गुरुवार, 15 जनवरी 2009

किसी भी साल की किसी भी तारीख का दिन जाने

किसी भी साल की किसी भी तारीख का दिन बड़ी आसानी से जाना जा सकता है। इसके लिये दो तालिकायों (Tables) की जरूरत पड़ती है :-
1 :- रवीवार - 1, सोम - 2, मंगल - 3, बुध - 4, गुरु - 5, शुक्र - 6, शनि - 0 .
2 :- जनवरी - 1, फरवरी - 4, मार्च - 4, अप्रैल - 7, मे - 2, जून - 5, जुलाई - 7, अगस्त - 3, सेप्टेम्बर - 6, ओक्टूबर - 1, नवम्बर - 4, दिसम्बर - 6.
अब जिस साल का दिन जानना हो उसमें उसी साल का एक चौथाई जोड़ दें। फिर उसमें तारीख तथा महीने का नम्बर, टेबल न. 2 से ले कर जोड़ें और इसमे सात से भाग दे दें। जो भी संख्या आये उसे पहले टेबल से मिला कर देखें। वही दिन होगा। अब जैसे हमें 15 अगस्त 1947 का दिन जानना हो तो -----
47 (साल) + 11 (47/4) + 15 + 3 (टेबल में अगस्त)
____________________________________________
7
= 76/7 = बचा 6. टेबल एक में, 6 = शुक्रवार।
यानि 15 अगस्त 1947 को शुक्रवार था। है ना आसान ?

13 टिप्‍पणियां:

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत धन्यवाद जी इस कलेन्डर के लिये. आपकी पोस्ट को कापी कर लिया है.

रामराम.

संगीता पुरी ने कहा…

इसी प्रकार का एक फार्मला मेरे पास था , पर बाद में कहीं खो गया ........बहुत अच्‍छी जानकारी दी....धन्‍यवाद।

COMMON MAN ने कहा…

maine bhi tauuu ji ka anukaran kiya

"अर्श" ने कहा…

bahot badhiya....


regards
arsh

Udan Tashtari ने कहा…

दिलचस्प एवं रोचक फार्मूला!!

Amit ने कहा…

mast formula....

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

एक अच्छी जानकारी देने के लिए शुक्रिया।

PN Subramanian ने कहा…

बड़े काम की बात बताई है. बहुत आभार.

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

अरे वाह, गगन जी. गज़ब का सूत्र दिया है आपने.

seema gupta ने कहा…

बहुत धन्यवाद अच्‍छी जानकारी के लिये.

Regards

राज भाटिय़ा ने कहा…

शर्मा जी बहुत सुंदर, मेरे पास भी ऎसा ही एक जुगाड था, पता नही अब कहा हैं, आप का धन्यवाद

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

अदभुत जानकारी है यह शुक्रिया

मोहन वशिष्‍ठ ने कहा…

वाह जी वाह अब कैलेंडर की जरूरत नहीं केवल गणित का टयूशन लगाना पडेगा अच्‍छी जानकारी के लिए शुक्रिया

विशिष्ट पोस्ट

कोई तो कारण होगा, धर्म स्थलों में प्रवेश के प्रतिबंध का !!

अभी कुछ दिनों पहले कुछ तथाकथित आधुनिक महिलाओं ने सोशल मिडिया पर गर्व से यह  स्वीकारा था कि माह के उन  कुछ ख़ास दिनों में भी वे मंदिर जात...