शुक्रवार, 26 सितंबर 2008

फिर टेंशन, क्या यार

संताजी ने घर आये, अपने पशु चिकित्सक से आश्चर्यचकित हो पूछा कि पता नहीं मेरी बिल्ली के बच्चे कैसे हो गये, मैं तो इसे कभी बाहर ही नहीं जाने देता हूं। तभी एक बिल्ला कमरे में आया। उसे देख चिकित्सक ने पूछा, तो यह कौन है? संताजी तुरंत बोले, कुछ तो शर्म कीजिए, डाक्टर, यह तो बिल्ली का भाई है।
*********************************************
गांव से नये-नये आये नौकर को पानी का गिलास यूंही हाथ में उठा कर लाते देख संताजी चिल्लाए, अरे गधे पानी कहीं इस तरह लाया जाता है? नौकर ने घबडा कर पूछा, फिर कैसे लाऊं, मालिक? संताजी बोले, प्लेट में रख कर लाओ। सहमा हुआ नौकर, मालिक चम्मच भी लाऊं या ऐसे ही चाट लेंगे?
*********************************************
बास अपनी सेक्रेटरी के साथ टूर पर था। एक शहर में संयोगवश एक ही डबल रूम उपलब्ध हो सका। सोते समय बास ने पूछा कि यदि मैं तुमसे अपनी पत्नी की तरह व्यवहार करूं तो बुरा तो नहीं मानोगी? सेक्रेटरी मन-ही-मन खुश हुई कि प्रोमोशन का समय आ गया, वह बोली, नहीं सर जैसा आप चाहें। तो ठीक है, उठ कर खिडकी बंद कर दो, ठंडी हवा आ रही है,

3 टिप्‍पणियां:

राज भाटिय़ा ने कहा…

अजी ड्रा० जी को नही पता था उस बिल्ले का...
मजा तो बहुत आ गया, अब आप को टिपण्णी दे कर थोडा हंस लु.
धन्यवाद

venus kesari ने कहा…

हा हा हा
खुल कर हंस लिए जी आधी रात को

तीनो चुटकुले जबरदस्त..........

वीनस केसरी

Udan Tashtari ने कहा…

हा हा!! गजब महाराज..जरा ठंडी हवा..जबरदस्त!!!