और मुस्‍कुराया भी। आज के समय में दुर्लभ दोनों चीलें आपने उपलब्‍ध करा दीं।
धन्‍यवाद।

Shikha Deepak ने कहा…

बहुत खूब।

नारदमुनि ने कहा…

muskurana wahi janta hai jo khul kar ro sakta hai. narayan narayan

P.N. Subramanian ने कहा…

हमें तो एक गीत याद आ गया "मुस्कुराओ कि जी नहीं लगता". चलिए मुस्कुरा लिए. आभार.

dhiru singh {धीरू सिंह} ने कहा…

तो आप सर्कस देख ही आये .

राज भाटिय़ा ने कहा…

शर्मा जी बहुत प्यारे लगे आप के यह चुटकले, हम ने तो दोनो काम किये हंस भी लिये ओर मुस्कुरा भी लिये.
धन्यवाद

mehek ने कहा…

ha ha lajawaab muskan:)

आलोक सिंह ने कहा…

प्रणाम
बहुत सुन्दर , वाह दादा जी चले गए ताल पर नाचते घोडे देखने जब सुना लड़किया पोल डांस कराती है और एजेंट बाबु आये थे दुखीराम के हर्दय गति को संभालने और अपनी हर्दय गति खो बैठे .
बहुत बढिया मज़ा आ गया धन्यवाद

COMMON MAN ने कहा…

हाहाहाहाहा