गुरुवार, 2 अक्तूबर 2008

छोटे कद पर विराट व्यक्तित्व के धनी शास्त्रीजी

एक ही दिन जन्मदिन होने के कारण छोटे कद पर विराट व्यक्तित्व के धनी शास्त्रीजी को वह सम्मान नहीं मिल पाता, जिसके वह हकदार रहे हैं। वैसे भी वह चमकदार मेहराबों के बनिस्पत नींव का पत्थर होना ज्यादा पसंद करते थे। उनकी सादगी को दर्शाते ये दो संस्मरण उस समय के हैं, जब वे प्रधान मंत्री थे।
एक बार देश की एक बड़ी कपहा बनाने वाली कंपनी ने ललिताजी के लिए कुछ सिल्क की साड़ियां उपहार स्वरुप देने की पेशकश की। साड़ियां काफी खुबसूरत तथा मुल्यवान थीं। शास्त्रीजी ने उनकी कीमत पूछी, जब काफी जोर देने पर उन्हें कीमत बताई गयी तो उन्होंने यह कह कर साफ मना कर दिया कि मेरी तन्ख्वाह इतनी नहीं है कि मैं इतनी मंहगी साड़ी ललिताजी के लिए ले सकूं, और अपने निर्णय पर वे अटल रहे।
एक बार उनके बड़े बेटे हरिकिशनजी को एक ख्याति प्राप्त घराने से अच्छे पद का प्रस्ताव मिला, उन्होंने शास्त्रीजी से अनुमती चाही, तो उन्होंने जवाब दिया कि यह नौकरी मेरे प्रधान मंत्री होने के कारण तुम्हें दी जा रही है, यदि तुम समझते हो कि तुम इस पद के साथ न्याय कर पाओगे और तुम इस के लायक हो तो मुझे कोई आपत्ती नहीं है। हरिकिशनजी ने भी वह प्रस्ताव तुरंत नामंजूर कर दिया।इन्हीं आदर्शों की वजह से चाहे अंत समय तक उनका अपना कोई घर नहीं था नही ढ़ंग की गाड़ी थी, पर वे याद किए जाएंगें, जब तक भारत और उसका इतिहास रहेगा।
आज के वंशवादी, सत्ता पिपासु तथाकथित नेता क्या ऐसा सोच भी सकते हैं। जिनमें कुछ एक को छोड़ उनके राज्य के बाहर ही कोई उन्हें नहीं जानता और ना जानना चाहता है.

2 टिप्‍पणियां:

राज भाटिय़ा ने कहा…

शरमा जी इसे कहते हे ईमानदार प्रधान मत्री, जिन का नाम सून कर भी सर गर्व से ऊचा ऊठ जाता हे...
मे तो हमेशा ही इस दिन को शास्त्री जी के जन्म दिन के रुप मे मनाता हू, गांधी जी कई बातो मे अच्छे थे, लेकिन सब मे नही,ओर अगर शास्त्री जी ज्यादा समय जिन्दा रहते तो देश की हालात कुछ ओर होती आज हम भीख का कटोरा लिये अमेरिका या युरोप की ओए ना देखते, ओर यह पकिस्तान ओर बंगला देश किसी बिल मे दुब्ब्के बेठे होते.
धन्यवाद,

Abhishek ने कहा…

शास्त्री जी वो प्रधानमन्त्री थे जो इस देश को सही से मिल नही पाया. असमय मौत ने वास्तव मे हम्से बहुत महत्वपूर्ण नेता छीन लिया!

और ये तो इस देश मे नेहरु गान्धी परिवार की मेहरबानी है कि इतने अछ्छे नेता को उसके जन्मदिन के दिन भी कोई याद नही करता!

विशिष्ट पोस्ट

कोई तो कारण होगा, धर्म स्थलों में प्रवेश के प्रतिबंध का !!

अभी कुछ दिनों पहले कुछ तथाकथित आधुनिक महिलाओं ने सोशल मिडिया पर गर्व से यह  स्वीकारा था कि माह के उन  कुछ ख़ास दिनों में भी वे मंदिर जात...