शनिवार, 20 दिसंबर 2008

उम्र बीत जाती है एक घर बनाने में

उम्र बीत जाती है एक घर बनाने में,
लम्हा नहीं लगता उसे जलाने या मिटाने में।

9/11 में World Trade टावर पर हुए हमले में मटियामेट हुए भवनों का मलबा 18 लाख टन था। जिसे हटाने में एक लाख ट्रकों को 261 दिन लग गये थे । इसे न्यूयार्क के पास 'स्टैंटन द्विप' में डाला गया था। दमकल कर्मी 99 दिनों तक आग से जुझते रहे थे।
और अब हमारी ये इमारतें !!!!!!!!!!!

9 टिप्‍पणियां:

विवेक सिंह ने कहा…

आप अलग जानकारी जुटा कर लाते हैं . आभार !

sandhyagupta ने कहा…

उम्र बीत जाती है एक घर बनाने में,
लम्हा नहीं लगता उसे जलाने या मिटाने में।

sach kaha aapne!

dhiru singh {धीरू सिंह} ने कहा…

और फिर एक बार अलग सा विचार .

P.N. Subramanian ने कहा…

वाह ! क्या बात कही...

Sachin ने कहा…

कमाल है, चार लाइनों में ही हमारे दिल की बात कह दी आपने...!!!

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

सही कहते हैं आप। 72 घंटों में आराम तो आ गया। लेकिन जुकाम के अवशेष अभी बाकी हैं। शायद एक दो दिन में चले जाएँ।

राज भाटिय़ा ने कहा…

उम्र बीत जाती है एक घर बनाने में,
लम्हा नहीं लगता उसे जलाने या मिटाने में।

शेतान नही सोचता, यह सब बाते, लेकिन जिन पर गुजरती है वोही जानता है, आप ने बहुत ऊंची बात कह दी दो शव्दो मै.
धन्यवाद

Mired Mirage ने कहा…

हर सृजन में समय व मेहनत लगती है और विध्वंस में तो केवल घृणा ही चाहिए।
घुघूती बासूती

LAXMAN SUTHAR-moderator of webpage ने कहा…

nameste,
you are unique
great
सही कहा

visit this site also
www.mewarmaharanas.blogspot.com
www.laxmanraj.blogspot.com
www.onlinecomedy.blogspot.com